NDTV Khabar

तेजस्‍वी यादव ने नीतीश कुमार पर कसा तंज, कहा- उनसे बड़ा कोई पलटीमार, आडंबरवादी नेता नहीं मिलेगा

इससे पहले तेजस्‍वी यादव ने NDTV की एक खबर को अपने पेज पर शेयर करते हुए लिखा था कि नीतीश जी की नाव में छेद हो चुका है. हार के डर से प्रत्‍याशी ने वापस किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तेजस्‍वी यादव ने नीतीश कुमार पर कसा तंज, कहा- उनसे बड़ा कोई पलटीमार, आडंबरवादी नेता नहीं मिलेगा

तेजस्‍वी यादव

पटना:

तेजस्‍वी यादव ने नीतीश कुमार पर कसा तंज, कहा- उनसे बड़ा कोई पलटीमार, आडंबरवादी नेता नहीं मिलेगा. बिहार के पूर्व उपमुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी यादव ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कहा है कि भारतीय राजनीति में 'चाचा-420' से बड़ा कोई पलटीमार, यू-टर्न स्पेशलिस्ट, कुर्सीवादी, अंतरात्मावादी, नैतिकतावादी और आडंबरवादी नेता नहीं मिलेगा. आरजेडी और जेडीयू ने मिलकर बिहार विधानसभा चुनाव लड़ा था और सत्‍ता में आए थें लेकिन कुछ समय बाद यह गठबंधन टूट गया था. उसके बाद से ही तेजस्‍वी यादव काफी हमलावर रहे हैं. चुनावी रैलियों में उनके भाषण के दौरान यह हमला और भी तीखे शब्‍दों में सुनने को मिलता है. सोशल साइट्स पर भी यह हमला इतना ही तीखा रहता है.

आरजेडी नेता तेजस्‍वी यादव ने अपने ट्वीटर पेज पर लिखा है कि बचपन में Reel पर एक फ़िल्म 'चाची-420' देखी थी, जवानी में Real में 'चाचा-420' का पूरा सिनेमा देख लिया. भारतीय राजनीति में चाचा-420 से बड़ा कोई पलटीमार, यू-टर्न स्पेशलिस्ट, कुर्सीवादी, अंतरात्मावादी, नैतिकतावादी और आडंबरवादी नेता नहीं मिलेगा. और दु:साहस देखिए, ऊपर से बातें बापू गांधी की!


इससे पहले तेजस्‍वी यादव ने NDTV की एक खबर को अपने पेज पर शेयर करते हुए लिखा था कि नीतीश जी की नाव में छेद हो चुका है. हार के डर से प्रत्‍याशी ने वापस किया है. दरअसल 3 अप्रैल को बिहार के सीतामढ़ी लोकसभा से जेडीयू उम्‍मीदवार ने नामांकन से पहले ही अपना टिकट वापस कर दिया जिसके बाद बीजेपी नेता सुनील कुमार पिंटू को वहां से टिकट दिया गया है. टिकट लौटाने वाले उम्‍मीदवार डॉ. वरुण कुमार सिंह ने आरोप लगाया था कि क्षेत्र में न तो जेडीयू कार्यकर्ता और ना ही बीजेपी कार्यकता उनका सहयोग कर रहे हैं ऐसे में चुनाव लड़ना उनके लिए मुश्‍किल है.

एक दूसरे ट्वीट में पूर्व उपमुख्‍यमंत्री तेजस्‍वी यादव ने लिखा कि 2014 लोकसभा में नीतीश जी के 3 उम्मीदवारों ने चुनाव बीच यहां तक कि नामांकन के बाद सिम्बल लौटा चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था. तब उन्हें 38 सीटों में से 2 सीटें मिली थी. अबकी बार 17 पर लड़ रहे है और एक ने उम्मीदवारी लौटा दी है. यह CM की पार्टी का हाल है. ज्ञात हो कि सीतामढ़ी में 6 मई को मतदान हैं. बिहार में नीतीश कुमार की जदयू, भाजपा और रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ रही है. भाजपा और जदयू 17-17 और लोजपा छह सीटों पर चुनाव लड़ रही है. इससे पहले पीएम मोदी ने 2 अप्रैल को बिहार के गया और जमुई में दो रैलियों को संबोधित किया था और सहयोगी दलों के लिए वोट मांगा था.

बिहार में 40 सीटें, 7 चरणों में मतदान

11 अप्रैल: जमुई औरंगाबाद, गया, नवादा,

18 अप्रैल: बांका, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर

23 अप्रैल: खगड़िया, झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा,

29 अप्रैल: दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय, मुंगेर

6 मई: मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सारन, हाजीपुर, सीतामढ़ी,

12 मई: पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, , शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सिवान, महाराजगंज, वाल्मीकिनगर

19 मई: नालंदा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकट, जहानाबाद

लोकसभा चुनाव के परिणाम का दिन: 23 मई 2019

टिप्पणियां

1.5 करोड़ मतदाता पहली बार डालेंगे वोट

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) की तारीखों का ऐलान हो चुका है. इस बार कुल सात चरणों में चुनाव कराए जा रहे हैं. पहला चरण 11 अप्रैल को जबकि अंतिम चरण 19 मई को होगा. वोटों की गिनती 23 मई को होगी. इस बार भी ऐसे मतदाताओं की संख्‍या बड़ी है जो पहली बार वोट डालेंगे. अभी लोकसभा चुनाव में मतदान करनेवालों की संख्या लगभग 90 करोड़ है. इस बार लगभग 10 लाख मतदान केंद्र होंगे, जो 2014 के आम चुनाव में रहे नौ लाख से अधिक है. कुल मतदाताओं में 1.50 करोड़ मतदाता 18-19 साल उम्र के होंगे.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement