NDA को बड़ा झटका: ओपी राजभर ने किया BJP से किनारा, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी अकेले लड़ेगी चुनाव

उत्तर प्रदेश की 80 में से 25 सीटों पर राजभर अपने उम्मीदवार उतारेंगे. सभी 25 उम्मीदवारों का ऐलान सोमवार को ही किया जाएगा.

NDA को बड़ा झटका: ओपी राजभर ने किया BJP से किनारा, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी अकेले लड़ेगी चुनाव

योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओपी राजभर.

लखनऊ:

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) के पहले चरण के बाद योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओपी राजभर (OP Rajbhar) ने एनडीए (NDA) को बड़ा झटका दिया है. सोमवार को राजभर ने ऐलान किया कि उनकी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (Suheldev Samaj Party) भाजपा से कोई संबंध नहीं रखेगी और उनकी पार्टी अकेले चुनाव लड़ेगी. उत्तर प्रदेश की 80 में से 25 सीटों पर राजभर अपने उम्मीदवार उतारेंगे. सभी 25 उम्मीदवारों का ऐलान सोमवार को ही किया जाएगा. बताया जा रहा है कि छठे-सातवें चरण वाली सीटों पर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी चुनाव लड़ेगी.

बता दें, इससे पहले भी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने राज्य में लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने का ऐलान किया था. पार्टी महासचिव और प्रदेश के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर के पुत्र अरुण राजभर ने बयान जारी करके यह ऐलान किया था. उन्होंने कहा था कि प्रदेश में 'हम अकेले लड़ेंगे चुनाव'. उन्होंने जानकारी दी कि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के साथ महामंथन जारी है.

CM योगी की गोरखपुर सीट कब्जाने वाले प्रवीण निषाद हुए भाजपा में शामिल, पार्टी बनेगी सहयोगी

आगे की रणनीति पर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी लोकसभा वार कार्यकर्ताओं से समीक्षा करने में जुटी है तथा प्रदेश के 53 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की तैयारी चल रही है. उन्होंने बताया कि इसका खुलासा शीघ्र कर दिया जायेगा. उन्होंने बताया था कि दल में हर पहलुओं पर समीक्षा चल रही है और प्रत्याशी की सूची को अंतिम रूप देने के बाद इसे जल्द ही सार्वजनिक की जाएगी.

निषाद पार्टी का BJP से हुआ गठबंधन तो अखिलेश यादव ने बताया 'घाटे का सौदा', जानिये क्या है कारण?

अरुण राजभर ने भाजपा हमला करते हुए कहा था कि कि भाजपा घमंड में चूर है तथा उसे गलतफहमी है कि केंद्र में फिर उसकी सरकार बनने जा रही है. भाजपा को लोकसभा चुनाव के बाद अपनी गलती का एहसास होगा. उन्होंने दावा किया था कि सुभासपा का जनाधार और लोकप्रियता निषाद पार्टी की तुलना में कहीं ज्यादा है. यह पिछले चुनाव में दोनों दलों को मिले मतों की संख्या से भी जाहिर होता है. 

बता दें, सुभासपा ने साल 2017 में हुए प्रदेश की आठ विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिनमें से उसे चार पर जीत मिली थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

योगी के गढ़ में उन्हीं को मात देने वाली निषाद पार्टी को BJP के साथ जाता देख सपा ने चली ये चाल

Video: प्रवीण निषाद हुए भाजपा में शामिल