NDTV Khabar

राजस्थान: जिसकी राज्य में सरकार, उसे मिलती हैं LS चुनाव में सबसे ज्यादा सीटें, क्या इस बार BJP तोड़ पाएगी यह परंपरा

राज्य में एक बार कांग्रेस और एक बार भाजपा की सरकार बनने की ‘परंपरा’ रही है. उसका ही असर लोकसभा चुनाव पर दिखता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राजस्थान: जिसकी राज्य में सरकार, उसे मिलती हैं LS चुनाव में सबसे ज्यादा सीटें, क्या इस बार BJP तोड़ पाएगी यह परंपरा

प्रतीकात्मक तस्वीर.

जयपुर:

Lok Sabha Election: राजस्थान की 25 लोकसभा सीटों के लिए लिए मिशन 25 लेकर चल रही कांग्रेस (Congress)को पिछले 15 साल से चली आ रही चुनावी परंपरा का फायदा मिलने की उम्मीद है. 2004 के बाद से ही राज्य में उसी पार्टी को लोकसभा चुनाव में ज्यादा सीटें मिलती हैं जिसकी राज्य में सरकार होती है. हालांकि, भाजपा (BJP) को इस ‘परंपरा' में बदलाव की आस है. राज्य में लोकसभा की 25 सीटें हैं और पिछले लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में ये सभी सीटें भाजपा के खाते में गयीं थी. इससे पहले केवल एक बार ही सारी की सारी सीटें किसी एक पार्टी के खाते में गयी और वह चुनाव था 1984 का. इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए इस चुनाव में सभी सीटें कांग्रेस ने जीतीं थी.

राज्य में एक बार कांग्रेस और एक बार भाजपा की सरकार बनने की ‘परंपरा' रही है. उसका ही असर लोकसभा चुनाव पर दिखता है. राजस्थान में लोकसभा चुनावों के परिणामों को देखा जाए तो 2004 से ही ऐसा रुख देखने को मिला कि राज्य में जिस पार्टी की सरकार बनती है, लोकसभा चुनाव में उसी को ज्यादा सीटें मिलती हैं. जबकि आमतौर पर राज्य के विधानसभा चुनाव के करीब छह महीने बाद ही लोकसभा चुनाव होते हैं.


दिल्ली और हरियाणा में यह सर्वे करवा सकता है AAP-कांग्रेस में गठबंधन, नेताओं का बदल डाला रुख

राज्य में 2003 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 120 और कांग्रेस को 58 सीटें मिलीं. इसके बाद 2004 के लोकसभा चुनाव में मतदाताओं ने 25 में से 21 सीटें भाजपा की झोली में डाल दीं. चार सीटें कांग्रेस को मिलीं. 2008 के विधानसभा चुनाव में पासा पलट गया. कांग्रेस को 200 में 96 सीटें मिलीं और अशोक गहलोत ने सरकार बनाई. बसपा के सारे विधायक कांग्रेस में शामिल होने से कांग्रेस को बहुमत मिल गया. विधानसभा चुनाव में भाजपा को 76 सीटें मिलीं. इसके ठीक बाद 2009 में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को 20 व भाजपा को चार सीटें मिलीं. एक सीट पर निर्दलीय किरोड़ीलाल मीणा चुने गए जो उस समय कांग्रेस के समर्थक थे. 

प्रियंका गांधी ने 'गंगा-जमुनी तहजीब यात्रा' से पहले यूपी के लोगों के लिए लिखा खत, कहा- आपके द्वार पर आ रही हूं

इसी तरह 2013 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 163 सीटें मिलीं और कांग्रेस 21 सीटों पर सिमट गयी. लोकसभा चुनाव के परिणाम तो और भी चौंकाने वाले रहे जब मोदी लहर के बीच राज्य के मतदाताओं ने सारी 25 सीटें भाजपा को दे दीं. यह अलग बात है कि पिछले साल दो सीटों पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस जीत गयी. पिछले दिसंबर में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को राज्य की 200 में से 100 सीटें मिली हैं. भाजपा के पास 73 सीटें हैं. हालांकि दोनों पार्टियों को मिले वोटों में अंतर केवल लगभग आधे प्रतिशत का है. 

BJP ने केंद्रीय मंत्रियों के टिकट किए फाइनल, ये है संभावित उम्मीदवारों की सूची, एक मंत्री की सीट बदलीः सूत्र

भाजपा सूत्रों के अनुसार, पार्टी को उम्मीद है कि इस अंतर को वह लोकसभा चुनाव में बढ़ने नहीं देगी और परंपरा को तोड़ते हुए अच्छा प्रदर्शन करेगी. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार के बाद जयपुर में अपने पहले कार्यक्रम में इसकी उम्मीद भी जताई. राज्य में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान दो चरणों में 29 अप्रैल और छह मई को होना है.

राहुल गांधी के 'चौकीदार चोर है' का जवाब देने के लिए PM मोदी-शाह ने खेला दांव, यहां बने 'चौकीदार'

टिप्पणियां

VIDEO- कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के उम्मीदवारों की जारी की तीसरी सूची

 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


NDTV.in पर हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) विधानसभा के चुनाव परिणाम (Assembly Elections Results). इलेक्‍शन रिजल्‍ट्स (Elections Results) से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरेंं (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement