NDTV Khabar

प्रवेश वर्मा: दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री का बेटा और बीजेपी का युवा चेहरा, यहां जानिए उनका राजनीतिक सफर

पश्चिमी दिल्ली से मौजूदा सांसद प्रवेश वर्मा एक बार फिर इसी सीट से चुनावी मैदान में हैं. उनके सामने कांग्रेस के महाबल मिश्रा और आम आदमी पार्टी से बलबीर सिंह जाखड़ हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रवेश वर्मा: दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री का बेटा और बीजेपी का युवा चेहरा, यहां जानिए उनका राजनीतिक सफर

पिछले लोकसभा चुनाव में प्रवेश ने 48.3% वोट हासिल कर जीत दर्ज की थी.

नई दिल्ली:

प्रवेश वर्मा (Parvesh Verma) लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी से पश्चिमी दिल्ली (West Delhi) सीट पर उम्मीदवार हैं. 2014 में वे इसी सीट पर जीत दर्ज कर चुके हैं. पार्टी का युवा चेहरा होने के साथ ही प्रवेश दिवंगत बीजेपी नेता और दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह के बेटे हैं. प्रवेश का जन्म 7 नवंबर 1977 को दिल्ली में हुआ है. उनकी पत्नी का नाम स्वाती सिंह हैं. प्रवेश एक बेटे और दो बेटियों के पिता हैं. प्रवेश ने इंटरनेशनल बिजनेस में एमबीए किया है और अब पूरी तरह से सक्रिय राजनीति में आ चुके हैं. 

यह भी पढ़े-  महाबल मिश्रा: पार्षद से सासंद बनने तक का सफर, पढ़े यहां


प्रवेश ने 2009 में पश्चिमी दिल्ली लोकसभा सीट से चुनाव की पूरी तैयारी कर ली थी लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला. इसके बाद उन्होंने 2013 में दिल्ली की महरौली विधानसभा से चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की. 2014 के आम चुनाव में प्रवेश वर्मा (Parvesh Verma) को बीजेपी ने पश्चिमी दिल्ली से उम्मीदवार बनाया और यहां से पहली बार वे लोकसभा पहुंचे. प्रवेश को इस चुनाव में 48.3% वोट हासिल हुए थे और उन्होंने आप के जरनैल सिंह को हराया था. जरनैल को 28.3% वोट हासिल हुए थे जबकि कांग्रेस के महाबल मिश्रा के हिस्से में सिर्फ 14.3% वोट ही आए थे.

यह भी पढ़ें- जितिन प्रसाद: एमबीए करने के बाद की थी राजनीति की शुरुआत, यहां जानिए पूरा सफर

प्रवेश की इस इलाके में काफी अच्छी पकड़ है. जनवरी, 2019 तक mplads.gov.in पर मौजूद आंकड़ों के अनुसार, प्रवेश वर्मा (Parvesh Verma) सांसद निधि से इलाके के विकास में 26.65 करोड़ रुपये खर्च कर चुके हैं. उन्हें सांसद निधि से अभी तक 30.67 करोड़ (ब्याज के साथ) मिले हैं. हालांकि बीते चुनाव की अपेक्षा इस चुनाव में उनकी संपत्ति में डेढ़ गुना बढ़ोत्तरी हुई है. जहां 2014 में उनके खिलाफ दो मामले भी चल रहे थे, जो इस साल जमा किए गए एफिडेविट के अनुसार नहीं हैं. 

टिप्पणियां

ये भी पढ़ें- दिलीप पांडेय: विदेश से लाखों की आईटी की नौकरी छोड़ राजनीति में रखा कदम, यहां जाने पूरा सफर

पश्चिमी दिल्ली सीट पर पंजाबी, सिख, जाट, पूर्वांचली वोटरों की संख्‍या अधिक है. यहां प्रवेश को अकाली दल का समर्थन है और वे मौजूदा विधायक भी हैं. ऐसे में वह इस चुनाव में अपने विरोधियों को कड़ी टक्कर दे सकते हैं. यहां से उनके खिलाफ कांग्रेस ने 2009 में इसी सीट पर जीत दर्ज कर चुके महाबल मिश्रा और आम आदमी पार्टी ने बलबीर जाखड़ को मैदान में उतारा है. 
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement