NDTV Khabar

मध्य प्रदेश : लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस सरकार ने चला ऐसा दांव , बीजेपी के खेमे में मच गई हलचल

लोकसभा चुनाव(Lok Sabha election 2019) से पहले मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार(Congress Govt) ने बड़ा दांव चला है. जिससे बीजेपी(BJP) को नुकसान सहना पड़ सकता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्य प्रदेश : लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस सरकार ने चला ऐसा दांव , बीजेपी के खेमे में मच गई हलचल

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamal Nath) की फाइल फोटो.

खास बातें

  1. लोकसभा चुनाव से पहले मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार का बड़ा दांव
  2. पिछड़ों को आरक्षण के लिए सीएम कमलनाथ ने की अहम घोषणा
  3. कांग्रेस का बढ़ सकता है जनाधार, कमलनाथ के बयान से बीजेपी के खेमे में हलचल
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव से पहले मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार ने बड़ा दांव चला है. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने  पिछड़ा वर्ग के आरक्षण का कोटा बढ़ाने की तैयारी की है. उन्होंने बुधवार को ऐलान किया है कि राज्य सरकार अन्य पिछड़ा वर्गो के आरक्षण को 14 प्रतिशत से बढ़ाकर 27 प्रतिशत करेगी. साथ ही सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से दुर्बल नागरिकों के लिए राज्य सरकार सरकारी नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान भी लागू करेगी. सागर जिले में बुधवार को जय किसान फसल ऋण माफी योजना में किसानों को प्रमाण पत्र वितरित करने के बाद सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज में सभी वर्गो को आगे बढ़ने के अवसर मिले, इसके लिए सरकार प्रतिबद्ध है. माना जा रहा है कि कमलनाथ के इस कदम से कांग्रेस का पिछड़ों में और जनाधार बढ़ेगा, जिससे बीजेपी की परेशानी बढ़ेगी. यही वजह है कि कमलनाथ के बयान के बाद बीजेपी के खेमे में हलचल बढ़ी है. 

यह भी पढ़ें- MP के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर की यह अपील...


कमलनाथ ने कहा, "किसानों की खुशहाली और नौजवानों की तरक्की के लिए सरकार लगातार 70 दिनों से काम कर रही है. मुख्यमंत्री का पद सम्हालते ही किसानों की कर्जमाफी की. साथ ही युवाओं को रोजगार देने के लिए युवा स्वाभिमान जैसी योजनाएं लागू की."मुख्यमंत्री ने कहा, "हम कृषि क्षेत्र पर आधारित 70 प्रतिशत लोगों को सशक्त बनाने के लिए काम कर रहे हैं. हमारा लक्ष्य है कि हम कृषि क्षेत्र में ऐसी क्रांति लाएं कि पूरे प्रदेश के विकास का नक्शा बदल जाए। अर्थव्यवस्था की रीढ़ हमारे किसान हैं और उनको मेहनत से किए गए उत्पादन का वाजिब दाम मिले, यह हमारा प्रयास है." उन्होंने कहा, "हमारे धरती पुत्र किसान की क्रय शक्ति में वृद्धि होने से प्रदेश का तेजी से विकास होगा. किसान ऋण माफी योजना कर्ज के बोझ से दबे किसानों को मुक्त करने का ऐतिहासिक काम राज्य सरकार कर रही है. सरकार 25 लाख किसानों का ऋण माफ करने जा रही है. इसके बाद हम 25 लाख किसानों को इस योजना का लाभ देंगे."

यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेशः कमलनाथ सरकार मुसीबत में फंसी, कांग्रेस के नाराज 25 विधायकों ने बनाया क्लब

राज्य में संभावित निवेश का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, "सरकार प्रदेश में निवेश का एक नया विश्वास का वातावरण बना रही है. हमारा नौजवान विकसित मध्यप्रदेश का भविष्य है. निवेश के जरिए हम हर हाथ को काम देने की ओर आगे बढ़ रहे हैं."जय किसान ऋण माफी योजना समारोह को जिले के प्रभारी एवं वाणिज्यिक कर मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौर, राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, कुटीर एवं ग्रामोद्योग, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री हर्ष यादव ने भी संबोधित किया.मुख्यमंत्री ने इस मौके पर 12 किसानों को प्रतीक स्वरूप ऋण माफी के प्रमाण-पत्र दिए. उन्होंने लाड़ली लक्ष्मी और मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना के हितग्राहियों को भी प्रमाण-पत्र और स्वीकृति पत्र दिए.(इनपुट-IANS)

टिप्पणियां

वीडियो- मध्‍यप्रदेश में किसान कर्जमाफी घोटाला​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement