NDTV Khabar

ट्रेनों पर स्टिकर "देश का चौकीदार चोर है" चिपकाए, दो कांग्रेस नेताओं पर मामला दर्ज

स्टिकरों पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी की तस्वीरों के साथ कांग्रेस के चुनाव चिन्ह 'हाथ का पंजा' और लड़ाकू विमान की फोटो

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्रेनों पर स्टिकर

इंदौर में कांग्रेस के दो नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

खास बातें

  1. मध्यप्रदेश कांग्रेस के सचिव और इंदौर कांग्रेस के प्रवक्ता पर मामला दर्ज
  2. स्टेशन पर खड़ी कुछ ट्रेनों के बाहरी और भीतरी हिस्सों में स्टिकर चिपकाए
  3. आरपीएफ ने निर्वाचन आयोग को मामले की जानकारी दी
इंदौर:

इंदौर के रेलवे स्टेशन पर खड़ी यात्री ट्रेनों पर बुधवार को विवादास्पद स्टिकर चिपकाए जाने के मामले में दो कांग्रेस नेताओं के खिलाफ रेलवे सुरक्षा बल (RPF) ने मामला दर्ज किया है.

आरपीएफ के एक आला अधिकारी ने बताया कि मामले में मध्यप्रदेश कांग्रेस समिति के सचिव विवेक खंडेलवाल और शहर कांग्रेस समिति के प्रवक्ता गिरीश जोशी के खिलाफ रेलवे अधिनियम की सम्बद्ध धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है. आरपीएफ अधिकारी ने बताया कि दोनों कांग्रेस नेताओं पर आरोप है कि उन्होंने स्थानीय रेलवे स्टेशन पर खड़ी कुछ यात्री ट्रेनों के बाहरी और भीतरी हिस्से में विवादास्पद स्टिकर चिपकाए.

आरपीएफ ने इस घटना के वीडियो फुटेज भी जुटा लिए हैं. विवादास्पद स्टिकरों पर छपा था-"देश का चौकीदार चोर है." इन स्टिकरों पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी की तस्वीरों के साथ कांग्रेस के चुनाव चिन्ह 'हाथ का पंजा' और लड़ाकू विमान की फोटो छपी थी. यही नहीं, इन स्टिकरों पर खंडेलवाल और जोशी के नाम और फोटो भी छपे थे.

टिप्पणियां

आरपीएफ अधिकारी ने कहा, "ये स्टिकर यात्री ट्रेनों पर ऐसे वक्त चिपकाए गए, जब देश में लोकसभा चुनावों की आदर्श आचार संहिता लागू है. लिहाजा हमने निर्वाचन आयोग को मामले की जानकारी देकर उचित कदम उठाने का अनुरोध भी किया है." उन्होंने बताया कि मामले में विस्तृत जांच जारी है. फिलहाल दोनों आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया है.


भाजपा ने मामले में कांग्रेस पर निशाना साधा है. इंदौर संभाग के भाजपा प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा, "लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बड़ी लहर चलने वाली है. अपनी करारी चुनावी हार के पूर्वाभास से बौखलाई कांग्रेस गाली-गलौज की भाषा पर उतर आई है जिसका जवाब स्वयं मतदाता देंगे."
(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement