भारतीय सेना को योगी आदित्यनाथ ने बताया- 'मोदी जी की सेना', विपक्ष ने कहा- यह आर्मी का अपमान

भारतीय सेना को योगी आदित्यनाथ ने बताया- 'मोदी जी की सेना', विपक्ष ने कहा- यह आर्मी का अपमान

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर एक रैली के दौरान यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अनपे भाषण के क्रम में कांग्रेस से तुलना करने के चक्कर में सेना को लेकर एक बड़ा बयान दे दिया है. सीएम योगी ने भारतीय सेना के लिए मोदी जी की सेना शब्द का इस्तेमाल किया है, जिसे लेकर विपक्ष ने सेना का अपमान बताया है. दरअसल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमं योगी आदित्यनाथ रविवार को दिल्ली के पास गाजियाबाद में एक रैली को संबोधित कर रहे थे, तब उन्होंने उन्होंने 'कांग्रेस के लोग' के साथ विपरीत शब्द के संदर्भ में उन्होंने बार-बार 'मोदीजी की सेना' शब्द का इस्तेमाल किया.

अखलाक के गांव में योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'सरकार तुष्टिकरण नहीं, सबके लिए काम करती है'
 
गाजियाबाद में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 'कांग्रेस के लोग आतंकवादियों को बिरयानी खिलाते थे और मोदी जी की सेना उन्हें सिर्फ गोली और गोला देती है. यह अंतर है. कांग्रेस के लोग मसूद अजहर जैसे आतंकियों के लिए जी का इस्तेमाल करते हैं, मगर पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी सरकार आतंकियों के कैंप पर हमले कर उनका कमर तोड़ती है. 

मोदी सरकार आतंकियों से गोली और गोले से निपटती है, उनके नाम के आगे जी नहीं लगाती: योगी आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा कि कांग्रेस के लिए जो नामुमकिन होता है, वह पीएम मोदी के लिए मुमकिन होता है. क्योंकि पीएम मोदी के लिए असंभव भी संभव बन जाता है. सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि पाकिस्तान रो रहा है लेकिन भारत के अंदर के विपक्षी दल केवल वोट बैंक के लिए सबूत मांग रहे हैं. 

हालांकि, इस पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि यूपी के सीएम द्वारा यह कहना कि भारतीय सेना 'मोदी की सेना' है, हैरान करने वाला है. ऐसा बेखौफ वैयक्‍तिकीकरण और इस तरह हमारी प्रिय भारतीय सेना को हड़पना बेहद अपमानजनक है.

वहीं कांग्रेस की प्रियंका चतुर्वेदी ने योगी आदित्यनाथ पर इस बयान को लेकर हमला किया है और उन्होंने उनसे माफी की मांग की है. उन्होंने ट्वीट किया कि 'यह हमारी भारतीय सेना का अपमान है. वे भारतीय सेना के जवान हैं, किसी प्राइवेट प्रचार मंत्री के नहीं. योगी आदित्यनाथ को माफी मांगनी चाहिए. 

गौरतलब है कि फरवरी में जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर जैश के आतंकी ने आत्मघाती हमला कर दिया था, जिसमें सीआरपीएफ के करीब 40 से अधिक जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद भारत ने पाकिस्तान स्थित जैश के कैंप पर एयर स्ट्राइक किया और उसके आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया. इसके बाद मोदी सरकार के कई मंत्री इसका श्रेय लेते दिखे. कई बीजेपी नेताओं ने इसे सरकार की उपलब्धि बताया. 
 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: यूपी में महागठबंधन को लगा झटका, अलग हुई निषाद पार्टी