NDTV Khabar

हेमंत करकरे पर साध्‍वी प्रज्ञा के बयान से सियासी तूफान, कांग्रेस ने कहा- मोदी जी देश से माफी मांगे

भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के उम्‍मीदवार साध्‍वी प्रज्ञा के बयान पर सियासी गलियारों में तूफान खड़ा हो गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हेमंत करकरे पर साध्‍वी प्रज्ञा के बयान से सियासी तूफान, कांग्रेस ने कहा- मोदी जी देश से माफी मांगे

साध्वी प्रज्ञा के बयान पर सियासी तूफान मच गया है.

खास बातें

  1. साध्वी प्रज्ञा के बयान पर सियासी घमासान
  2. संजय सिंह ने कहा, शहीदों का अपमान किया
  3. तो कुमार विश्वास ने भी कड़ी प्रतिक्रिया दी
नई दिल्ली :

भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के उम्‍मीदवार साध्‍वी प्रज्ञा के बयान पर सियासी गलियारों में तूफान खड़ा हो गया है. साध्‍वी प्रज्ञा ने कहा था, ''मैंने उसे कहा था तेरा (हेमंत करकरे) सर्वनाश होगा, उसने मुझे गालियां दी थीं. जिस दिन मैं गई तो उसके यहां सूतक लगा था और जब उसे आतंकियों ने मारा तो सूतक खत्म हुआ.'' साध्‍वी प्रज्ञा के बयान आने के बाद कई नेताओं ने काफी तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त की है. कांग्रेस पार्टी के प्रवक्‍ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने तंज कसते हुए कहा कि केवल भाजपाई ही 26/11 के शहीद हेमंत करकरे को देशद्रोही घोषित करने का जुर्म कर सकते हैं. ये देश के हर सैनिक का अपमान है जो आतंकवाद से लड़ते हुए भारत मां के लिए प्राणों की क़ुर्बानी देता है. देश से माफ़ी मांगिए और प्रज्ञा पर कार्रवाई कीजिए.

उधर आम आदमी पार्टी के नेता और राज्‍यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा है कि शहीद हेमंत करकरे की शहादत का अपमान करने वाली प्रज्ञा ठाकुर हैं भाजपा की प्रत्याशी. कहां हैं मोदी जी? शहीद के नाम पर वोट मांगते हैं और अपमान करने वाली को टिकट देते हैं. दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्‍यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी इसकी निंदा की है. मनीष सिसोदिया ने कहा है कि मुंबई आतंकी हमले में भारत माता की रक्षा के लिए जान देने वाले शहीद हेमंत करकरे की शहादत पर सवाल उठा रही है बीजेपी. यही है बीजेपी की देशभक्ति?


आम आदमी पार्टी के नेता और कवि कुमार विश्‍वास ने भी इसकी निंदा की है. उन्‍होंने कहा है कि मुम्बई आतंकी हमले में आतंकवादियों से सीधे भिड़ने वाले शहीद हेमंत करकरे के बलिदान को “उसके कर्मों की सज़ा” बता रही हैं भोपाल-प्रत्याशी जो मंच पर बैठे हैं वो एक चुनावी हार-जीत के लिए, बेशर्मी से ताली बजा रहे हैं? देश के लिए वर्दी में शहीद हो चुके एक सिपाही के साथ ये सलूक? आपको बता दें कि साध्‍वी प्रज्ञा को भारतीय जनता पार्टी ने भोपाल से मैदान में उतारा है. यहां उनका मुकाबला कांग्रेस नेता दिग्‍व‍िजय सिंह से है. साध्‍वी प्रज्ञा ने अपने एक चुनावी सभा में खुद के साथ हुई ज्‍यादती का जिक्र करते हुए कहा था कि हेमंत करकरे ने उन्हें ग़लत तरीक़े से फंसाया.

प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि एक अधिकारी ने हेमंत करकरे से उन्हें छोड़ने का कहा था लेकिन करकरे ने कहा था कि वो कुछ भी करेंगे, सबूत लाएंगे लेकिन साध्वी को नहीं छोड़ेंगे. साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि हेमंत करकरे का ये क़दम देशद्रोह था, धर्मविरुद्ध था.साध्‍वी प्रज्ञा ने कहा कि जब मुझे गैरकानूनी तरीके से लेकर गए तो 13 दिन तक रखा. हिरासत में मुझे मोटे बेल्ट से पीटा गया. उसे झेलना आसान नहीं था. पूरा शरीर सूज जाता था, सुन्न पड़ जाता था. दिन और रात पीटते थे. मैं आपको अपनी पीड़ा नहीं बता रही हूं. लेकिन इतना कह रही हूं कि कोई महिला कभी इस पीड़ा का सामना न करे. पीटते-पीटते गंदी गालियां देते थे. वे कहलवाना चाहते थे कि तुमने एक विस्फोट किया है और मुस्लिमों को मारा है. सुबह हो जाती थी पिटते-पिटते, पीटने वाले लोग बदल जाते थे लेकिन पिटने वाली मैं सिर्फ अकेले रहती थी.' 

प्रज्ञा ठाकुर को चुनकर मोदी-शाह ने दिखा दिया, जीत के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं...

टिप्पणियां

उधर, प्रज्ञा सिंह ठाकुर की टिप्पणी पर कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह ने भी कड़ी प्रतिक्रिया दी है. दिग्विजय सिंह  ने कहा, "चुनाव आयोग ने स्पष्ट कहा है कि सेना तथा शहीदों को लेकर कोई राजनैतिक टिप्पणी नहीं की जानी चाहिए... हेमंत करकरे जी ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी थे, जो एक आतंकवादी हमले के दौरान मुंबई के लोगों के लिए शहीद हो गए थे..."

13 दिन मुझे गैरकानूनी तरीके से हिरासत में रखकर टॉर्चर किया गया : साध्‍वी प्रज्ञा​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement