NDTV Khabar

महिला कॉन्स्टेबल की लिंग परिवर्तन कराने की याचिका की सुनवाई 27 नवंबर को करेगा बॉम्बे HC

मुंबई के बीड जिले में 28 वर्षीय एक महिला कॉन्स्टेबल द्वारा लिंग परिवर्तन सर्जरी कराने के वास्ते छुट्टी लेने के लिए दाखिल की गई याचिका की सुनवाई के लिए बंबई उच्च न्यायालय ने 27 नवंबर की तारीख तय की है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महिला कॉन्स्टेबल की लिंग परिवर्तन कराने की याचिका की सुनवाई 27 नवंबर को करेगा बॉम्बे HC

फाइल फोटो

मुंबई:

मुंबई के बीड जिले में 28 वर्षीय एक महिला कॉन्स्टेबल द्वारा लिंग परिवर्तन सर्जरी कराने के वास्ते छुट्टी लेने के लिए दाखिल की गई याचिका की सुनवाई के लिए बंबई उच्च न्यायालय ने 27 नवंबर की तारीख तय की है. इस याचिका में सर्जरी के लिए महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक को उन्हें छुट्टी देने का निर्देश देने की मांग की गई है. ललिता साल्वे को अब ललित कहलाना पसंद है. 

उन्होंने पिछले महीने लिंग परिवर्तन सर्जरी कराने के लिये एक महीने की छुट्टी मांगी थी. लेकिन बीड पुलिस अधिकारियों ने उनके इस अनुरोध को ठुकरा दिया. इसके बाद उन्होंने उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी. साल्वे के वकील एजाज नकवी ने आज न्यायाधीश एस एम केमकर और न्यायमूर्ति जी एस कुलकर्णी वाली खंडपीठ के समक्ष याचिका का उल्लेख किया. पीठ ने याचिका की सुनवाई 27 नवंबर को तय की है. 

यह भी पढ़ें - लिंग परिवर्तन कराकर पुरुष बनी महिला के खिलाफ खुदकुशी की कोशिश का केस रद्द


याचिका के अनुसार, जून 1988 में जन्मी साल्वे ने तीन साल पहले अपने शरीर में बदलाव देखा और मेडिकल जांच कराई. इसमें पाया गया कि उनके शरीर में वाई क्रोमोसोम की अधिकता है. याचिका में कहा गया, 'याचिकाकर्ता ने सरकारी जे जे अस्पताल में मनोचिकित्सकों से परामर्श लिया. चिकित्सकों ने पाया कि उसे लैंगिक असंतोष विकृति है और सलाह दी कि अगर वह इच्छुक हैं और उनकी दिमागी हालत ठीक है तो लिंग परिवर्तन सर्जरी करा लें.' 

यह भी पढ़ें - लिंग बदलने के लिए छात्र ने अदालत का दरवाजा खटखटाया

टिप्पणियां

साल्वे ने इस संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से संपर्क किया और लिंग परिवर्तन सर्जरी कराने के लिये एक महीने का चिकित्सीय अवकाश मांगा. याचिका में कहा गया है, 'पिछले सप्ताह, बीड जिले के पुलिस अधीक्षक ने याचिकाकर्ता को सूचित किया कि वह लिंग परिवर्तन सर्जरी नहीं करा सकती हैं और उन्हें छुट्टी देने से मना कर दिया.' याचिका में आरोप लगाया गया है कि यह फैसला याचिकाकर्ता के मौलिक अधिकारों का हनन है.

VIDEO: दिल्‍ली : बवाना में बदमाशों ने कॉन्स्टेबल की गोली मारकर हत्या की



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement