NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव की तारीखों को लेकर सस्पेंस बरकरार, इस हफ्ते भी ऐलान मुश्किल! कहीं ये वजह तो नहीं

Election 2019 Date: आम चुनावों की तारीखों (Election 2019 Date) को लेकर सस्पेंस अब तक बना हुआ है. प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों (PM Modi) को देखते हुए ऐसा लग रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. PM के कार्यक्रम देखकर अंदाज़ा
  2. 9 मार्च को PM के 3 कार्यक्रम
  3. जल्द एलान चाहता है विपक्ष
नई दिल्ली:

Election 2019 Date: आम चुनावों की तारीखों (Election 2019 Date) को लेकर सस्पेंस अब तक बना हुआ है. हालांकि 2014 के आधार पर ये माना जा रहा था कि इस हफ़्ते चुनावों (Lok Sabha Election 2019) की घोषणा हो जाएगी, क्योंकि 2014 में 5 मार्च को चुनाव की तारीखों (Election Date) का एलान हुआ था. लेकिन प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों (PM Modi) को देखते हुए ऐसा लग रहा है कि चुनाव के ऐलान का अभी और इंतज़ार करना होगा. 9 मार्च को PM मोदी के 3 कार्यक्रम हैं. वह खुर्जा में थर्मल प्लांट का उद्घाटन भी उसी दिन करेंगे. इसके अलावा पीएम मोदी ग्रेटर नोएडा में दीनदयाल इंस्टीट्यूट का उद्घाटन भी करेंगे. इसके अलावा नोएडा में मेट्रो के सेक्‍टर 62 रूट को भी हरी झंडी दिखाएंगे.

Election 2019 Date: चुनाव की तारीखों के ऐलान को लेकर कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला, क्या इस वजह से चुनाव आयोग कर रहा देरी!


बता दें कि कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव की तारीखों (Lok Sabha Election 2019 Date) के ऐलान में देरी को लेकर चुनाव आयोग पर निशाना साधा है. विपक्ष का कहना है कि यह देरी इसलिए की जा रही है, ताकि सरकार आचार संहिता लागू होने से पहले कुछ घोषणा कर सके. वहीं चुनाव आयोग (Election Commision) के अधिकारियों ने एनडीटीवी को बुधवार को बताया, 'लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान करने में अभी काफी वक्त है और कुछ राजनीतिक दलों द्वारा जानबूझकर देरी के आरोप अनुचित हैं.'

यह भी पढ़ें: Election 2019 Date: जल्द हो सकती है लोकसभा चुनाव के तारीखों की घोषणा, इतने चरण में हो सकते हैं चुनाव

एक सीनियर अधिकारी ने एनडीटीवी को बताया, 'हम प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के अनुसार काम नहीं करते हैं, हमारा अपना कार्यक्रम है.' बता दें, साल 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए पांच मार्च को चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया था. चुनाव की तारीखों का पिछली बार की तरह मार्च के पहले सप्ताह में ऐलान न होने के बाद विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग पर जानबूझकर देरी का आरोप लगाया है ताकि सरकार कुछ घोषणाएं कर सके, जो कि आचार संहिता लागू होने के बाद नही कर पाएंगे. ऐसे ही आरोप गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले भी लगे थे.

बता दें, इस बार कांग्रेस (Congress) ने नरेंद्र मोदी सरकार पर सरकारी कार्यक्रमों का इस्तेमाल राजनीतिक सभाओं के लिए करने का आरोप लगाते हुए सवाल किया कि क्या चुनाव आयोग आम चुनाव की तिथियों की घोषणा करने के लिए प्रधानमंत्री के आधिकारिक कार्यक्रमों के पूरा होने का इंतजार कर रहा है. पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल (Ahmed Patel) ने ट्वीट कर यह भी दावा किया कि सरकार अपने आखिरी मिनट तक सरकारी पैसों का उपयोग अपने प्रचार के लिए करने की कोशिश कर रही है.

Election 2019 Date: जल्द हो सकती है लोकसभा चुनाव के तारीखों की घोषणा, इतने चरण में हो सकते हैं चुनाव

साथ ही उन्होंने पूछा पूछा, 'क्या चुनाव आयोग आम चुनाव के लिए तिथियों की घोषणा से पहले प्रधानमंत्री के 'आधिकारिक' यात्रा कार्यक्रमों के पूरा होने का इंतजार कर रह है?' अहमद पटेल ने दावा किया, 'सरकारी कार्यक्रमों का इस्तेमाल राजनीतिक सभाओं, टीवी/रेडियो एवं प्रिंट पर राजनीतिक विज्ञापनों लिए हो रहा है. ऐसा लग रहा है कि चुनाव आयोग सरकार को पूरी छूट दे रहा है कि वह आखिरी मिनट तक पैसे का उपयोग करे.'

भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में तनाव के बीच चुनाव आयोग ने कहा- लोकसभा चुनाव समय पर ही होंगे

उधर, चुनाव आयोग के सूत्रों का कहना है कि लोकसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा (2019 Election Date) मार्च के दूसरे हफ्ते में हो सकती है. बताया जा रहा है कि चुनाव 6 से 7 चरणों में हो सकते हैं. उधर, पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर चुनाव की फर्जी तारीखों की पोस्ट भी वायरल हो रही है. इसे संज्ञान में लेते हुए दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने आईपीसी की विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कराया था. मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय ने फेसबुक और ट्विटर को संबंधित कंटेट के लिए भी कहा था.

टिप्पणियां

Surgical Strikes 2 : पाकिस्तान से तनाव पर क्या लोकसभा चुनाव के कार्यक्रम पर पड़ेगा असर, चुनाव आयोग ने दिया जवाब 

VIDEO- अहमद पटेल ने चुनाव आयोग पर साधा निशाना



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement