NDTV Khabar

महाराष्ट्र में यह सरकारी बाबू हर नई पोस्टिंग पर कर देते हैं अपनी संपत्ति का खुलासा...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र में यह सरकारी बाबू हर नई पोस्टिंग पर कर देते हैं अपनी संपत्ति का खुलासा...

महाराष्ट्र के आईएएस अधिकारी आशुतोष सलिल को लगातार दूसरे साल सम्मानित किया गया है.

खास बातें

  1. लगातार दो साल से बेहतरीन सेवाओं के लिए सम्मानित
  2. नए स्थान पर पहुंचकर और विदा होते वक्त करते हैं संपत्ति घोषित
  3. अपने काम में पारदर्शिता के लिए विख्यात हैं आशुतोष सलिल
मुंबई: नागरी सेवा दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहां सरकारी बाबुओं के कान खींचे हैं और कामकाज में अधिक पारदर्शिता लाने की पैरवी की है वहीं महाराष्ट्र सरकार ने ऐसे एक आईएएस अधिकारी को सम्मानित किया है जो इसके लिए खास तौर पर जाने जाते हैं. चंद्रपुर के डीएम आशुतोष सलिल को इस साल भी बेहतरीन सेवा के लिए सम्मानित किया गया है.

देश में 2007 में नागरी सेवा दिवस मनाने की शुरुआत हुई. इसके तहत राज्य भर में प्रशासनिक सेवाओं में बेहतरीन काम करने वालों को सम्मानित किया जाता है. महाराष्ट्र में अलग-अलग श्रेणी के 26 अधिकारियों को सम्मानित किया गया. इनमें से 2010 के बैच के आशुतोष सलिल अपनी दोनों पोस्टिंगों के लिए सम्मान पाने वाले एक मात्र आईएएस साबित हुए हैं. चंद्रपुर और वर्धा जिलों में बतौर जिलाधिकारी किए गए कामों को सराहा गया है. उनके वर्धा में कैदियों के जिम्मेदार नागरिक के रूप में क्षमता विकास के लिए किए प्रयास और चंद्रपुर में 15 लाख नागरिकों के सम्पूर्ण डेटा एकत्रीकरण के काम को सराहा गया है.

इसके अलावा सलिल अपने काम में पारदर्शिता के लिए ज्यादा विख्यात हैं. वे अपनी हर पोस्टिंग के पहले ही दिन अपनी संपत्ति सार्वजनिक करते हैं. फिर आखिरी दिन उसमें हुए बदलाव को भी बताते हैं. सलिल ने NDTV इंडिया से बात करते हुए कहा कि, उनके पास कोई अचल संपत्ति नहीं, जबकि चल संपत्ति केवल 15 लाख की है. उनका मानना है कि ऐसा करने से प्रशासनिक महकमे में भी ईमानदार लोग होने का भरोसा लोगों में बढ़ेगा. आने वाले दिनों में वे चंद्रपुर की 1000 आदिवासी महिलाओं को सक्षम बनाने के लिए उन्होंने मुर्गी पालन सोसायटी बनाने का उद्देश्य रखा है.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सभी का सम्मान किया. इस दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को दो टूक कहा कि सामने रखे काम में से गलतियां निकालने से आपका ज्ञान दिखेगा, लेकिन उससे किसी का भला नहीं होगा. काम में पारदर्शिता होगी तो ही जनता का फायदा  होगा.  

फडणवीस ने इस बात पर भी जोर दिया कि आम आदमी को विकास की उम्मीद है, वह भी गतिमान और पारदर्शिता के साथ. यह तीनों चीजें एक साथ हों तो ही जनता खुश होगी, बदलाव मुमकिन होगा. इसी दौरान आम आदमी की जिंदगी में क्या बदलाव किया यह भी प्रशासनिक बाबुओं को सतत सोचते रहना होगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement