NDTV Khabar

Results 2019 : बिहार के चुनाव परिणाम से कैसे नीतीश कुमार का राजनीतिक कद बढ़ा, यह हैं 10 कारण

Loksabha Election Results 2019 : आरजेडी और कांग्रेस के गठबंधन को सिर्फ एक सीट पर जीत मिली, बिहार पर बीजेपी-जेडीयू का कब्जा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Results 2019 : बिहार के चुनाव परिणाम से कैसे नीतीश कुमार का राजनीतिक कद बढ़ा, यह हैं 10 कारण

बिहार के लोकसभा चुनाव के परिणामों पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार काफी प्रसन्न नजर आए.

पटना:

लोकसभा चुनाव (General Elections Results 2019) में बिहार में बीजेपी (BJP) और जेडीयू (JDU) ने मिलकर कुल 40 सीटों में से 39 पर जीत हासिल की है. आरजेडी (RJD) और कांग्रेस (Congress) के गठबंधन को सिर्फ एक सीट पर जीत मिल सकी है. लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम आने के बाद गुरुवार रात को बिहार (Bihar) के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की नींद उनके राजनीतिक जीवन की सबसे सुखद और आरामदायक नींद होगी. इसके कई कारण हैं. 

1. इन परिणामों में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के लिए सबसे ज्यादा सुखद अहसास इस बात का होगा कि वे अपनी राजनीतिक प्रतिद्वंदी पार्टी आरजेडी और लालू यादव व उनके परिवार को चुनाव में जीरो पर आउट करने में कामयाब हुए. हालांकि नीतीश कुमार वे शख्स हैं जिन्होंने 2014 के चुनाव में अपनी पार्टी की करारी हार के बावजूद राजद अध्यक्ष लालू यादव को फोन करके मीसा भारती और राबड़ी देवी की हार पर सांत्वना दी थी.

2. आरजेडी से रिश्ते में कड़वाहट और पिछले साल अररिया लोकसभा और जहानाबाद विधानसभा के उपचुनाव में हार के बाद निश्चित रूप से न केवल राजद बल्कि उनके साथ जीतनराम मांझी, उपेन्द्र कुशवाहा और मुकेश निषाद की करारी हार के बाद नीतीश (Nitish Kumar) न केवल बृहस्पतिवार को ख़ुश दिखे बल्कि उन्हें इस बात का संतोष दिखा कि उनके नेतृत्व वाले एनडीए के ख़िलाफ़ फ़िलहाल कोई गठबंधन या समीकरण जनता के सामने काम नहीं कर रहा. 


Election Results 2019: 28 साल बाद BJP छोड़ कांग्रेस में गए थे शत्रुघ्न सिन्हा, चुनावी रुझानों के बाद हुए 'खामोश'!

3 .इस बार के चुनाव परिणाम से एक बार फिर साबित हुआ कि अगर किसी बारात को बिहार में राजनीतिक जीत तय करनी है तो दूल्हे के रूप में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को रखना होगा. यह बात ख़ुद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पटना में आयोजित एक रात्रि भोज के दौरान स्वीकार की थी. तब पटना के पत्रकारों ने नीतीश को सत्रह सीट दिए जाने पर शिकायत के लहजे में कहा था कि भाजपा को अधिक सीटों पर लड़ना चाहिए था. तब उनका कहना था कि वोटों का जो प्रतिशत है उसमें नीतीश कुमार को न नाराज़ और न नज़रंदाज़ किया जा सकता है. 

4. चुनाव परिणाम से दी बातें साफ़ थीं एक एनडीए के उम्मीदवारों को हर जाति और वर्ग का वोट मिला जो नरेंद्र मोदी का चेहरा और नीतीश (Nitish Kumar) का साथ होने के कारण आसान हुआ. ज़मीन पर लोग कुछ भी शिकायतों में मीडिया वालों के सामने कहें लेकिन मोदी के नीतीश के साथ आने के कारण वोटों के मामले में रुझान एनडीए उमीदवारों की तरफ़ था.

Bihar Election Result 2019: बेगूसराय से कन्‍हैया कुमार तो पटना साहिब से शत्रुघ्‍न सिन्‍हा पिछड़े

5. चुनाव परिणाम में एक सीट जो किशनगंज हारे वह नीतीश (Nitish Kumar) के लिए सबसे अधिक संतोष का कारण रहा. जैसे अधिकांश एनडीए प्रत्याशियों को अपनी जीत के इतने अधिक अंतर का अंदाज़ा नहीं था वैसे ही किशनगंज में जनता दल प्रत्याशी के तीन लाख से अधिक वोट आने की शायद नीतीश को भी उम्मीद नहीं थी. लेकिन इन वोटों से नीतीश को अब भरोसा हो गया है कि विधानसभा चुनाव में मुस्लिम मतदाताओं का एक प्रभावी तबक़ा उनके गठबंधन को उनके नाम पर वोट करेगा. 

6. चुनाव परिणाम से नीतीश (Nitish Kumar) के सहयोगी और विरोधी दोनों एक बात पर सहमत दिखे कि अति पिछड़ी जातियों और महादलित समुदाय पर अभी भी नीतीश का सिक्का चल रहा है. ये दोनों वोट बैंक नीतीश ने अपने शासन काल में बनाए और अभी भी उनका विश्वास किसी अन्य दल से ज़्यादा नीतीश पर है.

7. हालांकि चुनाव परिणाम के बाद नीतीश (Nitish Kumar) ने माना कि जाति एक फ़ैक्टर है लेकिन उन्होंने ये भी माना कि काम को मान्यता जनता देगी, जो परिणाम से साबित हो गया. नीतीश के अनुसार महत्व  काम का ही है. उनके अनुसार बाक़ी जो समाज को बांटने की कोशिश हैं वे नाकाम हुईं. काम करने वाली जमात को जनता ने समर्थन दिया है. जो जाति को जोड़कर विश्लेषण करने की कोशिश कर रहे थे, वे अब समझ रहे हैं. 

8. जाति आधारित राजनीति का दौर अब ख़त्म हो गया. यह  नीतीश (Nitish Kumar) के लिए सबसे सुखद बात है क्योंकि उनके सीमित वोट बैंक के बारे में अब तक सवाल उठते रहे थे. 

9. इस चुनाव के परिणाम से नीतीश (Nitish Kumar) इसलिए भी ख़ुश होंगे कि अब अगले साल विधानसभा चुनाव में राजद-कांग्रेस गठबंधन से उन्हें कोई राजनीतिक चुनौती नहीं है. वैसे भी वोट का अंतर बीस प्रतिशत से अधिक है जिसे पलटने के लिए राजनीतिक चमत्कार चाहिए. 

10. सबसे ज़्यादा नीतीश (Nitish Kumar) के लिए संतोषजनक बात इस लोक सभा परिणाम से यह रही कि तेजस्वी यादव उनके लिए अब राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी नहीं बल्कि एक वरदान हैं जो जब तक उनके सामने रहेगा नीतीश आराम से बिहार की गद्दी पर राज करेंगे.

VIDEO : नीतीश कुमार ने बिहार की जनता का आभार जताया 

Uttar Pradesh Election Results 2019 । West Bengal Election Results 2019 । Bihar Election Results 2019 । Delhi Election Results 2019 । Jharkhand Election Results 2019 । Gujarat Election Results 2019 । Haryana Election Results 2019 । Madhya Pradesh Election Results 2019 । Maharashtra Election Results 2019 । Punjab Election Results 2019 । Rajasthan Election Results 2019 । Odisha Election Results 2019 । Andhra Pradesh Election Results 2019 । Arunachal Pradesh Election Results 2019 । Assam Election Results 2019 । Chhattisgarh Election Results 2019 । Goa Election Results 2019 । Himachal Pradesh Election Results 2019 । Jammu & Kashmir Election Results 2019 । Karnataka Election Results 2019 । Kerala Election Results 2019 । Manipur Election Results 2019 ।Meghalaya Election Results 2019 । Mizoram Election Results 2019 । Nagaland Election Results 2019 । Sikkim Election Results 2019 । Tamil Nadu Election Results 2019 । Telangana Election Results 2019 । Tripura Election Results 2019 । Uttarakhand Election Results 2019 । Andaman and Nicobar Islands Election Results 2019 ।Chandigarh Election Results 2019 । Dadra and Nagar Haveli Election Results 2019 । Daman & Diu Election Results 2019 । Lakshadweep Election Results 2019 । Puducherry Election Results 2019 

टिप्पणियां

टिप्पणियां

अपने लोकसभा क्षेत्र का चुनाव परिणाम (Election Results 2019) यहां देखें LIVE 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement