NDTV Khabar

पेशे से वकील, सोशल मीडिया एक्सपर्ट और युवा नेता हैं तेजस्वी सूर्या

तेजस्वी सूर्या (Tejasvi surya) मूल रूप से कर्नाटक के चिकमंगलूर जिले के रहने वाले हैं.सूर्या बीजेपी के साथ ही आरएसएस से भी जुड़े हुए हैं. तेजस्वी सूर्या ने ट्विटर पर अपने नाम के आगे चौकीदार लगा रखा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पेशे से वकील, सोशल मीडिया एक्सपर्ट और युवा नेता हैं तेजस्वी सूर्या

तेजस्वी सूर्या के फेसबुक पर 66 हजार से ज्यादा और ट्विटर पर 72 हजार से ज्यादा फॉलोवर्स हैं.

खास बातें

  1. तेजस्वी सूर्या पेशे से वकील हैं.
  2. तेजस्वी सूर्या दक्षिणी बेंगलुरू सीट से चुनाव लडेंगे.
  3. सूर्या बीजेपी के साथ ही आरएसएस से भी जुड़े हुए हैं.
नई दिल्ली:

28 साल के तेजस्वी सूर्या (Tejasvi surya) दक्षिणी बेंगलुरु से बीजेपी (BJP) के टिकट पर चुनाव लडेंगे. बीजेपी द्वारा उन्हें टिकट दिए जाने के बाद से ही वह सुर्खियों में हैं. दक्षिण बेंगलुरू लोकसभा (Bangalore South Loksabha Seat) की प्रतिष्ठित सीट मानी जाती है, ऐसे में एक 28 साल के युवा पर भरोसा करके बीजेपी ने बड़ा दाव खेला है. सूर्या को टिकट मिलने के बाद मंगलवार को दिन भर गूगल पर 'तेजस्वी सूर्या' (Tejasvi surya) कीवर्ड ट्रेंड किया. बुधवार को तेजस्वी सूर्या ने एक तस्वीर ट्वीट की जिसपर लिखा है- ''कृपया मुझे हेड बॉय के लिए चुने.'' इस तस्वीर को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, ''जब मैंने स्कूल में हेड बॉय के लिए चुनाव लड़ा, तो मेरा चुनाव चिन्ह शेर था. इस बार, मुझे एक शेर - पीएम के साथ काम करने का अवसर मिला है.''

बता दें कि दक्षिणी बेंगलुरू सीट पर पहले केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार सांसद थे जिनका निधन हो गया है. इस सीट की दावेदार नेता अनंत कुमार की पत्‍नी तेजस्विनी भी थीं लेकिन पार्टी ने तेजस्वी को टिकट दिया. वहीं इस सीट पर कांग्रेस की ओर से दिग्‍गज नेता बीके हरिप्रसाद मैदान में उतरेंगे. बीके हरिप्रसाद करीब 2 दशक बाद इस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. बता दें कि इस सीट पर 18 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे. 


कौन हैं तेजस्वी सूर्या

तेजस्वी सूर्या (Tejasvi surya) मूल रूप से कर्नाटक के चिकमंगलूर जिले के रहने वाले हैं और बासवांगुडी विधानसभा से विधायक एल.ए. रविसुब्रमण्यन के भतीजे हैं. सूर्या बीजेपी के साथ ही आरएसएस से भी जुड़े हुए हैं. तेजस्वी सूर्या ने ट्विटर पर अपने नाम के आगे चौकीदार लगा रखा है. सूर्या पेशे से वकील हैं और उन्होंने बेंगलुरु के इंस्टिट्यूट ऑफ लीगल स्टडीज से पढ़ाई की है. वह कर्नाटक हाईकोर्ट में प्रैक्टिस करते हैं. इसके अलावा वह बीजेपी युवा मोर्चा कर्नाटक के प्रदेश महासचिव हैं. इतना ही नहीं सूर्या नेशनल सोशल मीडिया कैंपेन टीम 2019 के सदस्य भी हैं. तेजस्वी सूर्या की फेसबुक आईडी पर दी गई जानकारी के मुताबिक वह अखिल भारतीय विद्यार्धी परिषद के सचिव रह चुके हैं.

कौन हैं तेजस्वी सूर्या जिन पर पीएम मोदी और अमित शाह ने जताया है भरोसा, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के खिलाफ लड़ेंगे चुनाव

सूर्या ने 2008 में एक एनजीओ भी खोला था जिसका नाम “Arise India” है. सूर्या कई वेबसाइट्स के लिए लिखते भी हैं. बता दें कि सूर्या के गुरू कोई और नहीं बल्कि अनंत कुमार हैं जो पहले दक्षिणी बेंगलुरू से सांसद थे. सूर्या ने टिकट मिलने के बाद ट्वीट कर लिखा, '' अनंत कुमार जी. मेरे जीवन के पहले गुरू. उन्होंने मुझे अपने हाई स्कूल के दिनों से बड़े होते देखा है. मैंने उन्हें सुनकर, उन्हें काम करते देखकर उनसे बहुत कुछ सीखा है. वह कर्नाटक के अब तक के सबसे बड़े नेताओं में से एक हैं. मैं उनका सदा आभारी हूं.

बता दें कि 2014 में भी सूर्या काफी लोकप्रिय थे और उन्होंने पुणे, चेन्नई और मुंबई में कई रैलियां की थी. तेजस्वी सूर्या की सोशल मीडिया पर अच्छी पकड़ है.

टिप्पणियां

BJP के सबसे युवा उम्मीदवार तेजस्वी सूर्या ने आखिर क्यों किया 2014 का ट्वीट डिलीट

तेजस्वी सूर्या के फेसबुक पर 66 हजार से ज्यादा और ट्विटर पर 72 हजार से ज्यादा फॉलोवर्स हैं. बता दें कि ट्विटर पर सूर्या ने एक वीडियो पिन कर रखा है जिसमें उनके राजनीतिक तेवर को देखा जा सकता है. तेजस्वी सूर्या कहते हैं- मोदी को रोकने के लिए सभी भारत विरोधी ताकतें एकजुट हो गई हैं. जबकि मोदी का एजेंडा एक नया और मजबूत भारत बनाना है, जबकि उनका एजेंडा उसे रोकना है. उनका कोई सकारात्मक एजेंडा नहीं है. अगर आप मोदी के साथ हैं, तो आप भारत के साथ हैं. अगर आप मोदी के साथ नहीं हैं, तो आप भारत विरोधी ताकतों को मजबूत कर रहे हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement