लोकसभा चुनाव 2019 : केंद्र में मोदी सरकार रहेगी या जाएगी, अब यहां से होगा तय

 23 अप्रैल को 106 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे. बीजेपी-एनडीए के लिए अच्छी बात यह है कि बिहार में उसके हिसाब से समीकरण बनते दिखाई दे रहे हैं तो दूसरी ओर एनडीटी पोल ऑफ पोल्स के मुताबिक बीजेपी को पश्चिम बंगाल और ओडिशा में 10-10 सीटें मिल सकती है.

लोकसभा चुनाव 2019 : केंद्र में मोदी सरकार रहेगी या जाएगी, अब यहां से होगा तय

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण का मतदान अब 23 अप्रैल को है

खास बातें

  • बाकी 5 चरणों का मतदान अहम
  • 357 सीटों का चुनाव,बीजेपी के पास हैं 223 सीटें
  • कई राज्यों में बीजेपी को कड़ी चुनौती
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव  के तीसरे चरण की तैयारी शुरू हो गई है. असली घमासान अब इस चरण से शुरू होने वाला है और हो सकता है नेताओं की बेलगाम बयानबाजी में और तेजी आ जाए. हालांकि तीसरे चरण को मिलाकर अभी पांच चरण बाकी हैं जिसमें 357 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे. यह चरण बीजेपी के लिए काफी अहम हैं क्योंकि इनमें 223 सीटें बीजेपी के पास हैं जो सरक बनाने के लिए और बिगाड़ने में बड़ी भूमिका निभाएंगी.  23 अप्रैल को 106 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे. बीजेपी-एनडीए के लिए अच्छी बात यह है कि बिहार में उसके हिसाब से समीकरण बनते दिखाई दे रहे हैं तो दूसरी ओर एनडीटी पोल ऑफ पोल्स के मुताबिक बीजेपी को पश्चिम बंगाल और ओडिशा में 10-10 सीटें मिल सकती है. हालांकि सभी सीटों के हिसाब से देखें तो बीजेपी को करीब 55 सीटों का नुकसान होता दिखाई दे रहा है फिर भी बीजेपी को 228 सीटें मिल सकती हैं और केंद्र में उसकी सरकार बन सकती है. लेकिन यह सब कुछ बाकी चरणों के मतदान पर बहुत कुछ निर्भर करेगा.

लोकसभा चुनाव 2019: मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा पर पीएम मोदी की पहली प्रतिक्रिया

गुजरात और कर्नाटक में सीधी लड़ाई
गुजरात में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजों से साफ है कि कांग्रेस वहां पहले की तुलना में बहुत मजबूत हो चुकी है और इस बार एकतरफा लड़ाई नहीं होने देगी. पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने गुजरात की सभी 26 सीटें जीत ली थीं. बात करें कर्नाटक की तो बीजेपी ने यहां पर 17 सीटें जीती थीं लेकिन अब यहां पर अभी यहां कांग्रेस के सहयोग से जेडीएस सत्ता में है और दोनों के वोट मिलकर बीजेपी के लिए खासी दिक्कत पैदा करेंगे.

ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक का आरोप- बीजेपी ने की चिल्का झील बेचने की कोशिश

उत्तर प्रदेश में सपा और बीएसपी बने सिरदर्द
अभी उत्तर प्रदेश की 64 सीटों पर चुनाव होना बाकी है. इनमें बीजेपी के पास 57 सीटें हैं जिन्हें बचाना आसान नहीं है. सपा और बीएसपी का वोट मिला दिया जाए तो कई सीटों पर बीजेपी से ज्यादा ही है. वहीं कांग्रेस भी इन सीटों पर चुनाव लड़ रही है. हो सकता है त्रिकोणीय लड़ाई में बीजेपी को फायदा हो सकता है.

पश्चिम बंगाल : ईवीएम की निगरानी करने वाला नोडल अफसर लापता, चुनाव आयोग ने तलब की रिपोर्ट

बिहार में भी आरजेडी गठबंधन से टक्कर
बिहार में बीजेपी-जेडीयू-एलजेपी को आरजेडी-आरएलएसपी-कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन ठीकठाक टक्कर दे रहा है लेकिन वोट प्रतिशत मामले में बीजेपी-एनडीए गठबंधन विरोधी गठबंधन से आगे है. बीजेपी ने पिछली बार यहां पर 31 में से 22 सीटें जीती थीं. लेकिन जमीनी हकीकत भांपते हुए इस बार सिर्फ 17 सीटों पर ही चुनाव लड़ रही है बाकी सीटें सहयोगियों में बांट दी है. 

पीएम नरेंद्र मोदी ने व्यापारियों से कहा, 23 मई को फिर आने वाली है मोदी सरकार

मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ और राजस्थान में बड़ी चुनौती
पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 29 में से 27 सीटें जीती थी. वहीं राजस्थान में सभी सीटें 25 सीटें जीत ली थीं. एनडीटीवी पोल ऑफ पोल्स के मुताबिक बीजेपी को इन राज्यों में नुकसान होगा लेकिन उसकी सीटें कांग्रेस से ज्यादा रहेंगी. वहीं छत्तीसगढ़ में बीजेपी को 10 में से 1 ही सीट मिलती दिखाई दे रही है. यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि अब तीनों ही राज्यों में कांग्रेस की सरकार है. 

बीजेपी ने हेमंत करकरे पर बयान से पल्ला झाड़ा, साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने वापस लिए अपने शब्द

झारखंड बना बीजेपी के लिए बड़ा चुनौती
पिछली बार झारखंड में बीजेपी ने 14 में से 13 सीटें जीती थीं. एनडीटीवी पोल ऑफ पोल्स के मुताबिक झारखंड में बीजेपी को इस बार आधे से ज्यादा सीटों का नुकसान हो सकता है. कांग्रेस ने झारखंड मुक्ति मोर्चा और अन्य स्थानीय दलों के साथ मजबूत गठबंधन किया है जिसका समीकरण बीजेपी पर भारी पड़ सकता है.

लोकसभा चुनाव 2019 : भुवनेश्वर में आईएएस बनाम आईपीएस​

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com