NDTV Khabar

General Election: समय से पहले कैंपेन खत्म करने पर ममता बनर्जी का हमला- 'रोक का फ़ैसला EC का नहीं मोदी-शाह का'

Lok Sabha Election: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने आरोप लगाया कि पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के इशारे पर ही चुनाव आयोग (Election Commission) ने समय सीमा से पहले रैली, सभाओं पर रोक लगा दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
General Election: समय से पहले कैंपेन खत्म करने पर ममता बनर्जी का हमला- 'रोक का फ़ैसला EC का नहीं मोदी-शाह का'

Election 2019: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनावी कैंपेन पर रोक को लेकर मोदी-शाह पर बोला हमला.

खास बातें

  1. एक दिन पहले प्रचार रोकने पर भड़कीं ममता
  2. 'शाह के इशारे पर आयोग ने लगाई रोक'
  3. रोक का फ़ैसला EC का नहीं मोदी का: ममता

Lok Sabha Election: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने आरोप लगाया कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के इशारे पर ही चुनाव आयोग (Election Commission) ने समय सीमा से पहले रैली, सभाओं पर रोक लगा दी. ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने अमित शाह (Amit Shah News) पर हमला बोलते हुए कहा कि अन्याय अमित शाह करें और सजा हमें मिले. उन्होंने कहा कि अमित शाह ने बंगालियों का अपमान किया है. उन्होंने पीएम मोदी पर भी हमला बोला. ममता बनर्जी ने कहा कि मोदी ने मूर्ति तोड़ने की निंदा तक नहीं की. उन्होंने आरोप लगाया कि चुनावी सभाओं और रैलियों पर रोक का फैसला चुनाव आयोग का नहीं, बल्कि मोदी का है. ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग पर निशाना साधते हुए कहा कि पीएम मोदी को चुनाव प्रचार खत्म करने का पूरा समय दिया गया. ममता बनर्जी ने कहा कि चुनाव आयोग को कोलकाता की हिंसा के लिए अमित शाह के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए थी.

General Election 2019: बंगाल में रैली और सभाओं पर चुनाव आयोग की रोक, समय सीमा से 20 घंटे पहले ही खत्म होगा चुनाव प्रचार


बता दें कि अमित शाह की रैली में हुई हिंसा (Kolkata Violance) के एक दिन बाद चुनाव आयोग ने भारत के चुनावी इतिहास में पहली बार आर्टिकल 324 के तहत मिले अधिकार का इस्तेमाल करते हुए पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार 20 घंटे पहले ही ख़त्म करने का फ़ैसला किया है. यानी गुरुवार रात 10 बजे के बाद पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार नहीं होगा, जबकि इसे शुक्रवार शाम पांच बजे बंद होना था. ये ध्यान दिया जाना ज़रूरी है कि कल बंगाल में प्रधानमंत्री मोदी की दो रैलियां हैं. माथुरपुर लोकसभा क्षेत्र में शाम पौने पांच बजे और दमदम में शाम साढ़े छह बजे प्रधानमंत्री रैली करेंगे. उप चुनाव आयुक्त चंद्रभूषण कुमार ने बताया कि देश के इतिहास में संभवत: यह पहला मौका है जब आयोग को चुनावी हिंसा के मद्देनजर किसी चुनाव में निर्धारित अवधि से पहले चुनाव प्रचार प्रतिबंधित करना पड़ा हो.

Election 2019: दीदी के राज में बांग्ला युवाओं के मस्तक पर गोलियां मारी जा रही हैं : पीएम मोदी

मालूम हो कि लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण में आठ राज्यों की 59 सीटों पर 19 मई को होने वाले मतदान में पश्चिम बंगाल की 9 सीटें भी शामिल हैं. पूर्व निर्धारित चुनाव कार्यक्रम के अनुसार इस चरण के मतदान से 48 घंटे पहले, 17 मई को शाम पांच बजे से चुनाव प्रचार थम जायेगा, लेकिन पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति का हवाला देते हुए आयोग ने राज्य में निर्धारित अवधि से एक दिन पहले, 16 मई को रात 10 बजे से किसी भी प्रकार का चुनाव प्रचार प्रतिबंधित कर दिया है. यह प्रतिबंध राज्य की सभी नौ सीटों पर 19 मई को शाम 5 बजे मतदान पूरा होने तक जारी रहेगा.

टिप्पणियां

लोकसभा चुनाव: पश्‍च‍िम बंगाल में रैली से पहले योगी आदित्‍यनाथ ने किया Tweet, 'याचना नहीं अब रण होगा...'

इस बीच चुनाव आयोग ने राज्य में सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी अजय नायक को विशेष पर्यवेक्षक और पुलिस सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी विवेक दुबे को विशेष पुलिस पर्यवेक्षक के रूप में तैनात किया है. इसके अलावा आयोग ने आईपीएस अधिकारी और पश्चिम बंगाल की खुफिया शाखा सीआईडी के अतिरिक्त महानिदेशक राजीव कुमार को सेवा मुक्त कर केंद्रीय गृह मंत्रालय से संबद्ध कर दिया है. उन्हें 16 मई को सुबह दस बजे तक मंत्रालय को रिपोर्ट करने को कहा गया है. साथ ही आयोग ने पश्चिम बंगाल के गृह सचिव अत्रि भट्टाचार्य को भी सेवामुक्त कर उनका प्रभार राज्य के मुख्य सचिव को सौंपने का आदेश दिया है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement