पार्टी बदलने के बावजूद नहीं बदली दलबदलुओं की किस्मत, लिस्ट में इन दिग्गजों के नाम भी शामिल

Election Result 2019: इस बार के लोकसभा चुनाव में दलबदलुओं की किस्मत नहीं चमकी. उत्तर प्रदेश में अंतिम क्षणों में सपा छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले प्रवीण निषाद ही चुनाव जीत पाये.

पार्टी बदलने के बावजूद नहीं बदली दलबदलुओं की किस्मत, लिस्ट में इन दिग्गजों के नाम भी शामिल

76 नेताओं ने चुनाव से पहले बदली अपनी पार्टी

नई दिल्ली:

Election Result 2019: इस बार के लोकसभा चुनाव में दलबदलुओं की किस्मत नहीं चमकी. उत्तर प्रदेश में अंतिम क्षणों में सपा छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले प्रवीण निषाद ही चुनाव जीत पाये. प्रवीण गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में सपा-बसपा के संयुक्त उम्मीदवार के रूप में जीते थे. बीजेपी ने उन्हें संत कबीर नगर से प्रत्याशी बनाया था. निषाद ने बसपा के भीष्म शंकर को 35, 749 मतों से पराजित किया. यूपी में प्रवीण के अलावा अन्य सभी दलबदूलओं की हालत खस्ता दिखी. बीजेपी छोडने वाली सावित्री बाई फुले की किस्मत दगा दे गई. वह कांग्रेस में गईं और बहराइच से उनकी जमानत जब्त हो गई. 

Election Results 2019: कौन जीता कौन हारा, देखें पूरी लिस्ट

इसके अलावा यूपी में कांग्रेस के गढ़ रायबरेली में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी का मुकाबला बीजेपी के दिनेश प्रताप सिंह से था. कांग्रेस छोडकर बीजेपी में गये दिनेश की किस्मत ने साथ नहीं दिया, इलाहाबाद से भाजपा सांसद रहे श्यामा चरण गुप्ता ने सपा का दामन थामा लेकिन बांदा से जीत नहीं पाये. बसपा छोडकर कांग्रेस में आईं कैसर जहां सीतापुर से चुनाव हार गईं.    सपा छोड़कर कांग्रेस में गए राकेश सचान फतेहपुर से हार गए. बसपा छोड़कर कांग्रेस में गये नसीमुददीन सिद्दिकी बिजनौर से हार गए. बीजेपी छोडकर कांग्रेस में गये अशोक कुमार दोहरे इटावा से हार गये. मछलीशहर से भाजपा सांसद रहे चरित्र निषाद सपा के साथ गए लेकिन मिर्जापुर से चुनावों में हार का मुंह देखना पड़ा. 

NDA की बैठक कल, पीएम मोदी को चुना जाएगा संसदीय दल का नेता

यूपी के अलावा देश की कई सीटों पर दलबदलुओं को हार का मुंह देखना पड़ा. इस लिस्ट में शत्रुघ्न सिन्हा और पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद जैसे दिग्गज नेता शामिल हैं. कुल मिलाकर देश में 76 में से अधिकतर दलबदलुओं को हार का सामना करना पड़ा. क्रिकेट से राजनीति में आये कीर्ति आजाद धनबाद सीट पर चुनाव हार गए. उन्होंने बीजेपी के पशुपतिनाथ सिंह ने चार लाख 86 हजार व 194 के बड़े अंतर से हराया. वह चुनाव से ठीक पहले बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में आये थे जबकि दरभंगा से वह तीन बार भाजपा सांसद रह चुके हैं. पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र कांग्रेस के टिकट पर बाड़मेर से भाजपा के कैलाश चौधरी से तीन लाख 23 हजार मतों से हार गए.  इस बीच भोजपुरी अभिनेता रवि किशन गोरखपुर में तीन लाख से अधिक मतों से जीत गए. रवि किशन पिछली बार जौनपुर से कांग्रेस के टिकट पर हार गए थे लेकिन इस बार वह भाजपा के उम्मीदवार हैं. 

मजबूत महागठबंधन और गोरखपुर-फूलपुर के नतीजों से परेशान थी BJP,तब अमित शाह ने निकाला पुराना फॉर्मूला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कर्नाटक में तीन नेता कांग्रेस से बीजेपी में आये जिनमें से दो को जीत हासिल हुई. उमेश यादव ने गुलबर्गा में कांग्रेसी दिग्गज मल्लिकार्जुन खडगे को हराया जबकि वाई देवेंद्रप्पा बेल्लारी में जीत गए. वहीं हासन से भाजपा उम्मीदवार ए मंजू पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा के पौत्र प्रज्जवल रेवन्ना से 1.41 लाख मतों से हार गए. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल के बेटे सुजय विखे पाटिल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे. 

Video: ये जीत पूरे विश्व की सबसे बड़ी घटना है - पीएम मोदी