NDTV Khabar

कौन हैं अन्नपूर्णा शुक्ला, जिनका पीएम मोदी ने वाराणसी में पैर छूकर लिया आशीर्वाद

डॉ. अन्नपूर्णा शुक्ला को मदन मोहन मालवीय की दत्तक पुत्री माना जाता है और वह बीएचयू महिला महाविद्यालय की पूर्व प्राचार्य हैं. वह मालवीय जी से आशीर्वाद लेकर इस प्रतिष्ठित पद को ग्रहण करने वाले लोगों की पीढ़ी की अंतिम कड़ी हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कौन हैं अन्नपूर्णा शुक्ला, जिनका पीएम मोदी ने वाराणसी में पैर छूकर लिया आशीर्वाद

अन्नपूर्णा शुक्ला का पैर छूते पीएम मोदी

नई दिल्ली:

वह 91 बरस की दुबली पतली महिला हैं, चेहरे पर शिक्षा और अनुभव का तेज है और पिछले कई दशक से बड़ी खामोशी से शिक्षा के प्रसार और समाज सेवा के कार्यों में लगी हैं. शुक्रवार को देश के सबसे 'ताकतवर' इंसान ने उन्हें श्रद्धा से प्रणाम किया और अखबारों की सुर्खियों में जगह दिला दी. यहां बात हो रही है अन्नपूर्णा शुक्ला की, जो वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उम्मीदवारी के चार प्रस्तावकों में से एक हैं. डॉ. अन्नपूर्णा शुक्ला को मदन मोहन मालवीय की दत्तक पुत्री माना जाता है और वह बीएचयू महिला महाविद्यालय की पूर्व प्राचार्य हैं. वह मालवीय जी से आशीर्वाद लेकर इस प्रतिष्ठित पद को ग्रहण करने वाले लोगों की पीढ़ी की अंतिम कड़ी हैं. उन्होंने बीएचयू से ही मेडिकल की पढ़ाई की है और उन्हें महिला शिक्षा के क्षेत्र में एक मील के पत्थर की तरह देखा जाता है.    

2014 के मुकाबले 2019 में 52 फीसदी बढ़ गई पीएम मोदी की संपत्ति, पढ़ें पूरा ब्यौरा


टिप्पणियां

इस उम्र में भी सामाजिक कार्यों में अपना ज्यादातर समय व्यतीत करने वाली अन्नपूर्णा शुक्ला ने 15 साल के संघर्ष के बाद बीएचयू के महिला कालेज में गृह विज्ञान विभाग की शुरूआत कराई और इस विभाग की पहली प्रमुख भी उन्हें ही बनाया गया. उन्हें कश्मीर के एक स्नातकोत्तर संस्थान में गृह विज्ञान विभाग की शुरूआत का श्रेय भी जाता है. 1991 में काशी अनाथालय में वनिता पॉलिटेक्निक की स्थापना भी उन्हीं के प्रयासों का परिणाम है. वह लहुराबीर स्थित इस संस्था की मानद निदेशिका भी हैं. प्रधानमंत्री द्वारा झुककर उनके चरण स्पर्श करने से अभिभूत डॉ. अन्नपूर्णा ने ममतामयी मां की तरह उन्हें विजयी होने का आशीर्वाद दिया. विभिन्न चैनलों के साथ भेंट के दौरान वह कहती हैं कि प्रधानमंत्री का प्रस्तावक होना उनके लिए गर्व की बात है. 

905uph

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके नामांकन का पर्चा सौंपते हुए उनसे कहा, ‘मां के हृदय से मैं आपको आशीर्वाद देना चाहती हूं. आपने अब तक जिस निस्वार्थ भाव से देश की सेवा की है, आगे भी करते रहें.' इतना कहकर उन्होंने उनके सामने झुके प्रधानमंत्री के सिर पर अपना हाथ रख दिया. मूलत: बस्ती जनपद के सोनहा थानाक्षेत्र के एकडंगवा गांव की रहने वाली डा. अन्नपूर्णा की पारिवारिक पृष्ठभूमि की बात करें तो उनके पति बीएन शुक्ला 1980-83 के बीच गोरखपुर विवि के कुलपति रह चुके हैं. वह रूस में भारत के राजनयिक भी रहे. इनके पति के बड़े भाई दिवंगत प्रो. गंगा शरण शुक्ल गोरखपुर विश्वविद्यालय के जीव विज्ञान के संस्थापक विभागाध्यक्ष रहे. देवर दिवंगत शिवशरन शुक्ल बस्ती में वकालत करते थे. अन्नपूर्णा के चार बेटे हैं. जबकि प्रो. गंगा शरण शुक्ल के एक पुत्र डा.निखिल हैं जो वर्तमान में गोरखपुर विश्विविद्यालय के रसायन विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर है. 

क्या पहले कभी सत्ता के पक्ष में लहर नहीं थी? पीएम मोदी के दावे की यह है हकीकत

प्रसिद्ध लेखक अमीश त्रिपाठी ने अपनी बुआ अन्नपूर्णा शुक्ला के प्रधानमंत्री मोदी का प्रस्तावक बनने पर ट्विटर के जरिए खुशी जाहिर की. शिवा ट्रायोलॉजी के जरिए अपनी कलम के तेवर दिखाने वाले अमीश त्रिपाठी ने उनकी सबसे बड़ी बुआ के पीएम मोदी की प्रस्तावक बनने पर प्रसन्नता व्यक्त की और इसे पूरे परिवार के लिए गर्व की बात बताया. चालीस साल तक महिला महाविद्यालय में प्रोफेसर रहीं और महामना जी की गोदी में खेलीं अन्नपूर्णा शुक्ला को आज भले ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्रस्तावक बनने पर प्रसिद्धि मिली हो, लेकिन इस बात में दो राय नहीं कि महिला शिक्षा और समाज सेवा के क्षेत्र में उनके योगदान के बारे में जानकर हर भारतवासी इस ‘मां' के सामने नतमस्तक है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement