NDTV Khabar

महाबल मिश्रा: पार्षद से सासंद बनने तक का सफर, पढ़े यहां

महाबल ने अपना राजनीतिक करियर दिल्ली नगर निगम से दिल्ली के पार्षद के रूप में शुरू किया. 1997 में डाबरी वार्ड का प्रतिनिधित्व किया. 1998 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में, वह नसीरपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाबल मिश्रा: पार्षद से सासंद बनने तक का सफर, पढ़े यहां

महाबल मिश्रा ने बारहवीं करने के बाद ट्रंजिस्टर थ्योरी में डिप्लोमा किया है.

नई दिल्ली:

कांग्रेस में एक मात्र पूर्वांचली चेहरा महाबल मिश्रा (Mahabal Mishra) लोकसभा चुनाव 2019 में पूर्वी दिल्ली से मैदान में हैं. वे पहले भी इसी सीट पर 2009 में चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंच चुके हैं. विरोधी पार्टियों के खिलाफ अक्सर हमलावर रहने वाले महाबल मिश्रा (Mahabal Mishra) मधुबनी जिले के सिरियापुर में 31 जुलाई 1953 में पैदा हुए हैं. उन्होंने साइंस स्ट्रीम से बारहवीं करने के बाद मुजफ्फरपुर के एल.एस कॉलेज से ट्रंजिस्टर थ्योरी में डिप्लोमा किया. 1966 में उन्होंने उर्मिला मिश्रा से शादी की और उनके तीन बच्चे हैं , जिनमें 2 लड़के और एक लड़की है. 

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: दिल्ली में त्रिकोणीय मुकाबला, आप-कांग्रेस और बीजेपी आमने-सामने

टिप्पणियां

महाबल ने अपना राजनीतिक करियर दिल्ली नगर निगम से दिल्ली के पार्षद के रूप में शुरू किया. 1997 में डाबरी वार्ड का प्रतिनिधित्व किया. 1998 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में वह नसीरपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए. 2003 और 2008 के विधानसभा चुनावों में भी उन्होंने नई दिल्ली की द्वारका सीट से चुनाव जीता था. 2009 में पश्चिमी दिल्ली से लोकसभा का चुनाव जीतकर पहली बार संसद पहुंचे. इस बीच वे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस पर बनाई गई समिति के सदस्य भी रहे.

Arvinder Singh Lovely: कांग्रेस का हाथ छोड़ थामा था बीजेपी का साथ, फिर की घर वापसी


15वीं लोकसभा के लिए 2009 में हुए चुनावों में महाबल मिश्रा (Mahabal Mishra) ने 55% वोट हासिल किए थे और बीजेपी के जगदीश मुखी को एक लाख बीस हज़ार से ज्यादा वोटों के अंतर से हराया था. इस बार भी कांग्रेस ने उनके ऊपर पश्चिमी दिल्ली से दांव खेला है. यहां से उनके सामने बीजेपी ने इस सीट पर 2014 के पूर्व विजेता प्रवेश वर्मा (Pravesh Verma) को उतारा है, जबकि आम आदमी पार्टी ने बलबीर सिंह जाखड़ (balbir singh jakhar) को इस सीट से उम्मीदवार बनाया है. महाबल कांग्रेस के दिग्गज नेता माने जाते हैं, लेकिन 2006 के एक दुष्कर्म और अपहरण मामले में पूरे परिवार का नाम सामने आने के बाद महाबल की छवि को काफी नुकसान हुआ है. यही वजह है कि इस बार उनके सामने मुकाबला कड़ा रहने की उम्मीद है.  



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement