पणजी सीट पर उपचुनाव के लिए BJP ने उतारा प्रत्याशी, मनोहर पर्रिकर के बेटे को नहीं मिला टिकट

बीजेपी ने गोवा के पणजी में 19 मई को होने वाले उप चुनाव के लिए प्रत्याशी की घोषणा कर दी है. पार्टी ने पूर्व विधायक सिद्धार्थ कुंकोलिएंकर को उम्मीदवार बनाया है.

पणजी सीट पर उपचुनाव के लिए BJP ने उतारा प्रत्याशी, मनोहर पर्रिकर के बेटे को नहीं मिला टिकट

बीजेपी ने पर्रिकर के बेटे को टिकट नहीं दिया.

खास बातें

  • बीजेपी ने पणजी सीट पर प्रत्याशी की घोषणा की
  • मनोहर पर्रिकर के बेटे को नहीं दिया टिकट
  • इस सीट से सिद्धार्थ कुंकोलिएंकर को उम्मीदवार बनाया
नई दिल्ली :

बीजेपी ने गोवा के पणजी में 19 मई को होने वाले उप चुनाव के लिए प्रत्याशी की घोषणा कर दी है. पार्टी ने पूर्व विधायक सिद्धार्थ कुंकोलिएंकर को उम्मीदवार बनाया है. इसके साथ ही उन कयासों पर भी विराम लग गया है कि है कि इस सीट से पूर्व सीएम मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल पर्रिकर चुनाव लड़ सकते हैं. आपको बता दें कि पणजी सीट गोवा के पूर्व मख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के कारण खाली हो गई थी. जिस पर उप चुनाव कराया जा रहा है. भाजपा के केंद्रीय चुनाव समिति के सदस्य जगत प्रकाश नड्डा ने रविवार दोपहर बाद उनकी उम्मीदवारी का ऐलान किया. आपको बता दें कि गोवा में 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में पणजी सीट से सिद्धार्थ ही विजयी हुए थे. बाद में उन्होंने मनोहर पर्रिकर के लिए यह सीट छोड़ दी थी.

'जारी रखेंगे पिता की विरासत': मनोहर पर्रिकर के बेटों ने दिए राजनीति में आने के संकेत

Newsbeep

पर्रिकर उस समय रक्षा मंत्री थे और उन्हें गोवा का मुख्यमंत्री बनाया गया था. आपको बता दें कि मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद से ही गोवा में यह कयास लगने शुरू हो गए थे कि उनके पुत्र उत्पल और अभिजात लोकसभा चुनाव या अपने पिता के निधन से बाद पणजी विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ सकते हैं. उनके बेटों ने खुद एक बयान में इस बात का संकेत भी दिया था. ब्रिटिश प्रधानमंत्री बेंजामिन डिजराइली को कोट करते हुए बेटों की ओर से जारी बयान में कहा गया था, "हम राज्य और राष्ट्र के लिए उनकी सेवा और समर्पण की विरासत को जारी रखते हुए उनके जीवन का सम्मान करेंगे." हालांकि पणजी सीट पर उम्मीदवार की घोषणा के साथ ही अटकलों पर विराम लग गया है. (इनपुट-भाषा से भी) 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को अंतिम विदाई