येदियुरप्पा ने जेडीएस के समर्थन से सरकार बनाने से किया मना, कहा- नहीं दोहराना चाहते गलतियां

लोकसभा चुनाव 2019 में कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस को महज एक-एक सीटें ही नसीब हो सकीं.

येदियुरप्पा ने जेडीएस के समर्थन से सरकार बनाने से किया मना, कहा- नहीं दोहराना चाहते गलतियां

बीएस येदियुरप्पा (फाइल फोटो)

बेंगलुरू:

लोकसभा चुनाव में हार के बाद जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के टूटने की आशंकाओं के बीच कर्नाटक बीजेपी प्रमुख बीएस येदियुरप्पा (BS Yeddyurappa) ने रविवार को कहा कि पार्टी ऐसी हालत में विधानसभा का नया चुनाव कराने की पक्षधर है. उन्होंने नयी सरकार के गठन के लिये क्षेत्रीय पार्टी के साथ साझेदारी से भी इनकार कर दिया.  येदियुरप्पा ने कहा, ‘जेडीएस की मदद से सरकार बनाना असंभव है. कुमारस्वामी (HD Kumaraswamy) के मुख्यमंत्री रहते हुए मुझे 20-20 शासन का कड़वा अनुभव रहा है' उन्होंने कहा, ‘मैं गलतियां दोहराना नहीं चाहता.' एक सवाल के जवाब में येदियुरप्पा ने कहा कि पार्टी राज्य में फिर से चुनाव कराने की पक्षधर है.

यह भी पढ़ें:  कर्नाटक में क्या कुमारस्वामी कांग्रेस से नाता तोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बनाएंगे?

बता दें लोकसभा चुनाव 2019 में कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस को महज एक-एक सीटें ही नसीब हो सकीं. कर्नाटक में कांग्रेस का ये  अब तक का सबसे बदतर प्रदर्शन माना जा रहा है. वहीं बीजेपी ने  रिकॉर्ड प्रदर्शन किया है. लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को गुलबर्गा और पूर्व प्रधानमंत्री और जेडीएस सुप्रीमो एच डी देवगौड़ा को तुमकुर सीट पर बीजेपी उम्मीदवारों के सामने हार का सामना करना पड़ा.  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Karnataka Election Results 2019: कर्नाटक में BJP ने किया कांग्रेस का सूपड़ा साफ, कुमारस्वामी की सरकार के लिए खतरे की घंटी

गौरतलब है एक साल पहले कुमारस्वामी ने राज्य में गठबंधन सरकार के प्रमुख के रूप में शपथ ली थी. कुमारस्वामी के मुख्यमंत्री बनने से पहले राज्य में राजनीतिक नाटक हुआ था जब बीजेपी के नेता बी एस येदियुरप्पा को विधानसभा में बहुमत साबित नहीं कर पाने के बाद तीन दिन पुरानी सरकार के मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था. कुमारस्वामी के 23 मई 2018 को शपथ ग्रहण समारोह में देशभर के कई प्रमुख नेता एकसाथ मंच पर नजर आए थे और इसे लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी विरोधी गठबंधन की संभावनाओं के रूप में देखा गया था.  अब, लोकसभा चुनाव के नतीजे बीजेपी के पक्ष में आए हैं. ऐसे में गठबंधन की स्थिरता खुद दांव पर है.  (इनपुट-भाषा)