लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी-शिवसेना ने पालघर नगर परिषद चुनावों में जीत लीं 28 में से 21 सीटें

अगस्त 2014 में ठाणे जिले से अलग होने के बाद पालघर जिले में परिषद का यह पहला चुनाव था.

लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी-शिवसेना ने पालघर नगर परिषद चुनावों में जीत लीं 28 में से 21 सीटें

नई दिल्ली:

भाजपा और शिवसेना ने  महाराष्ट्र  में पालघर नगर परिषद चुनावों में जबरदस्त जीत हासिल की है. सोमवार को इसके परिणाम घोषित किये गए.  भगवा पार्टियों ने कुल 28 में से 21 सीटों पर जीत दर्ज की है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) की उज्ज्वला काले को मतदाताओं द्वारा सीधे परिषद का अध्यक्ष चुना गया. अध्यक्ष का पद पहले शिवसेना के पास था. पार्षदों की कुल 28 सीटों के लिए रविवार को चुनाव हुए थे. शिवसेना ने जहां 14 सीटें जीतीं, वहीं भाजपा ने सात, राकांपा ने दो और शेष पांच सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों (शिवसेना के बागी) के खाते में गईं. अगस्त 2014 में ठाणे जिले से अलग होने के बाद पालघर जिले में परिषद का यह पहला चुनाव था. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव से ठीक पहले महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर लड़ने का फैसला किया है और दोनों के बीच सीटों का बंटावारा भी चुका है. कुछ दिन पहले तक जहां शिवसेना मोदी सरकार की हर नीति की जमकर आलोचना कर रही थी वहीं अब पार्टी के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे का कहना है कि बीजेपी और शिवसेना का फेवीकॉल का मजबूत जोड़ है जो कभी टूट नहीं सकता है. कुल मिलाकर लोकसभा चुनाव से पहले पालघर नगर परिषद के चुनाव में बीजेपी और शिवसेना को मिली जीत से दोनों ही पार्टियों के लिए अच्छे संकेत हो सकते हैं. हालांकि  नगर परिषद के चुनाव स्थानीय मुद्दों पर लड़े जाते हैं और इनका कितना असर लोकसभा चुनावों पर पड़ेगा यह देखने वाली बात होगी.

पिता थे राजीव गांधी और सोनिया गांधी के 'प्रस्तावक', बेटा राहुल गांधी के खिलाफ अमेठी से लड़ेगा चुनाव

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव में शिवसेना 23 और बीजेपी 25 सीटों पर लड़ेगी. फडणवीस ने कहा कि 'अब हमारे बीच कोई गलतफहमी नहीं है.' सीएम देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव को लेकर गठबंधन की स्थित भी साफ कर दी. उन्होंने कहा कि 'प्रदेश में हमारे जो मित्र हैं उनकी सीटें छोड़कर बीजेपी और शिवसेना आधी-आधी सीटों पर चुनाव लड़ेगी.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हेमा मालिनी के साथ योगी की रैली में खाली कुर्सियां​