Hindi news home page
होम | लखनऊ

लखनऊ

  • यूपी : गैंगरेप पीड़ि‍ता को ऐसिड पिलाने के मामले में 2 गिरफ्तार, CM आदित्यनाथ भी मिलने पहुंचे थे अस्पताल
    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को महिला से मुलाकात करने लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंचे, जहां वह आईसीयू में भर्ती है. मुख्यमंत्री ने महिला के लिए एक लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की, और पुलिस को जल्द से जल्द महिला के आक्रमणकारियों को पकड़ने का भी आदेश दिया.
  • यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के एन्टी-रोमियो स्क्वाड के साथ बिताए 90 मिनट का लेखा-जोखा...
    यह साफ नहीं है कि पुलिस के पास सार्वजनिक स्थानों पर 'रोमियो' को पकड़ने के लिए क्या योजना है, लेकिन फिलहाल एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक, उनका इरादा "कॉलेजों और अन्य जगहों पर अकेले और ग्रुपों में घूम रहे लड़कों से सवाल करने और उनकी जांच करने का है, ताकि छेड़छाड़ का इरादा रखने वालों के मन में भी डर पैदा हो..."
  • यूपी पुलिस प्रमुख का एंटी रोमियो स्क्वॉड को निर्देश - ऐसी कार्रवाई न की जाए जो गैर-कानूनी है
    उत्तर प्रदेश में जहां बीजेपी के सरकार के सत्ता में आते ही कई शहरों की पुलिस अपने आप ही एक्शन में आ गई है और सड़क किनारे खड़े शोहदों, पार्कों में बैठे जोड़ों, लड़कियों के स्कूल कॉलेजों के सामने खड़े मनचलों पर कार्रवाई शुरू हो गई. कारण साफ था कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सत्ता में आते ही कह दिया था कि महिलाओं की सुरक्षा उनकी प्राथमिक जिम्मेदारियों में से एक है. उन्होंने कहा था कि चुनाव के दौरान किए गए एंटी रोमियो स्क्वॉड का गठन किया जाएगा और लड़कियों को सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी.
  • जब सीएम योगी आदित्यनाथ को एक ट्वीट से जागी पुलिस, मां-बेटी से छेड़छाड़ के मामले में लिया एक्शन
    करीब 10 दिन पहले कल्याणपुर इलाके में एक कारोबारी के घर में घुसकर उसकी पत्नी और बेटियों के साथ मोहल्ले के कुछ युवकों की छेड़छाड़ और मारपीट पर पुलिस ने रिपोर्ट तो दर्ज की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की. इसके बाद पीड़ित परिवार ने मुख्यमंत्री कार्यालय और प्रदेश के डीजीपी को इस घटना और पुलिस के लचर रवैये के खिलाफ ट्वीट भेजा जिसके बाद ही कानपुर पुलिस हरकत में आयी और आरोपियों को पकड़ने के लिये कार्रवाई तेज की.
  • हजरतगंज पुलिस स्टेशन में सीएम आदित्यनाथ योगी अचानक पहुंचे, मच गया हड़कंप
    आबादी के लिहाज से देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज हजरतगंज थाने पहुंच गए. उन्होंने वहां पर रजिस्टर देखा और पूरे थाने का मुआयना किया. वहीं राज्य के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने भी अपने मंत्रालय का दौरा किया और अधिकारियों को निर्देश दिया कि फाइलों का निपटान जल्द से जल्द किया जाए. उन्होंने कहा कि उनके मंत्रालय के कार्य में किसी प्रकार का भाई भतीजा नहीं चलेगा.
  • यूपी में बदली सरकार, बदलेगी थानों की कार्यशैली? नई सरकार में यह है नया आदेश
    उत्तर प्रदेश में आदित्यनाथ योगी के मुख्यमंत्री पद का दायित्व संभालने के साथ ही थानों में शिकायत पर बिना किसी भेदभाव कार्रवाई करने तथा दलालों की आवाजाही बंद करने का निर्देश दिया गया है. प्रदेश के पुलिस महानिदेशक जावीद अहमद ने सभी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों, पुलिस अधीक्षक, जोनल पुलिस महानिरीक्षक, परिक्षेत्रीय पुलिस उपमहानिरीक्षकों को निर्देश दिया कि प्रदेश के विभिन्न भागों में पेशेवर एवं संगठित रूप से अवैध खनन, अवैध लकड़ी कटान, अवैध पशु-तस्करी, शराब-तस्करी, अवैध बस संचालन एवं अन्य प्रकार के घोर आपत्तिजनक अपराधों पर अंकुश लगाया जाए.
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का यूपी के अफसरों को फरमान, 'पुराना, लचर' रवैया बर्दाश्त नहीं
    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने सख्त लहजे में कहा कि सरकारी कामकाज का 'पुराना और लचर रवैया' बर्दाश्त नहीं किया जाएगा तथा दायित्व निर्वहन में लापरवाही बरतने वालों के विरुद्घ सख्त कार्रवाई होगी. योगी ने शास्त्री भवन एनेक्सी के निरीक्षण के दौरान कहा, 'प्रदेश की जनता ने परिवर्तन के लिए जनादेश दिया है, इसलिए व्यवस्था में सकारात्मक बदलाव के लिए जरूरी है कि सरकारी कार्यालयों में एक नयी कार्य संस्कृति का विकास हो ताकि राज्य सरकार जनता की आकांक्षाओं पर खरी साबित हो सके.' उन्होंने सख्त लहजे में कहा, 'सरकारी कामकाज का पुराना और लचर रवैया किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. दायित्व निर्वहन में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.'
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का एक्शन नंबर-4 : सरकारी दफ्तरों में पॉलीथीन पर लगाई रोक
    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकारी कार्यालयों में पॉलीथीन के उपयोग पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाते हुए सभी शासकीय दफ्तरों, अस्पतालों और स्कूल कॉलेजों में पान, गुटखे और तम्बाकू के सेवन पर भी पाबंदी लगाने के निर्देश दिए हैं. उल्लेखनीय है कि पिछले दो दिनों में योगी आदित्यनाथ ने पहले अवैध बूचड़खानों पर रोक लगाई, फिर उन्होंने मनचलों पर रोक लगाने के लिए एंटी रोमियो स्क्वॉड बनाया और उसके बाद सरकारी दफ्तरों में पान तथा गुटखा-पान मसाला पर प्रतिबंध लगा दिया है.
  • यूपी में मनचलों की खैर नहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लड़कियों की सुरक्षा के लिए बनाया एंटी रोमियो स्क्वॉड
    उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीजेपी के चुनावी वादे के हिसाब राज्य में हर शहर में एंटी रोमियो स्क्वॉड बनाने का आदेश दे दिया है. पार्टी का आरोप रहा है कि राज्य में लड़कियों और महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पिछली सरकारें उदासीन रही हैं. बीजेपी नेताओं ने चुनाव में आरोप लगाया था कि राज्य में मनचलों के चलते लड़कियों को कॉलेज आने जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता रहा है. कई बार ऐसी स्थिति में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल उठता रहा है. राज्य में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से यूपी पुलिस सतर्क हो गई है और मंगलवार से ही कई शहरों में पुलिस ने लड़कियों के कॉलेज के बाहर खड़े शोहदों पर कार्रवाई आरंभ कर दी थी. कई लोगों को हिरासत में भी लिया गया और कुछ से पूछताछ की गई और फिर उन्हें छोड़ दिया गया.
  • बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के कंवीनर जफरयाब जिलानी ने कहा, कोर्ट हमें सीधे कहेगा तब बातचीत
    सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका पर कहा कि रामजन्म भूमि बाबरी मस्जिद विवाद मामले दोनों पक्षों को बातचीत के आधार पर हल निकालना चाहिए. कोर्ट ने कहा कि कोर्ट से बाहर बातचीत कर दोनों समुदाय के लोग मसले का हल ढूंढ लें. कोर्ट ने यह भी कहा कि यदि जरूरत होगी तो कोर्ट इस मामले में मध्यस्थता करने को तैयार है. वहीं इस मामले में जब एनडीटीवी ने बाबरी एक्शन कमेटी के संयोजक जफरयाब जिलानी से बात की तब उनका कहना है कि, अगर सुप्रीम कोर्ट कोई लिखित में कुछ कहता है, या हमें आदेश देता है कि आपको समझौते के लिए आना चाहिए तो हम जरूर जाएंगे. लेकिन सुब्रमण्यम स्वामी इस केस में कुछ भी नहीं है. कोर्ट हमें सीधे कहेगा तो जाएंगे.
  • यूपी मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी के सामने कर्ज माफ़ी की मुश्किलें
    उत्तर प्रदेश में जबरदस्त जीत के बाद आदित्यनाथ योगी सरकार के सामने अब सबसे बड़ी चुनौती अपने चुनावी वादे को पूरा करने की है. उसमें भी किसानों की कर्ज माफ़ी का मुद्दा सबसे अहम है. अगर राज्य सरकार सिर्फ़ छोटे और मंझौले किसानों के कर्ज को माफ़ करने का फ़ैसला लेती है तो राज्य सरकार पर 36,000 करोड़ का बोझ पड़ेगा. यानी राज्य की कुल आमदनी का 8 फीसदी हिस्सा.
  • यूपी के मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ के भविष्य पर क्या कहा केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने...
    यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री उमा भारती में एक समानता है. दोनों ही गेरुआ रंग का वस्त्र पहनते हैं और दोनों ने ही संन्यास ले रखा है. उमा भारती पहले मध्य प्रदेश की मुख्यमंत्री थी. मीडिया द्वारा योगी आदित्यनाथ के संबंध में पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने जो कहा उसे सुनकर मीडिया वाले भी अपनी हंसी को रोक नहीं पाए.
  • मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी के सामने मंत्रालयों का विभाजन बना पहली चुनौती, अड़ा एक पेंच
    शपथ ग्रहण के दो दिन बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज दिल्ली आने वाले हैं. माना जा रहा है कि आज पार्टी हाईकमान से मिलकर राज्य में मंत्रालयों के बंटवारे पर बातचीत हो सकती है. यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि जल्द ही मंत्रालयों का बंटवारा हो जाएगा. फ़िलहाल इस पर विचार-विमर्श चल रहा है.
  • मंत्रियों के लिए ट्रैफिक और फ्लाइट रोकी जाए तो कोई बुराई नहीं : केंद्रीय मंत्री उमा भारती
    नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री उमा भारती ने नेताओं और अधिकारियों के वीवीआईपी कल्चर का बचाव किया है. उन्होंने सरकारी गाड़ियों से लालबत्ती हटाने के पंजाब सरकार के फैसले को गैर-जरूरी बताया है. सोमवार को उन्होंने कहा कि मंत्रियों के लिए कुछ देर फ्लाइट और ट्रैफिक रोकना कोई बड़ा मुद्दा नहीं है. मेरा मानना है कि अगर कोई मंत्री सरकारी ड्यूटी पर जा रहा है तो उसे लालबत्ती का फायदा मिलना चाहिए. जरूरी मीटिंग में शामिल होने के लिए अगर फ्लाइट भी 5-7 मिनट तक रोकना पड़े तो कोई बुराई नहीं है. क्योंकि मीटिंग चूकने पर यह लंबे वक्त के लिए टल जाती है और जनता का करोड़ों रुपये बरबाद होता है. वहीं उन्होंने कहा कि निजी दौरे वीआईपी सुविधा नहीं दी जानी चाहिए.
  • अखिलेश यादव सरकार के दौरान नियुक्त कई सलाहकारों और अध्यक्षों को योगी आदित्यनाथ ने किया बर्खास्त
    उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में नई सरकार के बनने के बाद अखिलेश यादव सरकार द्वारा पार्टी नेताओं को विभिन्न विभागों में नियुक्त किए गए सलाहकारों और उपाध्यक्षों के पदों से बर्खास्त कर दिया गया है. इन लोगों ने सरकार बदल जाने के बाद भी इस्तीफा नहीं दिया था. बता दें कि अखिलेश यादव सरकार ने 80 से अधिक कार्यकर्ताओं को विभिन्न विभागों में सलाहकार, उपाध्यक्ष आदि नियुक्त कर रखा था. विधानसभा के चुनाव में बीजेपी को अपार बहुमत के बाद करीब 20 लोगों ने पहले ही पद से इस्तीफा दे दिया था.
  • यूपी के लोगों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कई उम्मीदें... 'ऐसे कैसे पूरी होंगी जनता की अपेक्षाएं'
    आबादी के हिसाब से देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश को हमेशा से संवेदनशील राज्य माना जाता रहा है. पिछले कुछ दशकों से यहां पर बनी सरकारों पर पक्षपात रवैया अपनाने और कानून व्यवस्था को ठीक से नहीं संभाल पाने के आरोप लगते रहे हैं. पिछली सरकार के हालिया चुनाव में हार के प्रमुख कारणों में एक कारण राज्य में कानून व्यवस्था को ठीक से लागू नहीं कर पाना भी अहम था.
  • एक्शन में योगी - सिर्फ मेरिट के आधार पर नौकरियां; थानों पर दबाव नहीं, तीन बूचड़खानों पर लगे ताले
    उत्तर प्रदेश के नवनियुक्त मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शपथ ग्रहण के साथ 'एक्शन' में हैं. उन्होंने सोमवार को अपने कार्यकाल के पहले दिन अधिकारियों से 15 दिन में अपनी संपत्तियों का ब्योरा देने को कहा. उन्होंने नौकरियों में मेरिट के आधार पर भर्तियां करने के लिए कहा. योगी की सरकार बनते ही बूचड़खानों पर गाज गिरनी शुरू हो गई है. रविवार को रात में इलाहाबाद के अटाले इलाके में तीन बूचड़खानों पर ताले लगा दिए गए.
  • मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के सामने हैं यूपी की ये 8 चुनौतियां, कैसे निपटेंगे योगी?
    उत्तर प्रदेश में बीजेपी की शानदार जीत के बाद योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है. साथ ही सत्ता संतुलन और राज्य की राजनीति की जातिवाद अवधारणा को साधने के लिए बीजेपी ने दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य को भी उपमुख्यमंत्री की जिम्मेदारी दी है.
  • उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के चेहरे की तलाश जारी, चौंकाने वाला होगा चेहरा, अमित शाह पर छोड़ा अंतिम फैसला
    उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में तीन चौथाई सीटों पर ऐतिहासिक जीत के बाद बीजेपी में उत्साह का माहौल है. ऐसे में पार्टी जिसने चुनाव में मुख्यमंत्री के चेहरे की घोषणा नहीं की थी अब इस चेहरे के लिए गहन मंत्रणा कर रही है. कहा जा रहा है कि यूपी में मुख्यमंत्री के चेहरा 14 मार्च के बाद साफ होगा.
  • यूपी में चल रहा 'Lady Luck', अपर्णा-स्वाति सहित ये 5 महिला प्रत्याशी मार रही हैं बाजी
    उत्तर प्रदेश चुनाव परिणामों के अब तक रुझानों में ज्यादातर चर्चित महिला प्रत्याशी जीत की ओर बढ़ रही हैं. बीजेपी की स्वाति सिंह से लेकर अपर्णा यादव भी जीतती दिख रही हैं.

Advertisement

Advertisement