NDTV Khabar

महाराष्ट्र के मंत्री ने NCP चीफ शरद पवार के गढ़ से BJP के चिह्न पर चुनाव लड़ने से किया इनकार

बारामती राकांपा प्रमुख शरद पवार का गढ़ है. इसके मद्दनेजर भाजपा चाहती है कि जानकर उसके ‘कमल’ चिह्न पर चुनाव लड़ें.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र के मंत्री ने NCP चीफ शरद पवार के गढ़ से BJP के चिह्न पर चुनाव लड़ने से किया इनकार

प्रतीकात्मक तस्वीर.

मुंबई:

भारतीय जनता पार्टी (BJP) की ओर से लगातार दबाव बनाए जाने के बावजूद राष्ट्रीय समाज पक्ष (आरएसपी) के प्रमुख महादेव जानकर ने मंगलवार को कहा कि वह भाजपा के चुनाव चिह्न ‘कमल' पर बारामती सीट से लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) नहीं लड़ेंगे. राकांपा नेता सुप्रिया सुले को 2014 आम चुनाव में बारामती से कड़ी टक्कर देने वाले जानकर ने कहा कि वह अपने आरएसपी चुनाव चिह्न से ही चुनाव लड़ना चाहते हैं. उन्होंने मीडिया से कहा, ‘मैंने भाजपा नेतृत्व को पहले ही कह दिया है कि मैं केवल हमारी पार्टी के चुनाव चिह्न पर लोकसभा चुनाव में उतरूंगा. विधानसभा चुनाव में भी हमारा यही रुख रहेगा.' 

बारामती राकांपा प्रमुख शरद पवार का गढ़ है. इसके मद्दनेजर भाजपा चाहती है कि जानकर उसके ‘कमल' चिह्न पर चुनाव लड़ें.


24 मार्च को चुनावी अभियान का आगाज करेगी BJP, दो दिनों में 480 लोकसभा सीटों पर करेगी 500 सभाएं

वहीं दूसरी ओर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने मंगलवार को घोषणा की कि वे महाराष्ट्र की सभी 48 लोकसभा सीटों पर मिलकर चुनाव लड़ेंगे. गठबंधन की घोषणा करते हुए सपा विधायक अबू आसिम आजमी ने कहा था कि दोनों दल मिलकर समाज के करीब ‘85-90 प्रतिशत' लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं. गठबंधन ने भाजपा और कांग्रेस से निराश लोगों के लिए तीसरे मोर्चे का विकल्प दिया है. 

उन्होंने आरोप लगाया, ‘देश में धर्मनिरपेक्षता खत्म होने के कगार पर है. जो खुद को चौकीदार बोलते हैं वे सत्ता पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं और झूठ फैलाते हैं.' आजमी ने दावा किया कि सपा-बसपा गठबंधन इतना मजबूत है कि यह महाराष्ट्र में भाजपा को 5-7 से ज्यादा सीटें नहीं जीतने देगा.

बॉलीवुड एक्टर का 'मैं भी चौकीदार' कैंपेन पर निशाना, लिखा- देश को जरूरत थी राजीव गांधी की तरह...

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए आजमी ने कहा कि मुख्य विपक्षी दल ने मुस्लिमों, दलितों और पिछड़े वर्गों को ‘असहाय' बना दिया है क्योंकि लोगों के पास कोई तीसरा विकल्प नहीं है. उन्होंने दावा किया, ‘हालांकि, सभी 48 सीटों पर चुनाव लड़ने के हमारे फैसले के बाद, तीसरा मोर्चा उपलब्ध रहेगा. हम समाज के 85-90 प्रतिशत समाज का प्रतिनिधित्व करते हैं.'

(इनपुट- भाषा)

बीजेपी को बड़ा झटका, अरुणाचल प्रदेश में 2 मंत्रियों और 12 विधायकों समेत 15 नेताओं ने पार्टी छोड़ी

टिप्पणियां

VIDEO- 24 और 26 मार्च को देश भर में 500 सभाएं करेगी बीजेपी

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement