NDTV Khabar

भोपाल सीट: 1989 के बाद 8 चुनाव, मगर कांग्रेस को जीत नसीब नहीं, 'सबसे कठिन राह' पर दिग्विजय सिंह

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Polls 2019) के लिए कांग्रेस उम्मीदवारों की सूची जारी करती जा रही है. कांग्रेस ने शनिवार को अपनी जो आठवीं सूची जारी की है और उसमें कांग्रेस के दिग्विजय सिंह का नाम भी शामिल है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भोपाल सीट: 1989 के बाद 8 चुनाव, मगर कांग्रेस को जीत नसीब नहीं, 'सबसे कठिन राह' पर दिग्विजय सिंह

राहुल गांधी और दिग्विजय सिंह (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Polls 2019) के लिए कांग्रेस उम्मीदवारों की सूची जारी करती जा रही है. कांग्रेस ने शनिवार को अपनी जो आठवीं सूची जारी की है और उसमें कांग्रेस के दिग्विजय सिंह का नाम भी शामिल है. शनिवार की रात जारी सूची के मुताबिक पार्टी ने वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह को भोपाल से उम्मीदवार बनाया है. मध्य प्रदेश में भोपाल को कांग्रेस के लिहाज से सबसे मुश्किल और कठिन सीटों में गिना जाता है और इस बार इस सीट को जीताने का दारोमदार दिग्विजय सिंह को दिया गया है. सूत्रों की मानें तो कांग्रेस की यह रणनीति है कि कठिन सीटों पर कद्दावर नेताओं को उतारा जाए ताकि उस सीट को कांग्रेस किसी तरह अपने कब्जे में ले सके. 

दरअसल, भोपाल संसदीय क्षेत्र कांग्रेस के लिए कठिन सीटों में गिना जाता है. ऐसा इसलिए क्योंकि वर्ष 1989 के बाद अर्थात तीन दशकों से यहां पर कांग्रेस को जीत नसीब नहीं हुई है. लिहाजा कांग्रेस की कोशिश राज्य की उन कठिन सीटों पर विशेष ध्यान केंद्रित करने की है, जहां से बीते तीन या उससे ज्यादा चुनावों से कांग्रेस को लगातार हार मिल रही है. कठिन सीटों पर दमदार चेहरा उतारने की कांग्रेस ने रणनीति बनाई है. उसके संकेत भी अब मिलने लगे हैं.


मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शनिवार को यहां मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भोपाल संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने की घोषणा की. 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को पत्रकारों के लिए आयोजित एक समारोह में यहां कहा, "केंद्रीय चुनाव समिति ने तय कर लिया है कि दिग्विजय सिंह भोपाल से चुनाव लड़ेंगे. इस नाम की मैं घोषणा कर सकता हूं." साथ ही उन्होंने कहा, "दिग्विजय सिंह को इंदौर, जबलपुर अथवा भोपाल से चुनाव लड़ने के लिए कहा गया था अंत में तय हुआ है कि दिग्विजय सिंह भोपाल से चुनाव लड़ेंगे."

ज्ञात हो कि कमलनाथ ने पिछले दिनों कहा था कि दिग्विजय सिंह को कठिन सीट से चुनाव लड़ना चाहिए लिहाजा कमलनाथ द्वारा कही गई बात पर केंद्रीय चुनाव समिति ने भी मुहर लगा दी है. यह वह संसदीय क्षेत्र है जहां लंबे अरसे से कांग्रेस को जीत नहीं मिली है. कमलनाथ से पूछा गया कि भोपाल से चुनाव लड़ाए जाने के फैसले से दिग्विजय सिंह खुश हैं क्या, तो कमलनाथ ने कहा, "यह तो उन्हीं से पूछिए, मगर मैं तो खुश हूं." 

दिग्विजय सिंह को भोपाल से चुनाव लड़ाए जाने का ऐलान किए जाने के बाद कांग्रेस के भीतर से ही आवाज उठने लगी है कि राज्य की जबलपुर, ग्वालियर, इंदौर, विदिशा आदि वे सीटें हैं जहां से पार्टी को पिछले कई चुनाव से जीत नहीं मिली हैं. यह भी कठिन सीटों की श्रेणी में आती हैं, क्या यहां भी ताकतवर नेता को मैदान में उतारा जाएगा. 

बता दें कि दिग्विजय सिंह ने राज्य विधानसभा का अंतिम चुनाव वर्ष 2003 में लड़ा था. इस चुनाव में कांग्रेस को मिली हार के बाद उन्होंने 10 साल तक कोई चुनाव न लड़ने का ऐलान किया था. उसके चलते उन्होंने अब तक कोई चुनाव नहीं लड़ा है. दिग्विजय सिंह वर्तमान में राज्यसभा सदस्य हैं. कांग्रेस के डेढ़ दशक बाद राज्य में सत्ता की वापसी हुई है और अब दिग्विजय सिंह भी चुनाव लड़ने को तैयार हुए हैं. 

भोपाल संसदीय क्षेत्र के अब तक के चुनावों पर नजर दौड़ाएं तो पता चलता है कि यह संसदीय क्षेत्र भाजपा का गढ़ बन चुका है. भोपाल में वर्ष 1989 के बाद से हुए सभी आठ चुनाव में भाजपा के उम्मीदवारों को जीत मिली है. यहां से सुशील चंद्र वर्मा, उमा भारती, पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी और आलोक संजर चुने जा चुके हैं. वहीं इस संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के अब तक छह सांसद चुने गए उनमें पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा प्रमुख रहे हैं. इसी तरह वर्ष 1967 में जनसंघ और वर्ष 1977 के चुनाव में लोकदल से आरिफ बेग निर्वाचित हुए थे.

टिप्पणियां

मध्य प्रदेश में लोकसभा की 29 सीटें हैं, जिनमें से 26 पर भाजपा का कब्जा है, तीन स्थानों पर कांग्रेस के सांसद हैं. छिंदवाड़ा से कमलनाथ, गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया और रतलाम से कांतिलाल भूरिया सांसद हैं. (इनपुट आईएएनएस से)

Video: दिग्विजय को कमलनाथ की सलाह



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement