NDTV Khabar

कुमार विश्वास ने बंगाल हिंसा पर किया ट्वीट, लिखा- 'जल रही है विरासत की पुण्यभूमि...'

Election 2019: कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की मंगलवार को हुई रैली के दौरान हिंसा के बाद पश्चिम बंगाल की राजनीति में उबाल आ गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कुमार विश्वास ने बंगाल हिंसा पर किया ट्वीट, लिखा- 'जल रही है विरासत की पुण्यभूमि...'

कुमार विश्वास (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. कुमार विश्वास का ट्वीट
  2. बंगाल हिंसा पर जताई निराशा
  3. कही ये बात

Lok Sabha Elections 2019: कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) की मंगलवार को हुई रैली के दौरान हिंसा के बाद पश्चिम बंगाल की राजनीति में उबाल आ गया है. बंगाल से लेकर दिल्ली तक हर ओर इस हिंसा को लेकर माहौल गरम है. भड़की हिंसा की पृष्ठभूमि में चुनाव आयोग (Election Commission) द्वारा पश्चिम बंगाल में 16 मई की रात को ही चुनाव प्रचार रोकने के फैसले पर सवाल खड़ा किया. इस पर कुमार विश्वास ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट किया. इस घटना को उन्होंने दुखद बतलाया और कहा, भाषा-संस्कृति व विरासत की पुण्यभूमि जल रही है.

दो बहनों के सिर जुड़े हैं आपस में... उनका एक वोट होगा या दोनों अलग-अलग वोट देंगी? जानिए


कुमार विश्वास ने ट्वीट किया, ''वीभत्स हो रही है बंगाल की जंग ! लोकतंत्र के हर मानक संस्थान की धज्जियाँ उड़ रही हैं ! जीत-हार जिसकी भी हो,मर्यादा हार रही है,भारतीय चुनावों की लोकतांत्रिक परम्परा हार रही है,नेताओं की विश्वसनीयता हार रही है ! दुखद है कि भाषा-संस्कृति व विरासत की पुण्यभूमि जल रही है'' उन्होंने इस ट्वीट के साथ एक हैशटैग का भी यूज किया. जिसमें उन्होंने  #BengalBurning लिखा.

एक और ट्वीट में कुमार विश्वास ने लिखा, ''जो कुछ बंगाल में हो रहा है वो बंगाल की महान और गौरवशाली परम्परा के सर्वथा विपरीत है! आशा है बंगाल का भद्रलोक मतदान की ताक़त से ऐसे दादाओं-दीदीयों को सबक़ सिखाएगा! मासूम जनभावनाओं के शोषण से अचानक सत्ता पाए ऐसे अराजक, कितने खतरनाक होते हैं, जानता हूं''. मालूम हो कि भारत के चुनावी इतिहास में इस तरह की पहली कार्रवाई में चुनाव आयोग ने बुधवार को पश्चिम बंगाल के नौ लोकसभा क्षेत्रों में चुनाव प्रचार बृहस्पतिवार को रात 10 बजे समाप्त करने का आदेश दिया है. 

टिप्पणियां

कैलाश मानसरोवर यात्रा का निकला कंप्यूटर ड्रॉ, पहली बार तीर्थयात्रा करने वालों को मिली प्राथमिकता

निर्धारित समयानुसार प्रचार एक दिन बाद शुक्रवार शाम को समाप्त होना था. आयोग ने मंगलवार को कोलकाता में भाजपा तथा तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के बीच झड़पों के बाद यह फैसला किया. चुनाव आयोग ने 19 मई को चुनाव के अंतिम चरण के लिए प्रचार को समय से पहले थामने के लिए संविधान के अनुच्छेद 324 को लागू किया. आयोग ने पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव (गृह) अत्रि भट्टाचार्य और सीआईडी के अतिरिक्त महानिदेशक राजीव कुमार को उनके पदों से हटाने का भी आदेश दिया. इस पर बनर्जी ने कहा कि दोनों अधिकारियों को ‘चुनाव आयोग ने नहीं, बल्कि मोदी और अमित शाह ने हटाया है.'



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement