NDTV Khabar

अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दिए जाने का विरोध करने वाले AIMIM पार्षद को जेल

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दिए जाने के प्रस्ताव का पिछले सप्ताह विरोध करने वाले एआईएमआईएम पार्षद को शराब के अवैध कारोबार और कुछ अन्य आरोपों में गिरफ्तार कर लिया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दिए जाने का विरोध करने वाले AIMIM पार्षद को जेल

एआईएमआईएम पार्षद को एक साल की जेल हुई है.

खास बातें

  1. एआईएमआईएम पार्षद को एक साल की जेल
  2. पार्षद ने वाजपेयी को श्रद्धांजलि दिए जाने का विरोध किया था
  3. पार्षद एक साल तक हिरासत में रहेंगे
मुंबई: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दिए जाने के प्रस्ताव का पिछले सप्ताह विरोध करने वाले एआईएमआईएम पार्षद को शराब के अवैध कारोबार और कुछ अन्य आरोपों में गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस के एक अधिकारी ने  बताया कि औरंगाबाद से ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) के पार्षद सय्यद मतीन सैयद राशिद (32) को महाराष्ट्र खतरनाक गतिविधि निरोधक अधिनियम (एमपीडीए) के तहत गिरफ्तार कर लिया गया. 

अटल जी की भतीजी ने कहा- बीजेपी अब अपनी डूबती नैया के लिए सहारा बनाना चाहती है वाजपेयी को

अधिकारी ने बताया, “17 अगस्त को औरंगाबाद महानगरपालिका की आम सभा की बैठक में मतीन ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने वाले एक प्रस्ताव का विरोध किया था. उनकी कथित रूप से भाजपा के कुछ पार्षदों ने पिटाई कर दी थी.” अधिकारी ने बताया कि इसके बाद सिटी चौक थाने ने मतीन को आईपीसी की धारा 153-ए (विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देने), 153 (दंगा भड़काने के इरादे से जानबूझकर उकसाना) और 294 (सार्वजनिक तौर पर अश्लील हरकत करना) के तहत गिरफ्तार कर लिया था. 

अटल बिहारी वाजपेयी के श्रद्धांजलि कार्यक्रम में हंसी ठिठोली करते दिखे छत्तीसगढ़ सरकार के दो मंत्री

टिप्पणियां
थाने के वरिष्ठ निरीक्षक डी एस सिंघाड़े ने बताया, “पार्षद को औरंगाबाद स्थित हर्सुल जेल भेज दिया गया था और उन्हें मंगलवार को जमानत मिल गयी थी. उसी दिन हमने शहर के पुलिस आयुक्त द्वारा एमपीडीए के तहत दिए गए आदेश से अवगत करा दिया था.” उन्होंने बताया कि मतीन के खिलाफ पूर्व में भी दो मामले दर्ज हुए थे. सिंघाड़े ने कहा, “उनके आपराधिक रिकॉर्ड का विश्लेषण करने के बाद हमने पाया कि वह खतरनाक व्यक्ति है और दो समुदायों के बीच शत्रुता पैदा कर सकता है.” 

VIDEO: अस्थि कलश यात्रा के नाम पर प्रचार की कोशिश?
एमपीडीए के प्रावधानों के मुताबिक पार्षद एक साल तक हिरासत में रहेंगे.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement