दिल्लीवालों को आरक्षण देने का मतलब सिर्फ दिल्ली नहीं बल्कि...? जानें राघव चड्ढा ने क्या कहा

राघव चड्ढा ने कहा, 'जब-जब हम ये कहते हैं दिल्ली वालों को हम यहां के कॉलेजों में आरक्षण देंगे...हम उसी सांस में एक और चीज कहते हैं कि दिल्ली वाले से हमारा मतलब है जो दिल्ली में वोट डालता हो. चाहे वह कही ये भी आया हो.

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) की सरगर्मी जोरों पर है. इस बार भी भारतीय जनता पार्टी दिल्ली की सभी सातों सीटों को जीतने के लिए पूरा दमखम लगा रही है. वहीं, दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी (AAP) और कांग्रेस (Congress) भी अपनी तरफ से कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाह रहे. दक्षिण दिल्ली से आम आदमी पार्टी (AAP) के उम्मीदवार राघव चड्ढा (Raghav Chadha) का मुकाबला भारतीय जनता पार्टी (BJP) के रमेश विधूड़ी (Ramesh Bidhuri) और कांग्रेस (Congress) के विजेंदर सिंह (Vijender Singh) से है. दिल्ली में छठे चरण में 12 मई को मतदान होना है. इस बीच राघव चड्ढा (Raghav Chadha News) भी जोरशोर से चुनाव प्रचार में लगे हैं और उन्होंने कालकाजी इलाके में रोड शो किया और वहां के लोगों की परेशानियों को जाना. NDTV के रवीश कुमार (Ravish Kumar) इस दौरान राघव चड्ढ़ा के साथ थे और उन्होंने उनसे कई मुद्दों पर बात की. राघव चड्ढा ने दिल्ली वालों के लिए आरक्षण का मतलब भी बताया.

Election 2019: AAP उम्मीदवार राघव चड्ढा ने बताया दक्षिणी दिल्ली में क्या है पूर्वांचली फैक्टर? 

राघव चड्ढा ने कहा, 'जब-जब हम ये कहते हैं दिल्ली वालों को हम यहां के कॉलेजों में आरक्षण देंगे...हम उसी सांस में एक और चीज कहते हैं कि दिल्ली वाले से हमारा मतलब है जो दिल्ली में वोट डालता हो. चाहे वह कही ये भी आया हो. बिहार से आया हो, यूपी से आया हो, मध्यप्रदेश, राजस्थान से, उत्तराखंड से आया हो. वह दिल्ली में वोट डालता है और वह दिल्ली का मतदाता है और पक्का दिल्ली वाला है.'

CCTV के मुद्दे पर बीजेपी ने एलजी को दिया है निर्देश, चुनाव से पहले पैसा और शराब कैसे बंटेगा : राघव चड्ढा

राघव ने कहां से जुटाया चंदा?
राघव चड्ढा ने कहा कि आज से एक हफ्ते पहले एक अखबार में खबर छपी थी कि गौतम गंभीर दिल्ली के सबसे अमीर और राघव चड्ढा सबसे गरीब उम्मीदवार हैं. राघव ने कहा कि मेरे पास न तो अपनी गाड़ी है, न कोई जमीन है और न कोई बंगला. मेरे पास सिर्फ थोड़ी बहुत संपत्ति है. मैंने अपने इलेक्शन को फंड करने के लिए चंदा जुटाया. मैं मॉर्डन स्कूल से पढ़ा. मेरे स्कूल से पिछले 60 साल में जो लोग ग्रेजुएट हुए हैं उनसे मैंने संपर्क किया. मैं पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट हूं. मैंने उत्तर भारत के सभी चार्टर्ड अकाउंटेंट से संपर्क किया. अपने परिवार वालों से संपर्क किया. मैं आम आदमी पार्टी को पिछले कई सालों से चंदा देने वाले लोगों तक भी पहुंचा. राघव ने कहा कि हमें कम चंदा चाहिए. राघव ने कहा कि बिना बड़ी पूंजी और बिना कॉरपोरेट की मदद से चुनाव लड़ा भी जा सकता है और जीता भी जा सकता है.

सलाहकार मामला: राघव चड्ढा ने 2.5 रुपये मेहनताना गृह मंत्रालय को लौटाया

बीजेपी पर निशाना साधते हुए राघव चड्ढा ने कहा कि मोदी और अमित शाह की जोड़ी एक साथ आ गई तो 
मोदी-शाह की जोड़ी सत्ता में आई तो न संविधान बचेगा न देश बचेगा और न ही पार्टियां बचेंगी. उसके खातिर हमलोग कांग्रेस से गठबंधन करने को तैयार थे. उन्होंने कहा कि हमने तो स्पष्ठ कहा है कि कोई भी गैर भाजपा सरकार बनती है. अगर वह हमारा जो चुनावी मुद्दा है...हम कह रहे हैं कि हमें दिल्ली के पूर्ण राज्य का दर्जा चाहिए. अगर कोई पूर्ण राज्या का दर्जा गैर भाजपा सरकार देती है तो हम उसे समर्थन देने के लिए पूरा विचार करेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Election 2019: कांग्रेस ने दक्षिण दिल्ली से बॉक्सर विजेंदर सिंह को बनाया उम्मीदवार

विजेंदर से कैसे करेंगे मुकाबला?
राघव ने कहा कि विजेंदर का राजनीति में मैं स्वागत करता हूं. लेकिन वह गलत पार्टी के साथ राजनीति में आ रहे हैं, क्योंकि युवाओं को राजनीति में आना चाहिए.