NDTV Khabar

जब न्‍याय की सुनवाई के लिए रात को लगी अदालत, जज ने सुबह 3.30 तक निपटाए 100 मामले

बंबई हाईकोर्ट में ग्रीष्म अवकाश से पहले शुक्रवार को आखिरी कार्यदिवस पर अधिकतर न्यायाधीश जहां शाम पांच बजे तक लंबित मामलों और अत्यावश्यक सुनवाई से जुड़े मामलों को निपटाते रहे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जब न्‍याय की सुनवाई के लिए रात को लगी अदालत, जज ने सुबह 3.30 तक निपटाए 100 मामले

न्यायमूर्ति शाहरूख जे कथावाला की फाइल फोटो

खास बातें

  1. एक न्यायाधीश ने अपनी अदालत में शनिवार सुबह तक सुनवाई की
  2. उन मामलों की सुनवाई की गई जिनमें अत्यावश्यक आधार पर अंतरिम राहत मांगी गई
  3. सुबह साढ़े तीन बजे तक सुनवाई की और याचिकाओं पर आदेश पारित किये
मुंबई: बंबई हाईकोर्ट में ग्रीष्म अवकाश से पहले शुक्रवार को आखिरी कार्यदिवस पर अधिकतर न्यायाधीश जहां शाम पांच बजे तक लंबित मामलों और अत्यावश्यक सुनवाई से जुड़े मामलों को निपटाते रहे तो वहीं एक न्यायाधीश ने अपनी अदालत में शनिवार सुबह तक सुनवाई की. वह उन मामलों की सुनवाई कर रहे थे जिनमें अत्यावश्यक आधार पर अंतरिम राहत मांगी गई थी. 

शादी की उम्र नहीं तो 'लिव इन' में रहें, सुप्रीम कोर्ट ने पलटा केरल हाईकोर्ट का फैसला

न्यायमूर्ति शाहरूख जे कथावाला ने खचाखच भरी अदालत में सुबह साढ़े तीन बजे तक सुनवाई की और इस दौरान जिरह सुन याचिकाओं पर आदेश पारित किये. अदालत में न्यायाधीश के रहने तक मौजूद एक वरिष्ठ वकील ने कहा, ‘अदालत कक्ष उन वरिष्ठ अधिवक्ताओं, वकीलों और याचिकाकर्ताओं से भरा हुआ था जिनके मामलों की सुनवाई हो रही थी. उनकी अदालत में करीब 100 से ज्यादा दीवानी याचिकाएं लगी थीं जिनमें अत्यावश्यक आधार पर अंतरिम राहत मांगी गई थी.’ 

चेन्नई: कोर्ट ने 14 वर्षीय बलात्कार पीड़िता को दी गर्भपात की अनुमति

यह पहला मौका है जब न्यायमूर्ति कथावाला अदालत में इतनी देर तक बैठे थे. दो हफ्ते पहले भी हालांकि उन्होंने अपने कक्ष में आधी रात तक मामलों की सुनवाई की थी. एक अन्य वरिष्ठ अधिवक्ता प्रवीण समदानी ने कहा, ‘न्यायमूर्ति कथावाला उस समय भी (सुबह साढ़े तीन बजे) इतने ही ताजादम दिख रहे थे जैसा कि सुबह कार्यालय आने पर कोई लगता है. मेरा मामला सबसे अंत में सुने जाने वाले मामलों में शामिल था. तब भी न्यायाधीश ने बेहद धैर्यपूर्वक हमारी बात सुनी और आदेश पारित किया.’ 

टिप्पणियां
न्यायमूर्ति कथावाला अक्सर दूसरे न्यायाधीशों के मुकाबले करीब एक घंटा पहले सुबह 10 बजे अदालती कार्यवाही शुरू कर देते हैं और पांच बजे के बाद भी मामलों की सुनवाई करते रहते हैं. उनके स्टाफ के एक सदस्य ने बताया कि देर तक मामले की सुनवाई करने के बावजूद अगले दिन न्यायाधीश सुबह तय समय पर अपने कक्ष में लंबित मामलों को निबटाने के लिये पहुंच गए.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement