NDTV Khabar

मध्यप्रदेश : हार्दिक पटेल की जनसभा के बाद नोट बांटते हुए दिखे कांग्रेस के नेता

मध्यप्रदेश के रतलाम जिले के धराड़ में हुई सभा, हार्दिक पटेल ने कहा - चुनाव के पांचवें चरण के बाद मोदीजी के मुंह पर से हंसी गायब हो गई

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्यप्रदेश : हार्दिक पटेल की जनसभा के बाद नोट बांटते हुए दिखे कांग्रेस के नेता

वीडियो में कांग्रेस के पदाधिकारी रुपये बांटते हुए दिखाई दे रहे हैं.

भोपाल:

रतलाम लोकसभा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया के समर्थन में गुरुवार को धराड़ में हुई हार्दिक पटेल की सभा विवादों में घिर गई है. सभा खत्म होते ही एक वीडियो वायरल हो गया, जिसमें कांग्रेस के जिलाध्यक्ष राजेश भरावा, कार्यवाहक अध्यक्ष दिनेश शर्मा सभा स्थल पर ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को रुपये बांटते दिखाई दे रहे हैं.

हालांकि कांग्रेस के नेताओं ने इस वीडियो को झूठा बताया है, लेकिन बीजेपी का आरोप है कि पैसे देकर भीड़ जुटाई गई जिसकी शिकायत चुनाव आयोग से की गई है. आयोग ने शिकायत पर कार्यवाहक अध्यक्ष दिनेश शर्मा से जवाब भी मांगा गया है.

कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने कहा कि देश में चल रहे लोकसभा चुनावों के पांचवें चरण के बाद इस देश की जनता ने तय कर लिया है कि 2019 में कांग्रेस की सरकार बनानी है, इसीलिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मुंह पर से हंसी गायब हो गई है.

हार्दिक पटेल ने दावा किया है कि न केवल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी देश के प्रधानमंत्री बनेंगे, बल्कि इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस गुजरात में भाजपा से एक ज्यादा सीट भी जीतेगी. हार्दिक ने भोपाल में  संवाददाताओं से कहा ‘इस बार जनता मुद्दे के साथ है, अहिंसा के साथ है. मैं मानता हूं कि राहुल एवं कांग्रेस पार्टी पर देश की जनता ने भरोसा किया है.' उन्होंने कहा, ‘इस देश की जनता ने तय कर लिया है कि 2019 में कांग्रेस की पार्टी की सरकार बनानी है. इसीलिए पांचवें चरण के चुनाव के बाद नरेन्द्र मोदीजी के मुंह पर से हंसी निकल (गायब) गई है.'


टिप्पणियां

पटेल ने कहा, ‘हमारे मुंह पर हंसी है. हम मुस्करा रहे हैं. लेकिन नरेन्द्र मोदीजी मुद्दे से भटक कर इस देश की जनता को गुमराह अभी भी कर रहे हैं.' मोदी द्वारा हाल ही में राजीव गांधी के खिलाफ की गई टिप्पणियों की ओर इशारा करते हुए हार्दिक ने कहा, ‘हमारे यहां कहावत है कि जिसकी मृत्यु हो जाती है, उस पर गलत टिप्पणियां नहीं की जाती हैं. इस देश के प्रधानमंत्री के मुंह से स्वर्गीय प्रधानमंत्री राजीव गांधी के खिलाफ अभद्र भाषा का उपयोग हो रहा है. जिसने इस देश को संचार के माध्यम में क्रांति दी और 21वीं सदी में मजबूत करने का काम किया था, उन्हीं राजीव गांधी को कहीं न कहीं खराब दिखाने का काम हमारे देश के प्रधानमंत्री कर रहे हैं. मुझे लगता है कि यह इस देश के लिए बड़े दुख की बात है.'

उन्होंने कहा, ‘मुझे ऐसा लगता है कि लोकसभा में उन्होंने वोट के लिए स्वर्गीय प्रधानमंत्री राजीव गांधी के खिलाफ जिस भाषा का उपयोग किया, इससे साबित हो गया कि देश की जनता में ईमानदार नेतृत्व को चुना है और राहुल गांधी के नेतृत्व को चुना है.'



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement