NDTV Khabar

बीजेपी का फैसला: 75 साल से उपर के नेता लड़ सकेंगे चुनाव, लेकिन पार्टी या सरकार में नहीं मिलेगा कोई पद

लोकसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से 75 साल की उम्र से उपर के नेता भी किस्मत आजमा सकेंगे. नेताओं के चुनाव लड़ने पर कोई रोक नहीं रहेगी. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. 75 साल की उम्र से उपर के नेता लड़ सकेंगे चुनाव
  2. लेकिन पार्टी या सरकार में नहीं मिलेगा कोई पद
  3. बीजेपी की संसदीय बोर्ड की बैठक में हुआ फैसला
नई दिल्ली :

लोकसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से 75 साल की उम्र से उपर के नेता भी किस्मत आजमा सकेंगे. नेताओं के चुनाव लड़ने पर कोई रोक नहीं रहेगी. कल देर रात तक चली बीजेपी की संसदीय बोर्ड की बैठक में पार्टी ने अपनी चुनावी रणनीति को अंतिम रूप दिया. बैठक के दौरान पिछले तीन महीने चले पार्टी के तमाम कार्यक्रमों की समीक्षा की गई. तीन घंटे चली बैठक में पीएम मोदी, अमित शाह, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, नितिन गड़करी, राजनाथ सिंह, जेपी नाड्डा, थावरचंद गहलोत, राम लाल, शिवराज सिंह चौहान मौजूद रहे. बैठक में लोकसभा चुनाव की घोषणा से ठीक पहले उम्मीदवार तय करने के पैमानों पर चर्चा की गई. बैठक में इस तय किया गया कि सांसदों को उनके पिछले पांच साल के प्रदर्शन के हिसाब से दोबारा टिकट देने या न देने पर निर्णय होगा. इस बार खासकर समाज के प्रतिष्ठित लोगों को बीजेपी में लाकर टिकट दिया जा सकता है. इनमें सेना, समाजसेवा, डॉक्टर, इंजीनियर, क्रिकेटर इत्यादि शामिल हैं.

अब गाजियाबाद में लगे रॉबर्ट वाड्रा के पोस्टर, लिखा- 'गाजियाबाद करे पुकार, रॉबर्ट वाड्रा अबकी बार'


बताया जा रहा है कि 75 पार नेताओं को टिकट देने के मामले में बीजेपी लचीला रुख रखेगी. आडवाणी और जोशी के मामले में चुनाव लड़ने या न लड़ने का फैसला उन्हीं पर छोड़ा गया है. वहीं, 75 पार अन्य नेताओं के चुनाव लड़ने पर रोक नहीं है, लेकिन उन्हें पार्टी या सरकार में कोई पद नहीं दिया जाएगा. वहीं, इस बार कई सीटों पर मौजूदा सांसदों के टिकट काटे जाने की संभावना है. इसके लिए सांसदों का प्रदर्शन, नमो ऐप पर सर्वे रिपोर्ट और संगठन के फ़ीडबैक के आधार पर  फैसला होगा.  कई नए व युवा चेहरों को भी मौका दिया जाएगा. बीजेपी की बैठक में तीन राज्यों में विधानसभा चुनाव में हार के बाद अब तक के बदले माहौल को लेकर भी चर्चा हुई. पार्टी  का मानना है कि पुलवामा की आतंकी घटना के बाद आतंकवाद के खिलाफ सरकार की कार्रवाई से माहौल में सकारात्मक बदलाव आया है. बीजेपी राष्ट्रवाद, राष्ट्रीय सुरक्षा, आतंकवाद से लड़ाई पर प्रचार में फ़ोकस  करेगी. मोदी सरकार की ग़रीब कल्याण योजनाओं का जिक्र भी होगा. उम्मीदवारों के ऐलान के साथ ही पीएम मोदी की रैलियां शुरू की जाएंगी. इस बार पीएम हर दिन तीन से चार रैलियां करेंगे. 

टिप्पणियां

अल्पेश ठाकोर के कांग्रेस से अलग होने की अफवाहें तेज, थाम सकते हैं बीजेपी का दामन

बीजेपी में कई नेताओं के कटेंगे लोकसभा टिकट​


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement