NDTV Khabar

इस नेता के नाम है लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ी जीत, तोड़ चुकी हैं पीएम मोदी का रिकॉर्ड

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में कई ऐसे नेता हैं जिन्होंने सबसे ज्यादा वोटों से रिकॉर्ड जीत दर्ज की है. 2019 लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में भी नेताओं की कोशिश होगी कि इनका रिकॉर्ड तोड़ा जाए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इस नेता के नाम है लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ी जीत, तोड़ चुकी हैं पीएम मोदी का रिकॉर्ड

गोपीनाथ मुंडे की बेटी प्रीतम मुंडे ने 2014 लोकसभा चुनाव में 6.9 लाख वोट से जीता था चुनाव.

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में कई ऐसे नेता हैं जिन्होंने सबसे ज्यादा वोटों से रिकॉर्ड जीत दर्ज की है. 2019 लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में भी नेताओं की कोशिश होगी कि इनका रिकॉर्ड तोड़ा जाए. 2014 में हुए लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2014) में कई चेहरे ऐसे थे जिन पर जनता ने पूरा भरोसा जताया और वोटों की वर्षा की. इस लिस्ट में बीजेपी के दिग्गज नेता गोपिनाथ मुंडे (Gopinath Munde) की बेटी प्रीतम मुंडे (Pritam Munde) टॉप पर हैं. 2014 लोकसभा चुनाव में उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का भी रिकॉर्ड तोड़ दिया था. सबसे ज्यादा वोटों से जीत के मामले में प्रीतम मुंडे (Pritam Munde) के अलावा सीपीआई-एम के नेता स्वर्गीय अनिल बसु (Anil Basu), पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय पीवी नरसिम्हा राव (PV Narasimha Rao) भी शामिल हैं. हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे लोकसभा सांसद जो सबसे ज्यादा अंतर से जीतकर रिकॉर्ड जीत दर्ज कर चुके हैं. 

तेलंगाना में अमित शाह का विपक्ष पर हमला- पाक नहीं, 'राहुल, चंद्रबाबू नायडू मांग रहे सबूत'

pankaja nad pritam munde

प्रीतम मुंडे (Pritam Munde)
प्रीतम मुंडे बीड लोकसभा सीट से सांसद हैं. 2014 में मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री पद की शपथ लेने के 9 दिन बाद ही गोपीनाथ मुंडे की एक्सीडेंट में मौत हो गई. इसके बाद बीड लोक सभा सीट पर उपचुनाव हुए. इस सीट पर गोपीनाथ मुंडे की बेटी प्रीतम मुंडे ने चुनाव लड़ा और 9,22,416 वोट मिले. उन्होंने एनसीपी के सुरेश रामचंद्र को 6,96,321 वोटों से हराया. सुरेश रामचंद्र को 4,99,541 वोट मिले. तीसरे स्थान पर बीएसपी के दिगंबर रामराव राठौर रहे जिन्हें 14,166 वोट मिले थे.

'तीन-पांच' के सियासी खेल में आखिरकार पिछड़ी RLD, हरसंभव प्रयास भी नहीं दे पाई मनचाहा नतीजा

सीपीआई-एम नेता अनिल बसु (Anil Basu)
1984 में अनिल बसु पहली बार आरामबाग लोकसभा क्षेत्र से सीपीएम से सांसद बने थे इसके बाद 1989, 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 तक अपनी विजय यात्रा जारी रखी. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के अनिल बसु ने 2004 लोकसभा चुनाव में रिकॉर्ड जीत दर्ज की थी. उनको 7,44,464 लाख वोट मिले थे. उन्होंने बीजेपी के स्वपन कुमार नंदी को 5,92,502 वोट से हराया था. स्वपन कुमार नंदी को 1,51,962 लाख वोट ही मिले थे. 2012 में अनिल बसु को पार्टी विरोधी गतिविधियों और अनुशासनहीनता के कारण पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था. 

पीएम नरेंद्र मोदी कर्नाटक और तमिलनाडु में करेंगे चुनावी रैली, देंगे कई परियोजनाओं की सौगात

pv narasimha rao

पीवी नरसिम्हा राव (PV Narasimha Rao)
इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव हैं. 1991 में आंध्र प्रदेश के नांदयाल से वो चुनाव लड़े थे. उन्हें 6,26,241 लाख वोट मिले थे. उन्होंने बीजेपी के बंगारू लक्ष्मण को 5.8 लाख वोटों से हराया था. बंगारू लक्ष्मण को सिर्फ 45 हजार वोट ही मिले थे. उस दौरान उनकी जीत गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुई थी. वो 1991 से 1996 तक प्रधानमंत्री रहे. वो दक्षिण भारत से आने वाले पहले प्रधानमंत्री थे. 

आम आदमी पार्टी ने कहा- दिल्ली में बीजेपी और कांग्रेस के बीच हुआ अघोषित गठबंधन

f9lrvp2o

नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)
भारत के 14वें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस लिस्ट में चौथे नंबर पर हैं. वो 2014 लोकसभा चुनाव में वडोदरा सीट से लड़े थे.  उनको 8,45,464 लाख वोट मिले थे. उन्होंने कांग्रेस के मधुसुदन मिस्त्री को 5,70, 128 वोटों से हराया था. मधुसुदन मिस्त्री को 2,75,336 मिले थे. बाद में उन्होंने ये सीट छोड़ दी और वाराणसी सीट से चुनाव लड़ा और आम आदमी पार्टी चीफ अरविंद केजरीवाल को हराया था. जिसके बाद वडोदरा में उपचुनाव हुए. जहां बीजेपी के रंजनबेन धनंजय भट्ट ने कांग्रेस के नरेंद्र अंबालाल रावत को हराया था. 

लोकसभा चुनाव 2019 : मध्यप्रदेश की विदिशा सीट पर क्यों टिकीं सबकी नजरें

ram vilas paswan 625 300
टिप्पणियां

राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan)

राम विलास पासवान ने 1989 लोकसभा चुनाव में रिकॉर्ड जीत दर्ज की थी. जनता दल की तरफ से लड़ते हुए उनको 6,15,129 लाख वोट मिले थे. उन्होंने कांग्रेस के महाबीर पासवान को 5 लाख वोट से हराया. महाबीर पासवान को 1,10,681 वोट मिले थे. इससे पहले भी वो रिकॉर्ज जीत दर्ज कर चुके हैं. वो 1977 में भारतीय लोक दल के टिकट से लड़े थे और 4.2 लाख वोट से जीत दर्ज की थी. फिलहाल राम विलास पासवान लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष हैं और मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement