NDTV Khabar

Election Results 2019: अमेठी सीट से क्यों हारे राहुल गांधी, वहां की जनता ने बताई यह बड़ी वजह

कांग्रेस का गढ़ माने जा रहे अमेठी सीट से भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष को 55 हजार 120 मतों के अंतर से पराजित किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Election Results 2019: अमेठी सीट से क्यों हारे राहुल गांधी, वहां की जनता ने बताई यह बड़ी वजह

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी

अमेठी:

Lok Sabha Election 2019 में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) अमेठी लोकसभा सीट से हार गए हैं. इस सीट पर उन्हें भाजपा (BJP) की वरिष्ठ नेता स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने हराया है. उत्तर प्रदेश की इस प्रतिष्ठित लोकसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशी केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की जीत के पीछे अमेठी की जनता का कहना है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से उन्हें वह आत्मीयता नहीं मिल सकी, जो उनके दिवंगत पिता एवं पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) से मिलती थी.

अमेठी में हुई राहुल गांधी की हार, स्मृति ईरानी ने लिखा- कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता...

कांग्रेस का गढ़ माने जा रहे अमेठी सीट से भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष को 55 हजार 120 मतों के अंतर से पराजित किया. इस चुनाव में स्मृति को चार लाख 67 हजार 598 मत मिले जबकि कांग्रेस अध्यक्ष को चार लाख 12 हजार 867 मत प्राप्त हुए.


Election Results 2019 : मोदी लहर का असर, लोकसभा को इस बार फिर नहीं मिलेगा नेता प्रतिपक्ष

इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को 408,651 वोट मिले थे जबकि भाजपा प्रत्याशी स्मृति ईरानी को 300,748 वोट मिले थे. तब कांग्रेस अध्यक्ष ने केंद्रीय मंत्री को 1,07,000 वोटों के अंतर से हराया था.

Lok Sabha Election 2019 : .....और हार गए मोदी सरकार के एक मंत्री
 
राहुल गांधी अमेठी से लगातार तीन बार सांसद रहे. उन्होंने 2009 में यह सीट 3,50,000 से भी ज्यादा मतों से जीती थी. कांग्रेस अध्यक्ष यहां से पहली बार 2004 में चुन कर संसद पहुंचे थे. अमेठी के लोगों का कहना है कि राजीव गांधी के समय शुरू की गयी कई परियोजनाएं और कार्यक्रम राहुल के सांसद रहते एक एक करके बंद होते गए. इससे हजारों लोगों की रोजी-रोजगार पर असर पड़ा. इसके चलते बड़ी संख्या में लोगों ने रोजगार के लिए अमेठी से पलायन किया.

Lok Sabha Election 2019: राहुल गांधी ने रिकॉर्ड अंतर से कब्जायी वायनाड सीट, केरल में यूडीएफ का जलवा

लोगों का कहना है कि इस बार और तो और गांधी परिवार से बरसों से पूरी निष्ठा से जुड़े बुजुर्गों का भी मन टूटा दिखता है. उन्हें मलाल है कि गांधी परिवार की वर्तमान पीढी से उन्हें वह प्यार और इज्जत नहीं मिली, जो इसे पहले की पीढियों से मिला करती थी.

Results 2019: क्या हार स्वीकारते हुए इस्तीफा देंगे राहुल गांधी? जानिये कांग्रेस अध्यक्ष ने क्या दिया जवाब...

अवकाश प्राप्त शिक्षक सुनील सिंह ने कहा, 'राजीव गांधी जीवन रेखा एक्सप्रेस साल में एक बार महीने भर के लिए अमेठी आती थी. इस ट्रेन पर डॉक्टरों की विशेषज्ञ टीम होती थी, जो उपचार के साथ साथ सर्जरी भी करती थी. इस सेवा से लाखों लोगों को फायदा होता था. लेकिन यह सेवा राहुल के सांसद रहते बंद हो गयी और इस महत्वपूर्ण चिकित्सा सेवा को बहाल करने का कोई प्रयास नहीं किया गया.'

Election Results 2019: राहुल गांधी ही नहीं, पूर्व प्रधानमंत्री सहित ये 30 दिग्गज नेता हुए धराशायी

सिंह की बात से सहमति जताते हुए किराना व्यापारी शशांक साहू ने बताया, 'राजीव गांधी ने सम्राट बाइसिकिल्स नामक कंपनी स्थापित करने में मदद की थी. उनके बाद फैक्ट्री घाटे में चली गयी और उसे बंद कर दिया गया. उसके बाद कंपनी की जमीन नीलामी पर लग गयी क्योंकि कंपनी पर कर्ज था. इस जमीन को राजीव गांधी चैरिटेबिल ट्रस्ट ने खरीद लिया.' 

Lok Sabha Election 2019 : क्या अमेठी में राहुल गांधी की हार रायबरेली में हुई इंदिरा गांधी की हार की तरह है?

उन्होंने कहा, 'ट्रस्ट में राहुल गांधी ट्रस्टी हैं और किसानों को जमीन लौटाने की मांग को लेकर स्मृति ईरानी ने पांच साल तक लड़ाई लड़ी. स्मृति के अलावा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  (Yogi Adityanath) ने स्थानीय लोगों से किसानों की जमीन वापस लौटाने का वायदा किया है.'

बॉलीवुड एक्टर ने राहुल गांधी की यूं की तारीफ, बोले- आपका समय अब दूर नहीं...

इसके बाद आंगनबाडी सेविका उषा तिवारी ने बताया, 'राजीव गांधी सचल स्वास्थ्य सेवा के तहत नौ गाडियां गांव-गांव जाकर गरीबों का इलाज करती थीं और मुफ्त में दवा बांटती थीं लेकिन यह सेवा भी राहुल के सांसद रहते ही बंद हो गयी. जनता की भारी मांग के बावजूद इसे दोबारा शुरू कराने का प्रयास नहीं किया गया.'

Election Results 2019: ...तो प्रचंड बहुमत के बाद भी NDA को हुआ नुकसान, हार के बाद भी फायदे में UPA

बुजुर्ग शमशुद्दीन ने बताया, 'राजीव गांधी गांव-गांव, घर-घर जाकर एक-एक व्यक्ति से व्यक्तिगत तौर पर मिलते थे और इससे उनका अमेठी की जनता के साथ आत्मीय संबंध कायम हो गया था. राहुल ने अमेठी के दौरे तो बहुत किये लेकिन कहीं न कहीं लोगों के साथ वह सीधा संवाद नहीं स्थापित कर पाये, जो राजीव गांधी के साथ होता था.' उन्होंने कहा, 'राजीव गांधी के समय के पुराने और निष्ठावान कांग्रेसी धीरे धीरे पार्टी से दूर होते चले गये जबकि सच्चाई यह है कि ये लोग ही पार्टी के चुनाव अभियान की पूरी कमान संभालते थे. अगर ये लोग साथ होते तो शायद नतीजे राहुल के पक्ष में नजर आते.'

Election Results Live Updates : कांग्रेस के मजबूत गढ़ अमेठी में राहुल गांधी ने हार स्वीकारी, स्मृति ईरानी बोली-कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता ...

दरअसल, अमेठी संसदीय सीट को कांग्रेस का दुर्ग कहा जाता है और इस सीट पर इससे पहले तक 16 लोकसभा चुनाव और 2 उपचुनाव हुए हैं. इनमें से कांग्रेस ने यहां 16 बार जीत दर्ज की है. 1977 में लोकदल और 1998 में भाजपा को यहां से जीत मिली थी जबकि बसपा और सपा इस सीट से अभी तक अपना खाता भी नहीं खोल सकी है.

Lok Sabha Election 2019 : कांग्रेस की दुर्दशा का जिम्मेदार कौन, कहां बड़ी गलती कर बैठे राहुल गांधी, 5 कारण
 
इस संसदीय क्षेत्र के गौरीगंज सब्जी मंडी में सब्जी का थोक कारोबार करने वाले धनंजय कुमार मौर्य ने बताया, 'अमेठी से सांसद रह चुके कैप्टन सतीश शर्मा के समय बनी मालविका स्टील फैक्टरी भी राहुल के ही समय में बंद हो गयी. किसानों की जो जमीन गयी, वह तो गयी ही. साथ ही दस हजार लोग बेरोजगार हो गये. ये वही बेरोजगार थे, जिन्हें किसानों से जमीन के बदले एक परिवार से एक व्यक्ति को फैक्टरी में रोजगार के लिए रखा गया था.'

पांचवां चरण: BJP के सामने 39 सीटें तो कांग्रेस के लिए गढ़ बचाने की चुनौती, दो दर्जन सीटों पर दिग्गजों की 'अग्निपरीक्षा'

अमेठी लोकसभा सीट के तहत पांच विधानसभा सीटें आती हैं, इनमें अमेठी जिले की तिलोई, जगदीशपुर, अमेठी और गौरीगंज सीटें शामिल है जबिक रायबरेली जिले की सलोन विधानसभा सीट आती है. 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में 5 सीटों में से 4 सीटों पर भाजपा और महज एक सीट पर समाजवादी पार्टी को जीत मिली थी.

6वें चरण के चुनाव में गांधी परिवार ने दिया वोट, राहुल और प्रियंका ने पीएम मोदी पर इस तरह साधा निशाना
सोनिया गांधी ने राजनीति में जब कदम रखा तो उन्होंने 1999 में अमेठी को ही अपनी कर्मभूमि बनाया था. वह इस सीट से जीतकर पहली बार सांसद बनी, लेकिन 2004 के चुनाव में उन्होंने अपने बेटे राहुल गांधी के लिए ये सीट छोड़ दी और इसके बाद से राहुल ने लगातार तीन बार यहां से जीत हासिल की. 

(इनपुट- भाषा)

टिप्पणियां

अमेठी से जीतने के बाद बोलीं स्मृति ईरानी- एक बार जुबान दी है तो जुबान रखूंगी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement