NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव 2019: प्रज्ञा ठाकुर के नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहने पर हंगामा जारी, प्रियंका गांधी ने दिया यह बयान

लोकसभा चुनाव 2019: नाथूराम गोडसे पर भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) के बयान पर हंगामा जारी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव 2019: प्रज्ञा ठाकुर के नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहने पर हंगामा जारी, प्रियंका गांधी ने दिया यह बयान

खास बातें

  1. प्रज्ञा ठाकुर के नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहने पर हंगामा
  2. बीजेपी का प्रज्ञा के बयान से किनारा, प्रियंका बोलीं- यह पर्याप्त नहीं
  3. बीजेपी के राष्ट्रवादी दिग्गज रुख साफ करें- प्रियंका गांधी
नई दिल्ली:

नाथूराम गोडसे पर भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) के बयान पर हंगामा जारी है. हालांकि बीजेपी (BJP) ने प्रज्ञा के इस बयान से खुद को अलग कर लिया लेकिन फिर भी वह विपक्ष के निशाने पर है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इस मुद्दे पर बीजेपी पर हमला बोला है. उन्होंने तंज कसते हुए कहा, 'बापू का हत्यारा देशभक्त? हे राम! खुद को अपने उम्मीदवार से अलग कर लेना ही काफी नहीं है. बीजेपी के राष्ट्रवादी दिग्गजों को तुम्हारा रुख साफ करने की हिम्मत है.' दरअसल लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में चुनाव प्रचार के दौरान साध्वी प्रज्ञा ठाकुर से NDTV के सहयोगी ज़फर मुल्तानी ने महात्मा गांधी की हत्या करने वाले 'नाथूराम गोडसे' को लेकर एक सवाल पूछा था, जिसपर साध्वी ने विवादित बयान दिया.

ये भी पढ़ें: प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त', BJP ने बयान से किया किनारा तो मांगनी पड़ी माफी


साध्वी ने कहा था, 'नाथूराम गोडसे देश भक्त थे, हैं और रहेंगे. उनको आतंकवादी कहने वाले लोग खुद के गिरेबान में झांक कर देखें, ऐसा बोलने वालों को इस चुनाव में जवाब दे दिया जाएगा.' साध्वी के इस बयान पर सियासी गलियारों में हलचल मच गई थी और विपक्ष ने बीजेपी पर निशाना साधा था.  हालांकि नाथूराम गोडसे वाले बयान पर बीजेपी प्रज्ञा ठाकुर से सहमत नहीं है. प्रज्ञा ने प्रदेश अध्यक्ष से माफी मांगी और उन्होंने अपना बयान वापस ले लिया.  

ये भी पढ़ें: चुनाव 2019: प्रज्ञा ठाकुर के नाथूराम गोडसे पर दिए बयान को लेकर कांग्रेस का हमला- कहा- 'भाजपाई ही गोडसे के असली वंशज'

बता दें, इससे पहले प्रज्ञा ने कहा था आतंकवादी विरोधी दस्ते (एटीएस) प्रमुख करकरे ने मालेगांव विस्फोट मामले की जांच के दौरान उन्हें यातनाएं दी थीं और उनके शाप की वजह से ही करकरे की 26/11 आतंकवादी हमले में मौत हुई थी. इसके अलावा उन्होंने एक बयान दिया था कि 1992 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में शामिल होने के लिये उन्हें अपने ऊपर गर्व है.

टिप्पणियां

VIDEO: शहीद हेमंत करकरे के खिलाफ बयान वापस लेती हूं: साध्वी प्रज्ञा



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement