NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव न लड़ने के फैसले पर बोलीं उमा भारती, पार्टी ने तो हमेशा...

उमा भारती (Uma Bharti) ने ट्वीट कर कहा कि आज श्री अनुराग शर्मा ने निर्वाचन फॉर्म भरा. मैं उनको जीत की अग्रिम बधाई देती हूं. यदि मैं इस चुनाव को लड़ने का फैसला करती तो झांसी से ही लड़ती.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव न लड़ने के फैसले पर बोलीं उमा भारती, पार्टी ने तो हमेशा...

उमा भारती ने चुनाव न लड़ने पर दिया बयान

खास बातें

  1. उमा भारती ने बताया क्यों नहीं लड़ना चाहती थीं चुनाव
  2. पार्टी और पीएम मोदी का शुक्रिया अदा किया
  3. झांसी से बीजेपी उम्मीदवार का किया समर्थन
नई दिल्ली:

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की वरिष्ठ नेता उमा भारती (Uma Bharti) ने लोकसभा चुनाव न लड़ने के फैसले के बाद पहली बार पार्टी के लिए सार्वजनिक स्तर कुछ कहा है. उन्होंने (Uma Bharti) मंगलवार को एक के बाद एक कई ट्वीट किए. जिनमें उन्होंने झांसी से पार्टी के उम्मीदवार अनुराग शर्मा का समर्थन करने से लेकर पार्टी का धन्यवाद भी किया. उमा भारती (Uma Bharti) ने ट्वीट कर कहा कि आज श्री अनुराग शर्मा ने निर्वाचन फॉर्म भरा. मैं उनको जीत की अग्रिम बधाई देती हूं. यदि मैं इस लोकसभा चुनाव को लड़ने का फैसला करती तो झांसी से ही लड़ती, किंतु पार्टी ने मेरे फैसले का सम्मान किया, मुझे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया. मैं इस फैसले से बहुत खुश हूं.


वहीं, एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि जब पार्टी ने मेरे चुनाव नहीं लड़ने के फैसले को स्वीकार करते हुए उम्मीदवारों के बारे में मेरी राय पूछी, जो भी नाम पार्टी ने प्रस्तावित किए, उनमें अनुराग शर्मा जी का नाम भी था.

अनुराग शर्मा के पिताजी श्री विश्वनाथ शर्मा जी हमारे पार्टी से सांसद रहे हैं तथा बुंदेलखंड क्षेत्र के विकास के लिए उनके कुछ सपने एवं कल्पनाएं थी जिनको पूरा करने के लिए वो प्रयत्नरत रहते थे.

वहीं दूसरे ट्वीट में उन्होने लिखा कि 2014 के चुनाव में उन्होंने मुझे जीत का आशीर्वाद और समर्थन किया. उस समय उनके पूरे परिवार ने, जिसमें की मुख्यत: अनुराग शर्मा थे, ने मेरा समर्थन किया.

मैंने पार्टी के द्वारा प्रस्तावित प्रत्येक उम्मीदवार के बारे में अपनी राय देने के बाद, फैसला पार्टी पर ही छोड़ दिया. श्री अनुराग शर्मा जी झांसी से भाजपा के बीजेपी के उम्मीदवार हैं, झांसी में मैनें विकास के बीज बोए हैं तथा बुंदेलखंड के विकास की भी रूप-रेखा तैयार की है.

उन्होंने झांसी और बुंदेलखंड में हुए विकास को लेकर भी ट्वीट किया. उन्होंने लिखा कि झांसी एवं बुंदेलखंड हमेशा मेरी प्राथमिकता रहेंगे एवं अब इस पिछड़े क्षेत्र को विकास की ऊचाइंयों की ओर मैं और अनुराग साथ उड़ान भरेंगे. मेरा अनुराग शर्मा जी की जीत का आशीर्वाद एवं हर तरह से झांसी के विकास में संरक्षण एवं सहयोग रहेगा.

मैं 13 और 14 - दो दिन अनुराग के साथ झांसी-ललितपुर क्षेत्र में बिताऊंगी. गौरतलब है कि कुछ समय पहले उमा भारती ने कहा था कि वे अगले डेढ़ साल सिर्फ गंगा और राम को देना चाहती हैं. उन्होंने साफ किया था कि वे राजनीति से संन्यास नहीं ले रही हैं और आलाकमान से इजाज़त के बाद ही वे अपने मिशन में जुटेंगी.
     
केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने भोपाल में मीडिया से बात करते हुए कहा था कि 'मैं मरते दम तक राजनीति करूंगी, लेकिन डेढ़ साल राम और गंगा के लिए काम करूंगी. इसलिए मैं पार्टी से इसके लिए अनुमति मांगकर 15 जनवरी से गंगा प्रवास करूंगी. डेढ़ साल तक मैं गंगा और राम मंदिर पर ध्यान देना चाहती हूं और इसीलिए मैंने फैसला किया है कि इस बार मैं लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ूंगी.' उन्होंने कहा था कि गंगा के किनारे यात्रा करने के लिए मैं अमित शाह जी से अनुमति लूंगी. डेढ़ साल की गंगा यात्रा करूंगी.

यह भी पढ़ें :  पीएम मोदी से इस्तीफा मांगने को भी होती है गौहत्या, बुलंदशहर में रहस्यमय जमावड़ा : उमा भारती      

उमा ने ये भी कहा था कि ''राम मंदिर के लिए किसी आंदोलन की ज़रूरत नहीं है. माननीय अदालत ने कहा था कि ये मामला आस्था का विवाद नहीं बल्कि ज़मीन का विवाद है. 2010 में फ़ैसला आ गया कि बीच का डोम राम लला का है. तो आंदोलन सफल हो गया, इस बात को साबित करने में कि राम जन्मभूमि है वह. इस मामले में सब पार्टियों को एक करने का प्रयास होना चाहिए. मुझे आगे भी कहेंगे तो मैं कोशिश करूंगी. राम मंदिर का मसला देश के सौहार्द के साथ जुड़ा है इसलिए जितनी जल्दी हो सके समाधान करना चाहिए.'' 

VIDEO : कांग्रेस के वादे पर भड़क उठीं उमा भारती

टिप्पणियां

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement