NDTV Khabar

कीटनाशक से 18 मजदूरों और किसानों की मौत, 700 लोगों का इलाज जारी

मंगलवार को महाराष्ट्र सरकार ने इस मामले की जांच के लिए उच्च स्तरीय गठित की है. इसकी जांच गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव करेंगे.

436 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
कीटनाशक से 18 मजदूरों और किसानों की मौत, 700 लोगों का इलाज जारी

(फाइल फोटो)

खास बातें

  1. कीटनाशक के छिड़काव की नहीं थी जानकारी
  2. नहीं पहन रखे दस्ताने और मॉस्क
  3. 700 लोगों का इलाज जारी
मुंबई: महाराष्ट्र  के यवतमाल जिले में पिछले दो महीने में कीटनाशक से 18 खेतिहर मजदूर और किसानो की मौत हो चुकी है. जबकि 25 की आंखों पर बुरा असर पड़ा है इसके अलावा 700 किसानों का इलाज अभी अस्पताल में चल रहा है. मंगलवार को महाराष्ट्र सरकार ने इसकी जांच के लिए उच्च स्तरीय गठित की है. इसकी जांच गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव करेंगे.  ऐसे मामलों की रोकथाम के लिए सरकार ने छिड़काव के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले मास्क और दस्ताने देने और मृतक किसानों के परिजनों को 2- 2 लाख रुपये फौरी तौर पर मदद देने की भी घोषणा की गई है.

छत्तीसगढ़ के किसानों को धान का बोनस, किसानों के खातों में पहुंची 281 करोड़ रूपए से ज्यादा राशि

आपको बता दें कि यवतमाल जिले में इस बार 9 लाख हेक्टेयर में कपास लगाया गया है. इस बार बारिश भी अच्छी हुई और फिर धूप निकली थी. लेकिन इस बीच बीटी कपास पर बोलवर्म्स दिखाई देने लगे. लोगों का कहना है कि इस बार किसानों ने चीनी स्प्रे पंप का खूब इस्तेमाल किया जिससे अधिक मात्रा में कीटनाशक का छिड़काव होता है. लेकिन स्प्रे करने के वक्त किसानों और मजदूरों ने मास्क या दस्ताने नहीं पहन रखे थे. जिसकी वजह से नाक और मुंह के जरिये जहर शरीर में चला गया.
वीडियो : किसानों का बीमा अटका
वहीं इस बात का है कि न तो बीज कंपनियो ने किसानों को ठीक से सूचनाएं दी और न कृषि विभाग ने अपनी जिम्मेदारी ठीक से निभाई.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement