NDTV Khabar

आरबीआई ने की ब्याज दरों में कटौती तो जेटली ने जनता को लुभाने के लिए किया ये वादा

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा गुरुवार को प्रमुख ब्याज दरों में कटौती की घोषणा के बाद वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि दोबारा सत्ता में आने पर सरकार ऐसी नीतियां अपनाएगी जिससे आगे फिर ब्याज दरों में कटौती हो जाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आरबीआई ने की ब्याज दरों में कटौती तो जेटली ने जनता को लुभाने के लिए किया ये वादा

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली की फाइल फोटो.

नई दिल्ली:

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा गुरुवार को प्रमुख ब्याज दरों में कटौती की घोषणा के बाद वित्तमंत्री अरुण जेटली ने भी जनता को लुभाने के दांव खेल दिया. उन्होंने कहा कि दोबारा सत्ता में आने पर सरकार ऐसी नीतियां अपनाएगी जिससे आगे फिर ब्याज दरों में कटौती हो जाएगी.वित्तमंत्री यहां उद्योग से जुड़े एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद का अगला एजेंडा सीमेंट पर जीएसटी में कटौती करना होगा. 

यह भी पढ़ें- NDTV से बोले रघुराम राजन: भारत में नौकरियों की भारी किल्लत, बेरोजगारी पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जा रहा

उन्होंने कहा कि अगर दोबारा सत्ता में आए तो अगले दशक तक आर्थिक विकास की रफ्तार को बनाए रखने की जरूरत होगी.सरकार वित्तीय समेकन को जारी रखेगी और उन नीतियों का अनुसरण करेगी जिससे आगे फिर ब्याज दरों में कटौती संभव होगा. नरेंद्र मोदी सरकार दूसरी बार सत्ता में आने की तैयारी में है. देश में आम चुनाव के लिए सात चरणों में होने वाले मतदान का दौर अगले सप्ताह से शुरू होगा और चुनाव के परिणाम 23 मई को आएंगे. 


यह भी पढ़ें- सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को जून तक जुटानी होगी अपनी पूंजी : सूत्र

आरबीआई ने गुरुवार को लगातार दूसरी बार प्रमुख ब्याज दर यानी रेपो रेट में 25 आधार अंकों की कटौती की. इससे पहले फरवरी में भी रेपो रेट में इतनी ही कटौती की गई थी.जेटली ने कहा कि सरकार सीमेंट पर जीएसटी घटाने पर विचार कर रही है. आवासीय क्षेत्र में जीएसटी की दरों में कटौती के बाद सीमेंट अंतिम मद बच गया है जो अभी तक 28 फीसदी जीएसटी स्लैब में है.(इनपुट-आईएएनएस)

टिप्पणियां

वीडियो- रवीश की रिपोर्ट: RBI की मंजूरी के बगैर नोटबंदी? 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement