लोकसभा चुनाव : यूपी में बीजेपी बाहुबली नेता राजा भैया से करेगी गठबंधन!

उत्तरप्रदेश में रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया के साथ बीजेपी के गठबंधन को लेकर बातचीत चल रही

लोकसभा चुनाव : यूपी में बीजेपी बाहुबली नेता राजा भैया से करेगी गठबंधन!

यूपी में बीजेपी और रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया के बीच गठबंधन होने की चर्चा चल रही है.

खास बातें

  • बीजेपी ने 'कमल के फूल' पर प्रतापगढ़ व कौशांबी से चुनाव लड़ने को कहा
  • राजा भैया को बीजेपी के सिंबल पर चुनाव लड़ना मंजूर नहीं
  • बाहुबली नेता राजा भैया और अतीक अहमद के साथ आने की भी चर्चा
नई दिल्ली:

उत्तरप्रदेश में रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया के साथ बीजेपी गठबंधन कर सकती है.राजा भैया की पार्टी जनसत्ता दल (लोकतांत्रिक) और बीजेपी के बीच गठबंधन पर चर्चा चल रही है. राजा भैया अपने भाई अक्षयप्रताप सिंह उर्फ गोपाल जी को प्रतापगढ़ सीट और पूर्व सांसद शैलेंद्र को कौशांबी से चुनाव लड़वाने की घोषणा कर चुके हैं.

सूत्रों के मुताबिक बीजेपी ने उन्हें 'कमल के फूल' पर दो सीटों  प्रतापगढ़ और कौशांबी से चुनाव लड़ने को कहा था. लेकिन राजा भैया ने बीजेपी को प्रस्ताव दिया है कि प्रतापगढ़ और कौशांबी सीटों पर वे अपने चुनाव चिन्ह 'खेलता फुटबाल' पर चुनाव लड़ेंगे. बीजेपी के सिंबल पर चुनाव लड़ना उन्हें मंजूर नहीं है. राजा भैया की इस शर्त पर अब तक बीजेपी की ओर से उन्हें कोई जवाब नहीं मिला है.

उत्तर प्रदेश चुनाव परिणाम 2017 : बीजेपी की लहर में भी '56 इंची सीना' ताने खड़े रहे ये बाहुबली

चर्चा यह भी है कि क्या राजा भैया और अतीक अहमद साथ आएंगे? पूर्वांचल के दो बाहुबली नेता रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया और अतीक अहमद के बीच सीधी अदावत कभी नहीं रही लेकिन वक्त-वक्त पर यह दोनों एक-दूसरे के खिलाफ बाहुबल प्रदर्शित करते रहे हैं. दो साल पहले अतीक अहमद ने प्रतापगढ़ जाकर लोगों से कहा था कि वोट देकर अब इमरान प्रतापगढ़ी को प्रतापगढ़ का राजा बनाओ. अतीक अहमद पर हत्या रंगदारी जैसे तकरीबन 40 संगीन मामले दर्ज हैं.

VIDEO : राजा भैया ने अपनी पार्टी बनाई

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सूत्रों की माने तो अतीक अहमद को भी राजा भैया की पार्टी की ओर से फूलपुर संसदीय सीट से लड़ने ता प्रस्ताव दिया गया है. वहीं माफिया डॉन धनंजय सिंह भी जौनपुर संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने का मन बना चुके हैं. उन्हें राजा भैया का करीबी माना जाता है. इसलिए उनके भी राजा भैया की पार्टी से चुनाव लड़ने की अटकलें तेज हैं.