लोकसभा चुनाव 2019: दिल्ली में त्रिकोणीय मुकाबला, आप-कांग्रेस और बीजेपी आमने-सामने

2011 की जनगणना के अनुसार दिल्ली की कुल आबादी एक करोड़ 10 लाख से ज्यादा है. दिल्ली में कुल नौ जिले, 27 तहसील, 59 सेंसस टाउन और 300 गांव हैं.

लोकसभा चुनाव 2019: दिल्ली में त्रिकोणीय मुकाबला, आप-कांग्रेस और बीजेपी आमने-सामने

लोकसभा चुनाव में दिल्ली में कांटे की टक्कर

नई दिल्ली:

देश की राजधानी दिल्ली एक केंद्र शासित प्रदेश है. मौजूदा समय में दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हैं. दिल्ली की सीमा तीन तरफ से हरियाणा और एक (पूर्व) तरफ से उत्तर प्रदेश से घिरी हुई है. दिल्ली कुल 1484 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. 2011 की जनगणना के अनुसार दिल्ली की कुल आबादी एक करोड़ 10 लाख से ज्यादा है. दिल्ली में कुल नौ जिले, 27 तहसील, 59 सेंसस टाउन और 300 गांव हैं. यहां पर पांच नगर निगम हैं जिनमें नॉर्थ दिल्ली, साउथ दिल्ली, ईस्ट  दिल्ली म्यूनिसपल कॉरपोरेशन, न्यू दिल्ली म्यूनिसिपल काउंसिल और दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड मुख्य रूप से शामिल हैं.

प्रियंका गांधी का PM नरेंद्र मोदी को जवाब- चौकीदार अमीरों के यहां होते हैं, किसानों के यहां नहीं

दिल्ली में सात लोकसभा सीट और कुल 70 विधानसभा सीट हैं. मौजूदा समय में दिल्ली में आम आदमी पार्टी का शासन है. अरविंद केजरीवाल यहां के मुख्यमंत्री हैं. आम आदमी पार्टी के बनने से पहले दिल्ली में बीजेपी और कांग्रेस के बीच ही मुकाबला रहता था. लेकिन आम आदमी पार्टी के बनने के बाद से यहां अब मुकाबला तीनों पार्टियों के बीच है. 

लोकसभा चुनाव: हाजीपुर से रामविलास पासवान की जगह इनको मिला टिकट- सूत्र

दिल्ली में अलग-अलग धर्म के लोग रहते हैं. दिल्ली की कुल आबादी में 81.68 फीसदी हिंदू हैं, जबकि 12.86 फीसदी मुसलमान, 3.40 फीसदी सिख, 0.99 फीसदी जैन. वोट के आधार पर अगर बात करें तो दिल्ली में जाट समुदाय के पास 10 फीसदी वोट है जबकि पंजाबियों के पास 9 फीसदी, वैश के पास आठ फीसदी और गुर्जर के पास सात फीसदी वोट है.दिल्ली में कई तरह की भाषाएं बोली जाती हैं. हिंदी बोलने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है. इसके अलावा उर्दू, पंजाबी, बंगाली, तमिल, तेलगु, गुजराती, अग्रेजी, और सिंधी हैं. 

सोचिएगा, समझिएगा, दुनिया में हिन्दुस्तान की भद्द न पिटवाइएगा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

दिल्ली में लोकसभा की सात सीटें हैं. इनमें मुख्य रूप से नई दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली, पश्चिमी दिल्ली, पूर्वी दिल्ली, चांदनी चौक, उत्तर पश्चिम दिल्ली, उत्तर पूर्वी दिल्ली शामिल हैं. बता दें कि 1951 - 1956 तक दिल्ली में सिर्फ तीन लोकसभा सीट होती थीं. इनमें दिल्ली सिटी, नई दिल्ली और बाहरी दिल्ली की सीटें शामिल थीं. इसके बाद 1956-1961 में दिल्ली में चार लोकसभा सीट हो गईं. इनमें नई दिल्ली, बाहरी दिल्ली, चांदनी चौक और दिल्ली सदर की सीट शामिल थी. 1961-1966 में दिल्ली में लोकसभा की पांच सीटें थीं.

इनमें नई दिल्ली, बाहरी दिल्ली, चांदनी चौक, दिल्ली सदर और करोल बाग की सीट थी. 1966-2008 तक दिल्ली में लोकसभा की सात सीटें थीं. इनमें नई दिल्ली, साउथ दिल्ली, बाहरी दिल्ली, ईस्ट दिल्ली, चांदनी चौक, दिल्ली सदर और करोल बाग शामिल था. दिल्ली में लोकसभा चुनाव के दौरान इस बार मुख्य रूप से मुकाबला भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस, और आम आदमी पार्टी के बीच है. 2014 के लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की थी.