NDTV Khabar

लोकसभा चुनाव 2019 : मध्य प्रदेश में 2014 का प्रदर्शन क्या दोहराने में सफल होगी बीजेपी?

मध्य प्रदेश में 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने जबर्दस्त प्रदर्शन करते हुए कुल 29 में से 27 सीटें जीतीं थीं. क्या 2019 के लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी इस सफलता को दोहराने में सफल होगी?

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा चुनाव 2019 : मध्य प्रदेश में 2014 का प्रदर्शन क्या दोहराने में सफल होगी बीजेपी?

मध्य प्रदेश मे क्या बीजेपी 2014 का प्रदर्शन दोहराएगी?

नई दिल्ली:

मध्य प्रदेश यूं तो एक नवंबर, 2000 तक क्षेत्रफल के आधार पर भारत का सबसे बड़ा राज्य था. मगर 14 जिले से अलग कर छत्तीसगढ़ बना देने से यह तमगा हट गया. मध्य प्रदेश की सीमाएं पांच राज्यों की सीमाओं से मिलती है. पूर्व में छत्तीसगढ़, दक्षिण में महाराष्ट्र, पश्चिम में गुजरात, उत्तर-पश्चिम में राजस्थान और उत्तर में उत्तर-प्रदेश है. मध्य प्रदेश में हीरे और तांबे और खनिज संसाधनों के लिहाज से समृद्ध भंडार है. मध्य प्रदेश में 30 प्रतिशत से अधिक वन क्षेत्र  है. वर्ष 2010-11 में इस राज्य को राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार मिल चुका है. मध्य प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री रविशंकर शुक्ल रहे. जो एक नवंबर 1956 से 31 दिसंबर 1956 के बीच मुख्यमंत्री रहे. अब तक राज्य में 31 मुख्यमंत्री हुए हैं.

यह भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019 : त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव की तरह क्या लोकसभा चुनाव में भी चलेगा बीजेपी का जादू?


पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा. बीजेपी यहां डेढ़ दशक से सत्ता में थी. 29 नवंबर 2005 से लेकर 16 दिसंबर 2018 तक शिवराज सिंह चौहान राज्य के मुख्यमंत्री रहे. राज्य में कांग्रेस सरकार बनने के बाद 17 दिसंबर 2018 से कमलनाथ मुख्यमंत्री हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को कुल 29 में से 27 सीटों पर जीत मिली थी. जबकि दो सीटें कांग्रेस के खाते में आई थी. गूना से ज्योतिरादित्य सिंधिया, छिंदवाड़ा से कमलनाथ सांसद हैं. इस बार बीजेपी ने जनता के बीच नाराजगी देखते हुए शहडोल , भिंड सहित कुल पांच सीटों के मौजूदा सांसदों का टिकट काट दिया है.

यह भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019 : छत्तीसगढ़ में क्या बीजेपी इस बार भी खिला पाएगी गुल?

बीजेपी और कांग्रेस के बीच हुआ कांटे का मुकाबला
दिसंबर, 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे का मुकाबला हुआ, जिसमें आखिरकार कांग्रेस जीतने में सफल रही. कांटे की टक्कर की वजह से यहां कांग्रेस बहुमत का आंकड़ा नहीं छू पाई. कांग्रेस 2 सीट दूर रह गई. कुल 230 सीटों में से कांग्रेस ने 114, भाजपा ने 109, बसपा ने दो, सपा ने एक और निर्दलीय ने चार सीटों पर जीत दर्ज की. कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव जीतकर लगातार तीन बार से जीतती रही बीजेपी की सत्ता से विदाई सुनिश्चित कर दी. 

मध्यप्रदेश 
वर्तमान मुख्यमंत्री- कमलनाथ
राज्यपाल - आनंदीबेन पटेल
राज्य में सत्ता पक्ष- कांग्रेस
प्रमुख विपक्षी दल- बीजेपी 

मध्यप्रदेश में लोकसभा सीटें- 29 
सामान्य -19
एससी- 4 
एसटी - 6 

मतदान के चरण- 4
मतदान की तारीखें- 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई, 19 मई

कुल मतदाताओं की संख्या (2018) - 50394086 
पुरुष मतदाता - 26314957 
महिला मतदाता - 24077719
ट्रांसजेंडर मतदाता- 1410

लोकसभा क्षेत्र- इंदौर, उज्जैन, खंडवा, खजुराहो, खरगोन, गुना , ग्वालियर, छिंदवाड़ा, जबलपुर, टीकमगढ़, दमोह, देवास, धार, बालाघाट, बैतूल, भिंड, भोपाल, मंदसौर, मंडला, मुरैना, रतलाम, राजगढ़, रीवा, विदिशा, शहडोल, सतना, सागर, सीधी, होशंगाबाद

विधानसभा सीटें - 231
राज्यसभा सीटें-  11

राज्य का क्षेत्रफल-  3,08,252 वर्ग किलोमीटर  
जिले -     52 

जनसंख्या (2011 की जनगणना)- 7,26,26,809 
पुरुष-  37611370 (51.8%)
महिला- 34984645 (48.2%)
लिंगानुपात- 1000 पुरुषों पर 930 महिलाएं

साक्षरता दर (2011 की जनगणना)- 70.60%, 
पुरुष साक्षरता - 80.5% 
महिला साक्षरता- 60.0% 

धर्म आधारित जनसंख्या (2011 की जनगणना) 
हिंदू-  90.9%
मुस्लिम- 6.6% 
जैन - 1% 
ईसाई - 0.3%
बौद्ध- 0.3% 
सिख-  0.2%

जाति आधारित जनसंख्या
सवर्ण-  15%
ओबीसी-37%
एससी-  16%
एसटी-  23%
अन्य-   9%

सांस्कृतिक क्षेत्र- 5 - निमाड़, मालवा, बुंदेलखंड, बघेलखंड, चंबल

भाषाएं और बोलियां-  हिंदी, उर्दू, मराठी, मालवी, निमाड़ी, बुंदेली, बघेली, भिलोड़ी (भीली), गोंडी, कोरकू

टिप्पणियां

वीडियो- मध्य प्रदेश: BJP में भी परिवारवाद, नेताओं के बेटे-बेटी टिकट के लिए लगे लाइन में 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... रानू मंडल की ट्रोलिंग पर आया हिमेश रेशमिया का रिएक्शन, बोले- जहां से वह आई थीं...

Advertisement