NDTV Khabar

शकील अहमद: पिता और दादा कांग्रेस से रह चुके हैं विधायक, कुछ ऐसा है राजनैतिक करियर

शकील अहमद (Shakeel Ahmad) ने हाल ही में कांग्रेस प्रवक्‍ता पद से इस्‍तीफा दे दिया था और बिहार के मधुबनी से निर्दलीय उम्‍मीदवार के रूप में लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन किया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शकील अहमद: पिता और दादा कांग्रेस से रह चुके हैं विधायक, कुछ ऐसा है राजनैतिक करियर

शकील अहमद (फाइल फोटो)

शकील अहमद (Shakeel Ahmad) ने हाल ही में कांग्रेस प्रवक्‍ता पद से इस्‍तीफा दे दिया था और बिहार के मधुबनी से निर्दलीय उम्‍मीदवार के रूप में लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन किया था. शकील अहमद  (Shakeel Ahmad News)  का यह कदम बिहार में महागठबंधन की मुश्किलें बढ़ाने वाला था, क्योंकि मधुबनी सीट बंटवारे के तहत विकासशील इंसान पार्टी (VIP) को मिली थी. शकील अहमद (Shakeel Ahmad) को मधुबनी (Madhubani Lok Sabha Seat) से निर्दलीय चुनाव लड़ने को लेकर कांग्रेस (Congress) ने उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया. 

रामकृपाल यादव: लालू प्रसाद यादव के 'हनुमान' कहलाते थे रामकृपाल, छात्र राजनीति से अब तक का सफर

शकील अहमद बिहार के मधुबनी स्थित उमगांव में शकूर अहम और हजरा खातून के यहां 2 जनवरी 1956 में जन्म लिया. उन्होंने मुजफ्फरपुर के एसके मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की पढ़ाई की. उनके पिता और दादा स्वर्गीय अहमद गफूर स्वतंत्रता सेनानी और कांग्रेस के विधायक भी रहे. उनके पिता 1952 से पांच बार कांग्रेस विधायक थे, और उनके दादा 1937 में कांग्रेस के विधायक थे. शकील अहमद पहली बार 1985 में विधायक चुने गए. शकील अहमद 1998 और 2004 में मधुबनी सीट से लोकसभा सदस्य रहे थे. वे 1985, 1990 और 2000 में विधायक चुने गए थे. 


टिप्पणियां

असम के हैलाकांडी शहर में साम्प्रदायिक झड़पों एक व्यक्ति की मौत, 14 घायल, कर्फ्यू लागू

शकील ने राबड़ी देवी के नेतृत्व वाली बिहार सरकार में स्वास्थ्य मंत्री के रूप में कार्य किया तथा 2004 में केंद्र में सत्तासीन रहे मनमोहन सिंह की सरकार में संचार, आईटी और गृह मंत्रालय में राज्य मंत्री रहे थे. उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के महासचिव के रूप में भी काम किया. मार्च 2011 में, उन्हें सोनिया गांधी ने झारखंड और पश्चिम बंगाल राज्यों का प्रभार सौंपा था. जून 2013 में, शकील अहमद को कांग्रेस कार्य समिति (CWC) के सदस्य के रूप में पदोन्नत किया गया और उन्हें दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ के प्रभारी के रूप में राष्ट्रीय महासचिव के रूप में नियुक्त किया गया. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement