NDTV Khabar

फरीदाबाद 'बूथ कैप्चरिंग' मामला: VIDEO में दिखने वाली महिलाओं ने कहा- हमारी जगह पोलिंग एजेंट ने दबाया कमल के फूल का बटन

एनडीटीवी से बातचीत में आरोपी गिरिराज सिंह ने कहा कि उन्हें तो इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि मतदान के दौरान ईवीएम के पास जाना नियमों की अनदेखी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फरीदाबाद:

फरीदाबाद के पृथला के आसावटी गांव में तीन महिलाओं ने बीजेपी के एक कार्यकर्ता पर जबरदस्ती कमल छाप परमतदान कराने का आरोप लगाया है. शिकायतकर्ता महिला के अनुसार गांव में रहने वाले गिरिराज सिंह नाम के युवक ने उनसे जबरदस्ती कमल के फूल पर मतदान कराया है. बहरहाल इस मामले में चुनाव आयोग ने अपनी जांच शुरू कर दी है. शिकायतकर्ता महिलाओं ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि आरोपी गिरिराज ने उन्हें मतदान करते समय जबरदस्ती कमल के फूल का बटन दबाने को कहा, जबकि हम किसी दूसरी पार्टी को मतदान करना चाह रहे थे.

एनडीटीवी से बातचीत में आरोपी गिरिराज सिंह ने कहा कि उन्हें तो इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि मतदान के दौरान ईवीएम के पास जाना नियमों की अनदेखी है. उसने कहा कि मैं सिर्फ उनकी मदद करना चाहता था. उस जगह पर दो ईवीएम मशीनें थीं और फरीदाबाद से कुल 28 उम्मीदवार मैदान में हैं, और मतदान करने आई तीनों महिलाओं अशिक्षित थीं. मैं सिर्फ उन्हें बता रहा था कि आखिर ईवीएम में मतदान करते कैसे हैं. ध्यान हो कि लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) के छठे चरण के मतदान के दौरान मतदाताओं को प्रभावित करने के आरोप में एक पोलिंग एजेंट को हरियाणा के फरीदाबाद से रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया.


एजेंट का एक वीडियो टि्वटर पर वायरल होने के बाद चुनाव आयोग (Election Commission) ने कार्रवाई की है. वीडियो में दिख रहा है कि फरीदाबाद के पृथला के आसावती के एक पोलिंग बूथ के अंदर एक युवक टेबल पर नीली टीशर्ट पहनकर बैठा है. कमरे में महिला वोटर्स लाइन में खड़ी हुई दिख रही हैं. जब एक महिला वोटर वोट डाल रही होती है तो वह युवक अपनी सीट से उठता है और उसकी तरफ जाता है. इसके बाद देखकर ऐसे लग रहा है कि वह जबरन बटन दबाता है. इसके बाद वह वापस अपनी सीट पर आ जाता है. उसने दो और महिलाओं के साथ ऐसा किया. हालांकि, NDTV इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता.वीडियो में देखा जा सकता है कि कमरे में कोई अन्य अधिकारी उस युवक को रोकने वाला नहीं दिख रहा है. टि्वटर पर वीडियो शेयर करते हुए कई लोगों ने चुनाव आयोग को टैग किया और उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग की.

लोकसभा चुनाव 2019 : क्या तस्वीर हुई साफ? छठे चरण के मतदान की 11 बड़ी बातें

चुनाव आयोग से एजेंट के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश मिलने के बाद फरीदाबाद निर्वाचन विभाग ने ट्वीट किया, 'तुरंत कार्रवाई की गई. एफआईआर दर्ज की गई. एक युवक को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया गया. पर्यवेक्षक ने मामले की व्यक्तिगत रूप से पूछताछ की. और पाया की तीन महिलाओं को प्रभावित करने के अलावा और किसी तरह की गड़बड़ी नहीं हुई है.'

स्थानीय निर्वाचन विभाग ने कहा कि पोलिंग एजेंट ने कम से कम तीन महिला वोटरों को प्रभावित करने की कोशिश की थी. इसके साथ ही बताया कि वरिष्ठ चुनाव अधिकारियों ने बूथ का दौरा किया था. रविवार शाम को उस युवक को गिरफ्तार कर लिया गया. चुनाव आयोग ने कहा कि पर्यवेक्षक की रिपोर्ट मिलने के बाद उसका अध्ययन करने के लिए तय किया जाएगा कि आगे की कार्रवाई क्या की जाएगी.

 कांग्रेस को झटका: प्रियंका गांधी पर लगाया अपमान करने का आरोप, फिर नेताओं ने दिया पार्टी से इस्तीफा

बता दें, हरियाणा की सभी दस लोकसभा सीटों पर रविवार को 69.50 प्रतिशत मतदान हुआ. यहां दो केन्द्रीय मंत्रियों और एक पूर्व मुख्यमंत्री समेत 223 उम्मीदवार मैदान में थे. हरियाणा में 2014 के आम चुनाव में 71.86 प्रतिशत मतदान हुआ था. राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन ने कहा कि रात 11 बजे तक के आंकड़ों के अनुसार 69.50 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया. उन्होंने कहा कि राज्य में कोई अप्रिय घटना नहीं हुई और मतदान शांतिपूर्ण रहा.

टिप्पणियां

राज्य में कुल 1.80 करोड़ लोग मतदान के योग्य थे. सबसे अधिक मतदान प्रतिशत (रात 11 बजे तक) सिरसा संसदीय क्षेत्र (74.08) में दर्ज किया गया. उसके बाद कुरुक्षेत्र (72.70), हिसार (71.17), अंबाला (70.84), भिवानी-महेंद्रगढ़ (69.88), रोहतक (69.36), सोनीपत, (69.08) और गुड़गांव (68.45) का नंबर आता है. फरीदाबाद (64.46) और करनाल (66.16) में तुलनात्मक रूप से कम मतदान दर्ज किया गया.

सुनो छोटे भाई नीतीश, तुम अब कीचड़ वाले फूल में तीर घोंपो या छुपाओ, तुम्हारी मर्ज़ी: लालू यादव



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement