NDTV Khabar

एग्जिट पोल के नतीजों के बाद बोले बाबा रामदेव, सत्य सिद्ध हो रहीं हैं वेद और ऋषियों की बातें

कभी 2014 में खुलकर नरेंद्र मोदी का साथ देने वाले रामदेव पिछले साल ही 2019 में बीजेपी के लिए कैंपेनिंग करने से मना कर चुके थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एग्जिट पोल के नतीजों के बाद बोले बाबा रामदेव, सत्य सिद्ध हो रहीं हैं वेद और ऋषियों की बातें

बाबा रामदेव ने 2014 में अपने समर्थकों से मोदी को वोट देने की अपील की थी.

नई दिल्ली:

आम चुनाव (Lok saba Election 2019) के एग्जिट पोल के नतीजे सामने आने के बाद सोमवार को  बाबा रामदेव (Baba Ramdev) ने स्याही लगी अंगुली  दिखाते हुए तस्वीर ट्विटर पर एक तस्वीर भी पोस्ट की है. फोटो के साथ वेद की ऋचाएं और धर्म ग्रंथों की पंक्तियां लिखकर उन्होंने धर्म और सत्य को विजय का आधार बताया है. उन्होंने लिखा कि वेद एवं ऋषियों की बात ही सत्य सिद्ध हो रही है. हालांकि उन्होंने इस बार खुलकर किसी की जीत को लेकर कोई संभावना नहीं जताई लेकिन पोस्ट में वेद और ऋषियों के आधार किसकी जीत की तरफ इशारा ये साफ जाहिर हो रहा है.

यह भी पढ़ें: जेल में मिली प्रताड़ना से 'राष्ट्रवादी' प्रज्ञा ठाकुर को हुआ कैंसर: बाबा रामदेव


कभी 2014 में खुलकर नरेंद्र मोदी का साथ देने वाले रामदेव पिछले साल ही 2019 में बीजेपी के लिए कैंपेनिंग करने से मना कर चुके थे. पांच साल पहले रामदेव ने अपने समर्थकों से खुले तौर पर 'मोदी को वोट देने की अपील की थी. लेकिन दिसंबर 2018 के आख़िरी हफ़्ते में मदुरै में बाबा रामदेव ने कहा था "अभी राजनीतिक स्थिति बेहद कठिन है. हम नहीं कह सकते कि अगला प्रधानमंत्री कौन होगा या इस देश का नेतृत्व कौन करेगा. लेकिन, स्थिति बहुत रोचक है."

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: योग गुरु बाबा रामदेव का पीएम मोदी को लेकर 'यू- टर्न', कहा- बीजेपी को जीताकर नरेंद्र मोदी को ही बनाए पीएम 

बीते साल एनडीटीवी युवा कॉन्क्लेव में भी शिरकत करने आए बाबा रामदेव ने घोषणा की थी कि वे 2019 के लोकसभा चुनावों में वो राजनीति से दूर रहेंगे.  उन्होंने बताया था कि 2014 में  खुलकर नरेंद्र मोदी का इसलिए साथ दिया था क्योंकि तब संकट का समय था जो अब नहीं है. इसलिए अब वो सर्वदलीय भी हैं और निर्दलीय भी. बाबा रामदेव ने कहा था कि मैं हमेशा राष्ट्र प्रथम के सिद्धांत पर कार्य करता हूं. मेरी राजनीतिक भूमिका यह सुनिश्चित करने के लिए सीमित है कि देश अच्छे लोगों द्वारा शासित है. मैंने खुद को राष्ट्र निर्माण, चरित्र निर्माण, शिक्षा, कृषि और स्वास्थ्य जैसे अन्य मुद्दों के लिए समर्पित किया है. इसलिए, मैं खुद को गैर-राजनीतिक, स्वतंत्र व्यक्ति के रूप में देखता हूं जो मां भारत की सेवा में है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement