NDTV Khabar

बिहार में लोकसभा की वे तीन सीटें, जिनको लेकर महागठबंधन में फंसा पेंच

बिहार में लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी महागठबंधन में शामिल प्रमुख दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस सम्मानजनक सीट बंटवारे के करीब पहुंच चुके हैं, परंतु कम से कम दो-तीन सीटों पर पेंच फंसा हुआ है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिहार में लोकसभा की वे तीन सीटें, जिनको लेकर महागठबंधन में फंसा पेंच

फाइल फोटो.

खास बातें

  1. बिहार में महागठबंधन में तीन सीटों को लेकर फंसा पेंच
  2. अन्य लोकसभा सीटों को लेकर कांग्रेस और राजद में बन चुकी बात
  3. बिहार में एनडीए के खिलाफ चुनाव में है महागठबंधन
नई दिल्ली:

बिहार में लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी महागठबंधन में शामिल प्रमुख दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस सम्मानजनक सीट बंटवारे के करीब पहुंच चुके हैं, परंतु कम से कम दो-तीन सीटों पर पेंच फंसा हुआ है. माना जा रहा है कि इन दो-तीन सीटों पर मामला सुलझा लेने के बाद जल्द ही सीट बंटवारे की घोषणा कर दी जाएगी.राजद के एक नेता का दावा है कि राजद और कांग्रेस के शीर्ष नेताओं के बीच कम से कम दो दौर की बातचीत हो चुकी है और दोनों दल सम्मानजनक सीट बंटवारे के करीब हैं. पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राजद के वरिष्ठ नेता तेजस्वी यादव के बीच बातचीत हुई थी. 

यह भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अब पीएम मोदी की राह पर निकले नीतीश कुमार, जानें पूरा मामला
सूत्रों का दावा है कि सीट बंटवारे को अंतिम रूप देने में मुंगेर, मधेपुरा और दरभंगा सीट को लेकर पेंच फंसा हुआ है. सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस मोकामा के विधायक अनंत सिंह को मुंगेर सीट से चुनाव लड़ाने के पक्ष में है, जबकि राजद इसके खिलाफ है.राजद के नेता और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इन्हें 'बैड एलीमेंट' बताया है और उन्होंने कहा है कि महागठबंधन में ऐसे लोगों की कोई जगह नहीं है. इधर, दरभंगा के लिए भी पेंच फंसा हुआ माना जा रहा है. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से निलंबित नेता और सांसद कीर्ति आजाद भाजपा छोड़कर अब कांग्रेस का 'हाथ' थाम चुके हैं. इसके बाद कांग्रेस दरभंगा से कीर्ति को उतारना चाह रही है, जबकि महागठबंधन में शामिल विकासशील इंसान पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी इसी सीट से चुनाव लड़ने का मन बना चुके हैं. 

यह भी पढ़ें- अगर मुज़फ़्फ़रपुर बालिका कांड या सृजन घोटाले में शक की सुई मेरी तरफ़ होती तो CBI मुझे घसीट कर ले जाती : तेजस्वी


राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी कहते हैं कि महागठबंधन में शामिल सभी दलों के शीर्ष नेताओं के बीच अंतिम दौर की बातचीत चल रही है. तिवारी इशारों ही इशारों में इस बात के भी संकेत देते हैं कि राजद पहले कांग्रेस से सीट तय कर लेना चाहती है, उसके बाद अन्य दलों से बात करने की इच्छुक है. सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस अनंत सिंह या उनकी पत्नी के लिए मुंगेर सीट चाहती है, जबकि राजद मुकेश सहनी को दरभंगा से तथा वृशिण पटेल को मुंगेर से चुनाव लड़ाना चाहती है. पटेल हाल ही में हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा छोड़ चुके हैं और राजद के संपर्क में हैं.

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा है कि उम्मीदवारों की घोषणा में थोड़ा समय लग सकता है, पर गठबंधन के बीच सीटों का बंटवारा मार्च के पहले सप्ताह में होने की उम्मीद है. उन्होंने कुछ सीटों पर फंसे पेंच के संबंध में कहा कि सभी सीटों को लेकर बातचीत चल रही है.मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव भी कथित तौर पर महागठबंधन का हिस्सा बनने वाले हैं. हाल ही में पप्पू यादव कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी. हालांकि, कांग्रेस ने अभी पप्पू यादव की 'एंट्री' के बारे में कोई फैसला नहीं किया है. 

लेकिन तेजस्वी, पप्पू को महागठबंधन में शामिल करने के खिलाफ हैं. उन्होंने कई मौके पर पप्पू का विरोध जताया है. यही कारण माना जा रहा है कि कांग्रेस के लिए फैसला लेना मुश्किल हो रहा है. पप्पू यादव ने 2014 लोकसभा चुनाव में शरद यादव को हराया था. शरद यादव जद (यू) से निकलने के बाद अपनी अलग पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल बना चुके हैं और वह फिर से मधेपुरा से लड़ सकते हैं. (इनपुट-IANS)

टिप्पणियां

वीडियो- राहुल गांधी में PM बनने की योग्यता : तेजस्वी यादव 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement