NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव 2019: सपा-बसपा गठबंधन की वजह से महज 'इतनी सीटों' पर सिमट सकती है बीजेपी, पढ़ें प्रणय रॉय का विश्लेषण

रॉय के विश्लेषण के अनुसार बीजेपी इतनी सीटें भी तभी ला सकती है अगर पीएम मोदी 2014 के लोकसभा चुनाव की तरह ही राज्य में अपनी कोई छाप छोड़ने में सफल हो पाएं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव 2019: सपा-बसपा गठबंधन की वजह से महज 'इतनी सीटों' पर सिमट सकती है बीजेपी, पढ़ें प्रणय रॉय का विश्लेषण

सपा-बसपा के गठबंधन से बीजेपी को यूपी में हो सकता है बड़ा नुकसान

खास बातें

  1. गठबंधन को लेकर यूपी के लोगों में उत्साह
  2. कांग्रेस भी जीत सकती है पहले से ज्यादा सीटें
  3. एनडीए को जताई जा रही है नुकसान की आशंका
लखनऊ:

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (SP) और बहुजन समाज पार्टी (BSP) के बीच लोकसभा चुनाव (Lok sabha Election 2019) से ठीक पहले हुआ गठबंधन सत्ताधारी बीजेपी (BJP)की मुश्किलें बढ़ा रहा है. उत्तर प्रदेश में लोगों के बीच इस गठबंधन को लेकर मौजूद उत्साह यह बताता है कि बीजेपी को आगामी लोकसभा चुनाव में सीटों का बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है. बता दें कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में कुल 80 में से 71 सीटें जीती थीं. जबकि बीजेपी की सहयोगी अपना दल ने भी दो सीटें जीती थीं. इस तरह से एनडीए (NDA) के पास कुल 73 सीटें थी. एनडीटीवी के प्रणय रॉय के अनुसार मायावती और अखिलेश यादव इस बार एनडीए के 2014 में जीते गए 73 सीटों के आंकड़े को महज 37 सीटों तक सीमित रख सकते हैं. रॉय के विश्लेषण के अनुसार बीजेपी इतनी सीटें भी तभी ला सकती है अगर पीएम मोदी 2014 के लोकसभा चुनाव की तरह ही राज्य में अपनी कोई छाप छोड़ने में सफल हो पाएं. वहीं, अगर कांग्रेस इस गठबंधन के साथ आती है तो बीजेपी को और 14 सीटें गवानी पड़ सकती है, जिसका मतलब साफ तौर पर यह हुआ कि इस बार बीजेपी के उत्तर प्रदेश में महज 23 सीटें ही जीत दर्ज करने की संभावना दिख रही है. 

cbkabq8g

मौजूदा स्थित के अनुसार कांग्रेस को मायावती और अखिलेश यादव ने अपने गठबंधन का हिस्सा नहीं बनाया है. अगर चुनाव तक कांग्रेस इस गठबंधन से बाहर रहती है तो इसका फायदा बीजेपी को होता दिख रहा है. ऐसे में बीजेपी 14 सीटें जीत सकती है. मायावती और अखिलेश यादव जिस तरह से कांग्रेस को अपने गठबंधन से बाहर रखने पर अड़े हैं. इसका साफ मतलब यह निकलता है कि 80 में से ज्यादातर सीटों पर त्रिकोणिय मुकाबला होगा और ऐसी स्थिति में बीजेपी विरोधी मतों का विभाजन होगा. 

hgm9reoc

सोमवार को एक बार फिर मायावती ने कांग्रेस के गठबंधन में शामिल होने के उम्मीदों पर पानी फेरते हुए कहा कि अगर कांग्रेस चाहे तो वह सभी 80 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार ले. खास बात यह है कि कांग्रेस ने इस लोकसभा चुनाव में मायावती-अखिलेश यादव गठबंधन के लिए सात सीटें छोड़ने की बात कही थी. इसी के जवाब में मायावती ने कांग्रेस को सभी 80 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की नसीहत दी थी. 

कांग्रेस के ऑफर पर बरसीं मायावती, कहा-कांग्रेस से कोई गठबंधन नहीं, अखिलेश ने सुर में सुर मिलाया

अखिलेश यादव ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा था कि देश की बड़ी पार्टी के नाते कांग्रेस को चाहिए कि वह दूसरी राजनीतिक पार्टियों की मदद की कोशिश करें. उन्होंने कहा था कि अगर अभी की बात की जाए तो कांग्रेस ममता बनर्जी की मदद करने की कोशिश जरूर करेगी. दिल्ली में अरविंद केजरीवाल लड़ेंगे और वहां उन्हें उनका समर्थन करना चाहिए. अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो हम एक गठबंधन बना चुके हैं, उन्हें हमारा समर्थन करना चाहिए. 

टिप्पणियां

अखिलेश यादव ने किया दावा, बीजेपी पूरे देश में सिर्फ 74 सीटों पर सिमट जाएगी

कांग्रेस पार्टी के स्थानीय नेताओं के अनुसार अगर उसे गठबंधन में जगह मिलती है तो इससे पार्टी को अपने उस उद्देश्य को पूरा करने में मदद मिलेगी जिसके तहत वह बीजेपी को यूपी में हराना चाहती है. वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि कांग्रेस और गठबंधन में शामिल दल इस बार आसानी से 50 से 60 सीटें जीतेंगे. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement