NDTV Khabar

सपा-बसपा गठबंधन से RLD को मिली इतनी सीटें, जानिये कहां से कौन लड़ सकता है चुनाव

लोकसभा चुनाव (Lok sabha Election 2019) को लेकर सपा-बसपा (SP-BSP Alliance) के बीच सीटों का बंटवारा हो गया है. सपा-बसपा गठबंधन में RLD को तीन सीटें दी गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सपा-बसपा गठबंधन से RLD को मिली इतनी सीटें, जानिये कहां से कौन लड़ सकता है चुनाव

Lok sabha Election 2019: सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ आरएलडी उपाध्यक्ष जयंत चौधरी.

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव (Lok sabha Election 2019) को लेकर सपा-बसपा (SP-BSP Alliance) के बीच सीटों का बंटवारा हो गया है. सपा 37 और बसपा 38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. वहीं, राष्ट्रीय लोकदल (RLD) को तीन सीटें दी गई है. बताया जा रहा है कि आरएलडी पश्चिमी यूपी की मथुरा, मुजफ्फरनगर और बागपत सीट से चुनाव लड़ेगी. एक दिन पहले ही RLD ने लोकसभा चुनाव में सीटों को लेकर अपना रुख साफ किया था. पार्टी उपाध्यक्ष जयंत चौधरी (Jayant Chaudhary) ने कहा था कि वह उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन के साथ हैं. बता दें कि मुजफ्फरनगर से अजीत सिंह और बागपत से जयंत चौधरी चुनाव लड़ना चाहते हैं. 

यह भी पढ़ें:  यूपी में गठबंधन पर कांग्रेस ने कहा: जाल में फंसी SP-BSP, इन्होंने वही किया जो BJP चाहती थी


आरएलडी द्वारा द्वारा जारी पत्र में कहा गया था कि राष्ट्रीय लोकदल भाजपा सरकार के किसान, युवा, दलित विरोधी नीतियों के विरोध के लिए प्रभावी विपक्षी एकता के पक्ष में लगातार काम कर रहा है. सपा-बसपा के साथ गठबंधन करके ही जनता की उम्मीदों के अनुरूप मजबूत राजनीतिक विकल्प तैयार किया जा सकता है. 

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी का क्या ब्रह्मास्त्र साबित होंगी प्रियंका गांधी? निशाने पर सिर्फ BJP या सपा-बसपा गठबंधन भी

बता दें कि मुजफ्फरनगर से अजीत सिंह, बागपत से जयंत चौधरी चुनाव लड़ना चाहते हैं. सपा की पेशकश है कि मथुरा से आरएलडी के टिकट पर समाजवादी पार्टी के किसी नेता को लड़ाया जाए. आरएलडी उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने कहा था कि सीटों का मसला नहीं है. सवाल विश्वास का है. सवाल रिश्तों का है और दोनों बहुत मजबूत है. बता दें कि पिछले साल हुए कैराना उपचुनाव में आरएलडी और समाजवादी पार्टी बीजेपी के खिलाफ साथ आए थे और उसका नतीजा भी निकला था.

यह भी पढ़ें: अखिलेश यादव का वह कदम, जो लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बन गया है मायावती के 'गले की हड्डी'

तब समाजवादी पार्टी की उम्मीदवार तबस्सुम हसन आरएलडी के निशान पर चुनाव लड़कर जीती थीं. अजीत सिंह चाहते थे कि कुछ उसी तरह चौथी सीट भी पार्टी को मिल जाए. जयंत चौधरी ने कहा कि कैराना में हमने एक दूसरे के साथ तालमेल बनाया. वह सफल तालमेल साबित हुआ है. बहुत लचीलेपन को अपनाया. हमने ये नहीं देखा कि यह हमारा है, वो हमारा है. लड़ाई हमारी है हम मिलकर लड़ेंगे 

यह भी पढ़ें: मायावती पर न्यायालय की टिप्पणी से अखिलेश ने बनाई दूरी, कहा वकील रखेंगे अपना पक्ष

टिप्पणियां

बता दें कि अमेठी और रायबरेली से सपा-बसपा गठबंधन कोई उम्मीदवार नहीं उतारेगा. सपा के कोटे में आई 37 सीटों में कैराना, मुरादाबाद, संभल, रामपुर, मैनपुरी, फिरोजाबाद, बदायूं, बरेली, लखनऊ, इटावा, इलाहाबाद, कौशाम्बी, फूलपुर, फैजाबाद, गोण्डा, गोरखपुर, आजमगढ़, वाराणसी और मिर्जापुर शामिल हैं. बसपा जिन सीटों पर चुनाव लडे़गी, उनमें सहारनपुर, बिजनौर, अलीगढ़, आगरा, फतेहपुर सीकरी, सीतापुर, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, बस्ती, जौनपुर, भदोही और देवरिया शामिल हैं. 

VIDEO:  सपा-बसपा ने यूपी में लोकसभा चुनाव के लिए किया सीटों का बंटवारा​



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement