शिव प्रताप शुक्ला ने NDTV से कहा, UP में महागठबंधन के जातीय समीकरण पर PM मोदी का विकास पड़ा भारी

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election) के मतगणना से पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) के दिल्ली मुख्यालय में प्रधानमंत्री आज (मंगलवार) शाम 4 बजे बीजेपी नेताओं संग बैठक करेंगे.

शिव प्रताप शुक्ला ने NDTV से कहा, UP में महागठबंधन के जातीय समीकरण पर PM मोदी का विकास पड़ा भारी

बीजेपी नेता शिव प्रताप शुक्ला (Shiv Pratap Shukla)- फाइल फोटो

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election) के मतगणना से पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) के दिल्ली मुख्यालय में प्रधानमंत्री आज (मंगलवार) शाम 4 बजे बीजेपी नेताओं संग बैठक करेंगे. इससे पहले वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला (Shiv Pratap Shukla) ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा, ''यूपी में महागठबंधन के जातीय समीकरण पर पीएम मोदी के द्वारा किया गया विकास भारी पड़ा है. एग्जिट पोल्स के बाद जिस तरह से सेंसेक्स में उछाल आया है उससे ये दिखता है कि सभी चाहते हैं कि मोदी सरकार फिर से वापस आए''.

Exit Poll के आंकड़े आने के बाद शिवसेना ने की राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की तारीफ, जानें क्या कहा

शिव प्रताप शुक्ला ने आगे कहा, ''हम फिर से लोगों की अपेक्षाएं पूरी करेंगे. एग्जिट पोल्स के रिजल्ट्स से साफ है कि लोगों ने राष्ट्रवाद और विकास के हमारे एजेंडा को स्वीकार किया है.'' शिव प्रसाद उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल में आठ वर्ष मंत्री रहे और उन्हें अपने कार्यकाल में ग्रामीण विकास, शिक्षा तथा जेल सुधार की दिशा में किए गए कार्यों के लिए जाना जाता है.

बता दें, एक अप्रैल 1952 को उत्तर प्रदेश के रुद्रपुर के खजनी में जन्में शुक्ला के राजनीतिक करियर की शुरुआत 1970 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्र नेता के तौर पर हुई थी. इसके बाद 1981 में वह भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रांतीय सचिव चुने गए. छात्र आंदोलन में उन्हें कई बार जेल भी जाना पड़ा.

'पीएम मोदी वाली गुफा' में आप भी कर सकते हैं साधना, खर्चा हजार रुपये से भी कम... मिलेंगी ये सुविधाएं

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आपातकाल के दौरान उन्हें मीसा के तहत गिरफ्तार किया गया था. 26 जून 1975 से 1977 तक वह 19 महीने जेल में रहे. गोरखपुर विश्वविद्यालय से एलएलबी करने वाले शिव प्रताप के परिवार में पत्नी और तीन पुत्रियां हैं.

Video: एग्जिट पोल को लेकर बीजेपी-विपक्ष की राय अलग