NDTV Khabar

Elections 2019: EVM की सुरक्षा को लेकर उठ रहे सवालों से पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी चिंतित, कही यह बात

Elections 2019: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) ने एक बयान जारी कर EVM की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जारी किया बयान
  2. जनमत के साथ छेड़खानी की ख़बरों से चिंतित
  3. 'ईवीएम की सुरक्षा चुनाव आयोग की ज़िम्मेदारी है'
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव (Elections 2019) खत्म होने और एग्जिट पोल (Exit Poll) में एक बार फिर मोदी सरकार आने की संभावना जताए जाने के बाद ईवीएम (EVM) का मुद्दा फिर तूल पकड़ता दिख रहा है. EVM और VVPAT के मुद्दे पर 22 विपक्षी दलों के नेताओं ने बैठक की और चुनाव आयोग को ज्ञापन देकर काउंटिंग से पहले सभी VVPAT पर्चियों की गिनती की मांग की है. उधर, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) ने एक बयान जारी कर EVM की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है. उन्होंने कहा है कि वो जनमत के साथ छेड़खानी की ख़बरों से चिंतित हैं. उन्होंने कहा कि ईवीएम की सुरक्षा चुनाव आयोग की ज़िम्मेदारी है. उन्होंने आगे कहा कि लोकतंत्र पर सवाल खड़े करने वाली अटकलों की कोई जगह नहीं है और लोगों का जनादेश पवित्र है और किसी भी संदेह से परे होना चाहिए


Lok Sabha Election 2019 : उत्तर प्रदेश में EVM को लेकर कई जगहों पर 'संदेह', अब तक सामने आईं 10 बड़ी बातें

प्रणब मुखर्जी ने यह भी कहा कि भारतीय लोकतंत्र के मूल आधार को चुनौती देने वाली किसी भी अटकल के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए. उन्होंने ट्विटर हैंडल पर जारी एक बयान में कहा, 'मैं मतदाताओं के फैसले में कथित छेड़छाड़ की खबरों पर चिंतित हूं. उन ईवीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी आयोग की है जो कि आयोग की देखरेख में हैं.' उन्होंने कहा कि जनादेश अत्यंत पवित्र होता है और इसमें लेशमात्र भी संशय नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा, 'इस मामले में संस्थागत सत्यनिष्ठा सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी भारतीय चुनाव आयोग पर है. उन्हें उसे पूरा करते हुए सभी अटकलों पर विराम लगाना चाहिए.

इससे पहले प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) ने सोमवार को 2019 का लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) शानदार तरीके से संपन्न कराने के लिए चुनाव आयोग (Election Commission) की तारीफ की थी. मुखर्जी ने नई दिल्ली में एक पुस्तक के विमोचन के मौके पर कहा कि पहले चुनाव आयुक्त सुकुमार सेन के समय से लेकर मौजूदा चुनाव आयुक्तों तक संस्थान ने बहुत अच्छे से काम किया है. उन्होंने कहा कि कार्यपालिका तीनों आयुक्तों को नियुक्त करती है और वे अपना काम अच्छे से कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘आप उनकी आलोचना नहीं कर सकते हैं, यह चुनाव का सही रवैया है.'मुखर्जी का यह बयान ऐसे समय आया है जब विपक्षी दल लगातार चुनाव आयोग को निशाना बना रहे हैं. 

टिप्पणियां

Election 2019: नतीजों से ठीक पहले यूपी-बिहार में EVM से लदी मिली गाड़ियां, तेजस्वी यादव ने चुनाव आयोग से पूछे सवाल

उधर, सोशल मीडिया पर ईवीएम को कथित रूप से उतारने और छेड़छाड़ के वीडियो वायरल होने के बाद उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में प्रदर्शन शुरू हो गए. हालांकि चुनाव आयोग ने मतदान के बाद ईवीएम को मतगणना स्थलों तक पहुंचाने में गड़बड़ी और दुरुपयोग को लेकर उत्तर प्रदेश और बिहार सहित विभिन्न राज्यों से मिली शिकायतों को शुरुआती जांच के आधार पर गलत बताते हुए खारिज कर दिया है. कांग्रेस ने कहा कि देश के कई हिस्सों में स्ट्रांगरूम से ईवीएम स्थानांतरित किए जाने की शिकायतों पर चुनाव आयोग को तत्काल प्रभावी कदम उठाना चाहिए. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement