NDTV Khabar

Election Results 2019: इस लोकसभा चुनाव में प्रज्ञा ठाकुर, आजम खान, मुनमुन सेन जैसे नेताओं ने अपने बयान से सुर्खियां बंटोरी

Election Results 2019: समाजवादी पार्टी के आजम खान (Azam Khan) और भाजपा के गिरिराज सिंह जैसे राजनेता अपने बड़बोलेपन और भाजपा की प्रज्ञा सिंह ठाकुर और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के कन्हैया कुमार जैसे अन्य नेता अपने आपत्तिजनक बयानों से लोगों का ध्यान आकर्षित करते रहे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Election Results 2019: इस लोकसभा चुनाव में प्रज्ञा ठाकुर, आजम खान, मुनमुन सेन जैसे नेताओं ने अपने बयान से सुर्खियां बंटोरी

Election Results 2019: इस लोकसभा चुनाव में कई नेताओं ने दिए विवादित बयान

नई दिल्ली:

Election 2019: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के प्रचार के दौरान कुछ ऐसे उम्मीदवार भी सुर्खियों में बने रहे जिन्होंने चुनावी रैलियों में या सोशल मीडिया पोस्टों या मीडिया के सवालों के जवाब में विवादास्पद टिप्पणियां कीं. पूर्व से पश्चिम तक और उत्तर से दक्षिण तक कई उम्मीदवार विभिन्न मुद्दों पर अपनी टिप्पणियों से विवादास्पद बने रहे. समाजवादी पार्टी के आजम खान (Azam Khan) और भाजपा के गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) जैसे राजनेता अपने बड़बोलेपन और भाजपा की प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Shadvi Pragya) और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के कन्हैया कुमार जैसे अन्य नेता अपने आपत्तिजनक बयानों से लोगों का ध्यान आकर्षित करते रहे. वर्ष 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी प्रज्ञा ठाकुर भोपाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ीं और उन्होंने पिछले सप्ताह महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को एक देशभक्त बताकर सात चरण के लोकसभा चुनाव के अंतिम दौर में एक तीखी बहस छेड़ दी. कांग्रेस ने इस पर आरोप लगाया था कि शहीदों का अपमान करना भाजपा के डीएनए में है.

Lok Sabha Election 2019 Update: सोनिया गांधी करेंगी कांग्रेस के दिग्गज नेताओं से मुलाकात


हालांकि बाद में ठाकुर ने अपने बयान को लेकर माफी मांगी थी. उन्होंने 26/11 हमले के शहीद आईपीएस अधिकारी हेमंत करकरे पर दिये बयान पर भी माफी मांगी थी. ठाकुर ने कहा था कि उन्हें प्रताड़ित करने और विस्फोट मामले में उन्हें फर्जी तरीके से फंसाने के लिए उन्होंने करकरे को शाप दिया था. उनके चुनावी प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के दिग्विजय सिंह भी विवादों में बने रहने के लिए जाने जाते है. इस वर्ष मार्च में जब देश चुनाव की तैयारी कर रहा था, दिग्विजय ने कहा कि पुलवामा हमला एक दुर्घटना थी. उत्तर प्रदेश में सपा के नेता खान ने रामपुर सीट पर अपनी प्रतिद्वंद्वी अभिनेत्री-राजनीतिज्ञ जयाप्रदा के खिलाफ अश्लील टिप्पणी कर व्यापक स्तर पर लोगों की नाराजगी का सामना किया था.

चुनावी नतीजों से पहले अरविंद केजरीवाल और अखिलेश यादव ने एक दूसरे को बताया साथ-साथ

खान ने उनका नाम लिये बगैर अपनी चुनाव रैली में कहा था कि रामपुर वालों, उत्तर प्रदेश वालों, हिन्दुस्तान वालों, उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गये। मैं 17 दिनों में पहचान गया कि वह खाकी रंग का अंडरवियर पहनती है. इस बयान के लिए खान के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई थी. बिहार में वैचारिक रूप से एक दूसरे के विरोधी माने जाने वाले दो उम्मीदवारों गिरिराज सिंह और कन्हैया कुमार के बीच बेगूसराय में तनातनी देखने को मिली. गिरिराज ने एक रैली में मुस्लिम समुदाय पर निशाना साधते हुए कहा था कि जो वंदेमातरम नहीं कह सकते या मातृभूमि का सम्मान नहीं कर सकते है उन्हें माफ नहीं किया जायेगा.

गंभीर मुद्दे इन चुनावों से गायब क्यों रहे? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

उनके प्रतिद्वंद्वी और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार ने ट्विटर पर कहा कि भाजपा के लोगों के लिए गोडसे एक देशभक्त हैं. उनसे अपेक्षा की जाती है कि वे हमारे जैसे लोगों को देशद्रोही कहेंगे. भगवान का शुक्र है कि भाजपा हमें देशभक्त नहीं मानती है. दक्षिण में, कर्नाटक में दक्षिण कन्नड़ से मौजूदा सांसद नलिन कुमार कतील भी गोडसे विवाद में कूदे थे. उन्होंने कहा था कि गोडसे ने एक को मारा, मुम्बई हमले के दोषी अजमल कसाब ने 72 को, राजीव गांधी ने 17,000 लोगों को मारा. आप अंदाजा लगा सकते है कि इसमें कौन अधिक निर्दयी है.

Election Results 2019: जरूरत पड़ने पर क्या नवीन पटनायक केंद्र में एनडीए को समर्थन देंगे?

हालांकि बाद में उन्होंने अपना बयान वापस ले लिया था. भाजपा के युवा नेता और कर्नाटक की बेंगलुरू दक्षिण सीट से चुनाव लड़े तेजस्वी सूर्या ने भी पिछले लगभग एक वर्ष में कई विवादित बयान दिये और इनमें से कुछ उन्होंने वापस लिये और कुछ को उन्होंने हटा दिया. आसनसोल संसदीय सीट से तृणमूल कांग्रेस की उम्मीदवार मुनमुन सेन से मतदान दिवस पर संसदीय क्षेत्र में हिंसा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बड़े हल्के अंदाज में मीडिया से कहा कि उन्होंने मुझे बेड टी बहुत देर से दी, इसलिए मैं बहुत देर से उठी. मैं क्या कह सकती हूँ? मैं वास्तव में नहीं जानती.

टिप्पणियां

गुरदासपुर सीट से भाजपा उम्मीदवार और बॉलीवुड अभिनेता सनी देओल ने भी इसी तरह का जवाब दिया था जब उनसे बालाकोट स्ट्राइक के बारे में पूछा गया था. उन्होंने कहा था कि वह ज्यादा कुछ नहीं जानते है और केवल लोगों की सेवा करना चाहते है. लोकसभा चुनाव के लिए मतगणना 23 मई को होगी. (इनपुट भाषा से) 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement