बंगाल: उम्मीदवारों के ऐलान से पहले BJP में कलह, नाम तय करने के लिए बनाई यह रणनीति

पार्टी के अंदर के कई गुट सीट पर दावें कर रहे हैं, जिससे पार्टी की राज्य इकाई अपने 23 सीटों के लक्ष्य को पूरा करने के लिए अपने उम्मीदवारों की दमदारी का आकलन करने के लिए मजबूर हो गई है.

बंगाल: उम्मीदवारों के ऐलान से पहले BJP में कलह, नाम तय करने के लिए बनाई यह रणनीति

खास बातें

  • भाजपा का 23 सीटें जीतने का लक्ष्य
  • सीटों को लेकर पार्टी में अंदरूनी कलह
  • सर्वे करवा रही है पार्टी
कोलकाता:

भाजपा (BJP)की पश्चिम बंगाल इकाई लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) से पहले उम्मीदवारों की जीत का आकलन करने के लिए सर्वेक्षण कर रही है. भाजपा का लक्ष्य बंगाल में लोकसभा की 42 सीटों में से 23 पर जीत दर्ज करना है. यहां एक सीट के लिए, विशेष रूप से राज्य के उत्तरी और दक्षिणी हिस्से में 60-70 से अधिक उम्मीदवार हैं जिससे टिकट बांटने को ले कर पार्टी अंदरूनी कलह का सामना कर रही है. पार्टी के अंदर के कई गुट सीट पर दावें कर रहे हैं, जिससे पार्टी की राज्य इकाई अपने 23 सीटों के लक्ष्य को पूरा करने के लिए अपने उम्मीदवारों की दमदारी का आकलन करने के लिए मजबूर हो गई है. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने राज्य में 23 सीटें जीतने का लक्ष्य तय किया है.

भाजपा की राज्य इकाई के एक नेता ने कहा, ‘ यह अभूतपूर्व है कि हमें कुछ सीटों पर बड़ी संख्या में आवेदन मिल रहे हैं. 10 साल पहले हमें लोगों को हमारे टिकट पर चुनाव लड़ने के लिए मनाने में मशक्कत करनी पड़ती थी.'

आखिर क्यों पश्चिम बंगाल में घरों पर पार्टी का झंडा लगाने से डर रहे हैं बीजेपी कार्यकर्ता

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘हमने उम्मीदवारों की जीत की संभावना का आकलन करने के लिए बाहरी और आंतरिक सर्वेक्षण शुरू किया है. सर्वेक्षण में सीट जीतने की उम्मीदवार की क्षमता और उसकी लोकप्रियता जैसे पहलुओं को शामिल किया जाएगा. आंतरिक सर्वेक्षण और बाहरी एजेंसियों के नतीजों के आधार पर, हम अपनी सूची तैयार करेंगे.'

दिख रही है आसान राह? ममता के गढ़ बंगाल पर BJP की क्यों है नजर, ये हैं पांच बड़ी वजह

आंतरिक असंतोष के बारे में पूछे जाने पर, विजयवर्गीय ने कहा कि भाजपा एक अनुशासित पार्टी है और एक बार उम्मीदवारों के नाम की घोषणा होने के बाद प्रत्येक सदस्य चुनाव में अपनी जीत सुनिश्चित करने की दिशा में काम करेगा. बता दें, 2014 लोकसभा चुनाव में भाजपा यहां केवल दो सीटों पर ही जीत दर्ज कर पाई थी. सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने 34, कांग्रेस ने चार और माकपा ने दो सीटें अपने नाम की थी.

(इनपुट- भाषा)

बंगाल: सिर्फ दो सीटों पर है माकपा का कब्जा, उन्हीं पर दावा कर रही है कांग्रेस, अटका गठबंधन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO- चायवाला पर आमने-सामने ममता बनर्जी और पीएम मोदी