NDTV Khabar

पीएम मोदी के गृहराज्य गुजरात से भी बीजेपी के लिए नहीं है अच्छी खबर, इस सर्वे में हुआ खुलासा

एक सर्वे में गुजरात के मतदाताओं ने आम जन से जुड़े मुद्दों पर मोदी सरकार के कामकाज को औसत से भी कम रेटिंग दी है. जो साफ-साफ बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी के गृहराज्य गुजरात से भी बीजेपी के लिए नहीं है अच्छी खबर, इस सर्वे में हुआ खुलासा

एडीआर के सर्वे के मुताबिक पीएम के गृह राज्य गुजरात (Gujarat) के मतदाता नाख़ुश हैं.

खास बातें

  1. 2014 में बीजेपी ने राज्य की सभी सीटों पर जमाया था कब्जा
  2. लेकिन विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस हुई है मजबूत
  3. मोदी सरकार के कामकाज से मतदाता भी हैं नाख़ुश
नई दिल्ली :

लोकसभा चुनाव (General Election 2019) की सरगर्मियां बढ़ गई हैं. इस बार भी सबकी निगाहें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के गृह राज्य गुजरात (Gujarat) पर टिकी हैं. पिछली बार बीजेपी ने राज्य की सभी 26 सीटों पर जीत दर्ज की थी और पार्टी को 60 फीसद वोट मिले थे, लेकिन इस बार स्थिति बदली नजर आ रही है. मोदी सरकार भले ही तमाम दावे करे, लेकिन खुद पीएम के गृहराज्य के वोटर ही उनके कामकाज से नाख़ुश हैं. जिसका ख़ामियाजा पार्टी को चुनावों में उठाना पड़ सकता है. राजनीतिक सुधारों पर नजर रखने वाली संस्था एडीआर (एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स) के एक सर्वे में गुजरात के मतदाताओं ने आम जन से जुड़े मुद्दों पर मोदी सरकार के कामकाज को औसत से भी कम रेटिंग दी है. जो साफ-साफ बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है. 

चुनाव लड़ने के अयोग्य घोषित हार्दिक पटेल ने कहा- उम्र पड़ी है, लंबी राजनीति करने के लिए आया हूं


रोजगार के मोर्चे पर सरकार के कामकाज से नाखुश हैं मतदाता 
एडीआर (एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स) के सर्वे के अनुसार गुजरात के 42.68 फीसद मतदाताओं की पहली प्राथमिकता रोजगार है, लेकिन इस दिशा में सरकार द्वारा उठाए गए कदम को उन्होंने औसत से भी कम माना है. 5 में से सिर्फ 2.33 रेटिंग दी है. इसी तरह 37.12 फीसद मतदाताओं की प्राथमिकता पीने का पानी है और इस मुद्दे पर सरकार को 2.60 रेटिंग दी है. इसी तरह, 30.23 प्रतिशत मतदाताओं ने अच्छे अस्पताल और प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं को अपनी प्राथमिकता बताया है. इस मोर्च पर भी सरकार की पहल से नाखुशी जाहिर की है और 2.62 रेटिंग ही दी है. 

19ji7npo

शहरी मतदाताओं के लिए ट्रैफिक जाम, तो ग्रामीण मतदाताओं के लिए पानी बड़ा मुद्दा 
अगर गुजरात के शहरी और ग्रामीण मतदाताओं की अलग-अलग बात करें तो शहरी मतदाताओं के लिए ट्रैफिक जाम सबसे बड़ा मुद्दा है. जबकि ग्रामीण मतदाताओं के लिए सिंचाई के लिए पानी की व्यवस्था पहली प्राथमिकता है. हालांकि न तो शहरी और न ही ग्रामीण मतदाता. इन फ्रंट पर सरकार के कामकाज से खुश हैं. यहां भी सरकार को औसत से कम रेटिंग ही मिली है. 

489b6udg

2014 के बाद कांग्रेस भी हुई है मजबूत 
2014 के लोकसभा चुनावों के बाद कांग्रेस गुजरात में मजबूत हुई है. खासकर 2017 में हुए विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस की स्थिति बदली नजर आ रही है. आपको बता दें कि 182 सीटों के लिए हुए विधानसभा चुनाव में जहां बीजेपी को 99 सीटें मिली थीं. तो वहीं कांग्रेस के खाते में 77 सीटें गई थीं. इसके अलावा राज्यसभा के चुनाव में भी बीजेपी को अहमद पटेल से मुंह की खानी पड़ी थी. इससे साफ है कि इस बार गुजरात (Gujarat) में लोकसभा चुनाव की जंग एकतरफा नहीं होगी. 

लोकसभा चुनाव: गुजरात में करोड़पतियों का बोलबाला, 5 को छोड़ कांग्रेस-भाजपा के सभी उम्मीदवार हैं 

टिप्पणियां

वीडियो- चुनाव इंडिया का: कांग्रेस के घोषणा पत्र पर बहस जारी 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement